ताज़ा समाचार (Fresh News)

कॉमनवेल्थ गेम्स के 5 लाख के टिकट गायब

कॉमनवेल्थ गेम्स को देश की आन-बान-शान से जोड़ने वाली ऑर्गेनाइजिंग कमिटी एक नए घोटाले में फंसती नजर रही है।
इस बार मामला गेम्स टिकट का है। एक ओर जहां गेम्स के दौरान स्टेडियम वीरान दिखाई दे रहे हैं, तो दूसरी ओर गेम्स देखने वाले दर्शकों को टिकट खिड़की से टिकट मांगने पर टका सा जवाब मिल रहा है कि टिकट उपलब्ध नहीं है। इसके चलते जब इस मसले पर ओसी चीफ सुरेश कलमाड़ी से पूछा गया, तो उनका कहना है कि हमने सभी खेलों के लिए 14 लाख टिकट का इंतजाम किया है और उनमें से 9 लाख टिकट बिक चुके हैं। लेकिन जब उनसे इसी आकंडे को आधार बनाते हुए बाकी बचे 5 लाख टिकटों का हिसाब पूछा तो वह अगल-बगल झांकने लगे। उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्हें जानकारी नहीं है, कमिटी इस बारे में पता लगाने की कोशिश कर रही है।

टिकटों के अलावा कमिटी ने 3 लाख कॉम्पलिमेंटरी पास की भी व्यवस्था की थी, लेकिन ओसी के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार लोग पास लेने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं।

शुक्रवार को गेम्स देखने पहुंचे ऐसे बहुत से दर्शको को निराशा हाथ लगी जो टिकट लेने के लिए बुकिंग विंडो पर पहुंचे। दिल्ली के ऋषभ अरोड़ा ने बताया कि शुक्रवार को बहुत से खेलों में तो भारत शामिल भी नहीं था, लेकिन फिर भी टिकट उपलब्ध नहीं हुए, जबकि अमूमन देखा जा रहै है कि स्टेडियम खाली पड़े हुए हैं, ऐसा क्यों हो रहा है, समझ में नहीं आता है। एक दूसरे खेल प्रेमी अमरजीत ने बताया कि संडे को भारत-पाक के बीच होने वाले हॉकी मैच के टिकट भी पिछले हफ्ते से उपलब्ध नहीं है और पास भी नहीं मिल रहे हैं। वैसे इस मसले पर कलमाड़ी ने कहा कि दर्शकों ने टिकटें तो खरीदी हैं, लेकिन गर्मी के चलते लोग मैच देखने नहीं आ रहे हैं।

घोटाले दर घोटालो के लिए जाने जाने वाले यह कॉमनवेल्थ गेम्स में हुए इस टिकट घोटाले पर वैसे कई तरीके की बातें सामने आ रही हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बड़ी तादाद में टिकट कबाड़ में बेच दिए गए हैं, तो कुछ के अनुसार अभी पूरे टिकट प्रिंट नहीं हुए है, कुछ लाख टिकटों की प्रिंटिंग चल रही है।

इस मसले पर शनिवार दोपहर सीजीएफ अध्यक्ष माइकल फेनेल ने बताया कि आज एक बैठक में यह फैसला किया गया है कि इस मामले की जांच होगी और इसकी रिपोर्ट संडे तक सौंप दी जाएगी।

आस्ट्रेलिया के शीर्ष पुलिस अधिकारियों ने एक भारतीय की मौत का मजाक उड़ाया

एक चौंकाने वाली घटना में आस्ट्रेलिया के शीर्ष पुलिस अधिकारियों को ई-मेल पर एक भारतीय के रेल यात्रा के दौरान बिजली के झटके लगने से मौत होने की घटना का मजाक उड़ाते देखा गया । इस ई-मेल में सलाह दी गई है कि मेलबर्न में भारतीय छात्रों की समस्या सुलझाने के लिए यह एक तरीका हो सकता है ।

‘हेराल्ड सन’ ने आज खबर दी कि ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया प्रांत के पुलिस अधिकारियों ने एक वीडियो को वितरित किया जिसमें भारतीय ट्रेन की छत पर सफर कर रहे एक व्यक्ति को मरते दिखाया गया है ।

वीडियो में दिखाया गया कि जब ट्रेन रूकी और वह व्यक्ति उठा तो उसका सर उपर लगे बिजली के एक तार से जा टकराया । उसे बिजली का करंट लगने से आसपास के लोग चीख पड़े ।

स्तब्ध करने वाली इस वीडियो का विक्टोरिया पुलिस के कम्प्यूटर सिस्टम में वितरित किया गया और उसमें नस्ली टिप्पणियां जोड़ी गईं जिसमें सलाह दी गई कि ‘‘भारतीय छात्र की समस्या को सुलझाने का यह तरीका हो सकता है ।’’

अन्नाद्रमुक पार्टी के सह प्रचार सचिव एस एस चंद्रन की दिल का दौरा पड़ने से मौत

तमिल सिने जगत के विख्यात हास्य कलाकार और अन्नाद्रमुक पार्टी के सह प्रचार सचिव एस एस चंद्रन की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। वह 69 वर्ष के थे।

उनके परिवार में उनकी पत्नी, पुत्र और दो पुत्री हैं। उनका पुत्र रोहित अभिनेता है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार चंद्रन मन्नारगुडी में पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने गए हुए थे। होटल लौटने के बाद उन्होंने जी मिचलाने और सांस में दिक्कत की शिकायत की। इसके बाद स्थानीय अस्पताल में ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

चंद्रन ने अपने फिल्मी कैरियर की शुरूआत 15 वर्ष की उम्र में की थी और उन्होंने 800 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया। इसके अलावा उन्होंने चार फिल्मों का निर्माण भी किया।

हाईकोर्ट का फैसला स्वीकार करें मुस्लिम - मौलाना महमूद मदनी

मुस्लिम समाज के प्रतिष्ठित नेता और जमात उलेमा ए हिंद के धर्मगुरु मौलाना महमूद मदनी ने मुस्लिमों से इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला स्वीकार करने को कहा है। सुन्नी मुस्लिम समाज के सबसे बड़े संगठन के प्रमुख मौलाना मदनी ने कहा कि मुस्लिम समुदाय इस पर शांति से विचार करे और फैसले को स्वीकार करे। हालांकि मदनी ने कहा कि ये उनके व्यक्तिगत विचार हैं। वे मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य भी हैं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर विचार विमर्श के लिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की कार्यकारिणी की 16 अक्टूबर को लखनऊ में बैठक हो रही है। बोर्ड पहले ही मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दिए जाने की वकालत कर चुका है। लेकिन बोर्ड की लीगल सेल आज मिल रही है, जिसमें फैसले से जुड़े कानूनी पहलुओं पर विचार किया जाएगा।

जाने माने देवबंदी सुन्नी मुस्लिम नेता और जमात उलेमा ए हिंद के नेता मौलाना महमूद मदनी ने मुस्लिम समाज से कहा है कि देश के लिए यह बेहतर होगा कि दोनों समाज अपने अपने धर्म स्थल वहां बनाएं। उन्होंने कहा कि जमात उलेमा ए हिंद की अयोध्या विवाद पर चर्चा के लिए 19 अक्टूबर को बैठक होगी।

उधर, अयोध्या में हाशिम अंसारी के सुलह समझौते के प्रयासों से नाराज कुछ लोगों ने शुक्रवार को मस्जिदों में प्रस्ताव पास करने की कोशिश की। सूत्रों का कहना है कि मस्जिदों में नमाज के बाद एक पर्चा पढ़ा गया, जिसमें अंसारी की सुलह समझौते की खिलाफत की गई थी। पर्चे के जवाब में नमाजियों ने कहा कि अभी तक हाशिम ने कोई फामरूला पेश नहीं किया है। ऐसे में विरोध करना गैरवाजिब होगा।

उधर, फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मौलाना एम मुकर्रम अहमद ने दिल्ली में जारी बयान में कहा है कि अयोध्या विवाद में बातचीत के लिए अब मौका नहीं है और मामले का कोर्ट से समाधान होना चाहिए। अखिल भारत हिंदू महासभा ने भी सभी हिंदू संगठनों से अपील की है कि वे रामजन्मभूमि पर किसी तरह के समझौते के लिए मुस्लिम संगठनों से बातचीत न करें। हम सुप्रीम कोर्ट में जाने का फैसला कर चुके हैं।

भाजपा ने निर्दलियों सहित अपने सभी बिधायको को व्हिप जारी किया

कर्नाटक में सत्ताधारी भाजपा पांच निर्दलीय समेत अपने सभी 116 विधायकों को व्हिप जारी किया है पार्टी के मुख्य सचेतक डीएन जीवराज ने कहा कि व्हिप शुक्रवार दोपहर से प्रभावी हो चुका है

व्हिप का उल्लंघन नहीं किया जा सकता। उन्होंने निर्दलियों को भी व्हिप जारी करने की प्रक्रिया को यह कहते हुए न्यायसंगत ठहराया कि ऐसा पहले भी किया जा चुका है। उन्होंने इन निर्दलियों को सह-सदस्य की भी संज्ञा दी। सरकार इन निर्दलियों के समर्थन से बनी थी, लेकिन अब इन्होंने समर्थन वापस ले लिया।

225 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 117 सदस्य हैं, जिनमें अध्यक्ष के जी बोपय्या भी शामिल है।

बाबा रामदेव और राहुल गाँधी में गुप्त वार्ता

योग गुरू बाबा रामदेव ने खुलासा किया है कि उन्होंने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी के साथ गुप्त मंत्रणा की है. इस बैठक में देश की कई बड़ी समस्याओं पर चर्चा हुई.


रामदेव ने राहुल से मुलाकात की मांग की थी और राहुल ने उन्हें मौका दिया था. एक घंटे तक चली वार्ता में राहुल गाँधी ने उनकी बातें ध्यान से सुनी और काले धन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से विचार विमर्श करने को कहा.

बिहार भाजपा के अध्यक्ष सी़ पी़ ठाकुर ने इस्तीफा दिया

भारतीय जनता पार्टी की बिहार इकाई के अध्यक्ष सी़ पी़ ठाकुर ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। हालांकि वह भाजपा में बने रहेंगे।ठाकुर ने शुक्रवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी को अपना इस्तीफा भेज दिया है।

उन्होंने कहा कि वह भाजपा में बने रहेंगे परंतु चुनाव कार्य में भाग नहीं लेंगे।समझा जाता है कि उनके पुत्र विवेक ठाकुर को पार्टी द्वारा बांकीपुर से टिकट नहीं दिए जाने के कारण नाराज ठाकुर ने अपना इस्तीफा दिया है।

उन्होंने हालांकि कहा कि उनकी पार्टी से नाराजगी है परंतु इसका एक कारण केवल बांकीपुर से टिकट का मामला नहीं है। उन्होंने कहा कि इस्तीफा के कई कारण हैं। उन्होंने पार्टी में खुद की अनदेखी का आरोप लगाया है।

अयोध्या का फैंसला अनूठा - स्वामी रामदेव

योग गुरू बाबा रामदेव का मानना है कि अयोध्या में विवादास्पद भूमि मालिकाना हक को लेकर हुए विवाद में आया फैसला अपने आप मेंअनूठाहै क्योंकि इसने दोनों समुदायों को संतुष्ट किया है।

बाबा रामदेव ने कहा ‘‘उच्च न्यायालय के तीन न्यायाधीशों की ओर से आया यह फैसला अनूठा है और विवाद सुलझ गया है क्योंकि इसने दोनों समुदायों को संतुष्ट किया है।’’ उन्होंने कहा कि अगर कोई विवाद रह भी जाता है तो मामले को उच्चतम न्यायालय में घसीटने के बजाय उसे आपस में मिल बैठकर सुलझा लेना चाहिए।

योग गुरू ने कहा कि संपूर्ण विश्व मानता है कि राम का जन्म अयोध्या में हुआ और फैसले ने इस तथ्य को सबके सामने ला दिया।

किश्तवाड़ में एक मंदिर से भगवान कृष्ण की प्रतिमा चोरी

किश्तवाड़ जिले में एक मंदिर से भगवान कृष्ण की प्रतिमा चोरी होने के बाद आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है और चार विशेष पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है ।

किश्तवाड़ के पुलिस अधीक्षक हसीब मुगल ने प्रेट्र को बताया कि कुछ लोग कल रात प्राचीन गौरीशंकर मंदिर में घुसे और ग्रिल के ताले तोड़कर मूर्ति चुरा ले गए ।

उन्होंने बताया कि चोरी के समय पुजारी सहित मंदिर के चार कर्मी मंदिर परिसर में सोए हुए थे और पुलिस सुरक्षा मुख्य द्वार पर थी ।

मुगल ने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया गया है और ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर चार विशेष पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है ।

उन्होंने बताया कि पूछताछ के लिए आठ लोग हिरासत में लिए गए हैं और जांच जारी है ।

अधिकारी ने कहा ‘‘हमारा मानना है कि यह चोरी का मामला है क्योंकि सेंधमारों ने मूर्ति को सोने का समझा होगा । हम इसमें सांप्रदायिक शरारत की संभावना से इंकार करते हैं ।’’ इस प्रतिमा को वृंदावन से लाया गया था और यह वर्ष 2002 में मंदिर में स्थापित की गई थी ।

मुगल ने कहा कि मामले में एक विशेष जांच टीम :एसआईटी: की गई है ।

राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को शैतान राष्ट्र घोषित करने की मांग की

भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने कहा है कि पाकिस्तान और उन अन्य देशों कोशैतान राष्ट्रघोषित किया जाना चाहिए जहाँ से आतंकवादी अपनी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुंबई हमले के आघात से भारत अभी नहीं उबरा है।

भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सिंह ने कहा कि क्योंकि उसकी (पाकिस्तान की) धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए हो रहा है इसलिए उसे शैतान या असफल राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि भारत दशकों से आतंकवाद का शिकार रहा है। भारत के लोग आतंकवाद के खिलाफ युद्ध की भारी कीमत चुकाते रहे हैं। सिंह ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा कि 2008 में मुंबई में हुए खौफनाक हमले की भयावह यादें अब भी जीवित हैं। इस हमले की योजना सीमापर से बनाई गई और क्रियान्वित की गई और सारी दुनिया ने इसे टीवी पर देखा। हम इस चुनौती से निर्णायक तौर पर निपटने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

सिंह ने कहा कि अगर ऐसा होता है तो संयुक्त राष्ट्र महासभा या सुरक्षा परिषद को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ हमारे जंग की भारी कीमत भारत के लोगों को चुकानी पड़ी है। आतंकवाद एक वैश्विक चुनौती है और इससे निपटने के लिए समन्वित वैश्विक प्रयास की जरूरत है।

कर्नाटक में भाजपा सरकार को अब कोई खतरा नहीं

कर्नाटक में भाजपा सरकार पर बरकरार संकट के खत्म होने के आसार नजर रहे हैं। जिन 19 विधायकों के बागी तेवरों के कारण यह संकट पैदा हुआ था उन्हें गुरुवार को पार्टी पटरी पर लाने में कामयाब हो गई लगती है। बागी विधायकों की मुहिम का नेतृत्व करने वाले राज्य के आबकारी मंत्री एमपी रेणुकाचार्य मंत्री ने यू टर्न ले लिया है।

उन्होंने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को अपना नेता बताया है। साथ ही यह भी घोषणा कर दी है कि अगले सप्ताह विधानसभा में विश्वास मत पर होने वाली वोटिंग के दौरान सरकार को कोई खतरा नहीं है। माना जा रहा है कि बागी नेताओं को रजामंद करने की कोशिशों और भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व की ओर से दलबदल कानून के तहत नोटिस थमाने की धमकी के कारण रेणुकाचार्य को अपना स्टैंड बदलना पड़ा है।

रेणुकाचार्य ने गोवा के एक होटल से एक कन्नड़ टीवी चैनल से बातचीत में कहा ‘येदियुरप्पा हमारे नेता हैं। सरकार स्थिर है। हम कल बेंगलुरू वापस जा रहे हैं।’ गौरतलब है कि गोवा के जिस होटल से रेणुकाचार्य ने फोन पर बात की, उस होटल में उनके साथ 14 बागी विधायक भी ठहरे हैं।

इससे पहले सरकार बचाने के लिए जूझ रहे कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार को दो और मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया। हटाए गए मंत्री आनंद असनोतिकर और बालचंद्र जराकिहोली हैं, जो विद्रोही विधायकों का नेतृत्व कर रहे थे। इससे पहले भी चार मंत्री बर्खास्त किए गए हैं। केरल के कन्नूर की धार्मिक यात्रा पर रवाना होने से पूर्व येदियुरप्पा ने संवाददाताओं को मंत्रियों की बर्खास्तगी की जानकारी दी। उन्होंने दूसरे विधायकों को भी विद्रोही गतिविधियों से बाज आने की चेतावनी दी है। वे कन्नूर में श्री राजराजेश्वरी मंदिर में अपनी सरकार बचाने के लिए विशेष पूजा करने जा रहे हैं।

इस बीच राजनीतिक गहमा गहमी बढ़ गई है। जोड़तोड़ के डर से कांग्रेस और जनता दल एस ने अपने-अपने विधायकों को गोपनीय और सुरक्षित जगहों पर भेज दिया है। कर्नाटक में 7 मंत्रियों सहित 19 विधायकों ने राज्यपाल को पत्र सौंप कर येदियुरप्पा सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। इसके बाद राज्यपाल एचआर भारद्वाज ने येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने के निर्देश दिए हैं

राष्ट्रमंडल खेलों में गोमांस परोस रही है कांग्रेस सरकार - मोदी

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजकों पर फिर हमला बोला है। मोदी ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में गोमांस परोसा जा रहा है।वडोदरा में एक चुनावी सभा में मोदी ने कहा, 'राष्ट्रमंडल खेलों के नाम पर कांग्रेसी नेता करोड़ों का भ्रष्टाचार कर रहे हैं।

हिंदुस्तान में गाय को माता के रूप में पूजा जाता है। देश के कई राज्यों में गोवध पर प्रतिबंध है, इसके बावजूद राष्ट्रमंडल खेलों में आए विदेशियों को गोमांस परोसा जा रहा है।' मोदी ने कांग्रेस की रीति व नीति को देश की संस्कृति के खिलाफ बताते हुए जनता से आह्वान किया कि राज्य में 10 अक्टूबर को होने वाले महानगर पालिका चुनाव में कांग्रेस का पूरी तरह सफाया कर दें।

मोदी की सिमी से तुलना करने वाले कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए पूर्व क्रिकेटर व भाजपा सांसद नवजोत सिंह सिद्धू ने अहमदाबाद में एक चुनावी सभा में कहा, 'राहुल को राष्ट्रवादी और देशद्रोही संगठन में फर्क पता नहीं है। चाटुकार लोग उन्हें जो लिखकर देते है उसी को वे पढ़ जाते है।

'मोदी को देवराज इंद्र के समान बताते हुए सिद्धू ने कहा, 'देश के भले के लिए मोदी को अगला प्रधानमंत्री बनना चाहिए ताकि गुजरात की तरह देश भी शाति, सुरक्षा और विकास का अनुभव कर सके।'

उमर अब्दुल्ला ने अपना असली चेहरा दिखाया

जम्मू-कश्मीर विधानसभा में आज मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की टिप्पणी को लेकर विपक्षी भाजपा और नेशनल पैन्थर्स पार्टी के विधायकों ने खूब हंगामा किया। विरोध कर रहे विधायकों ने जब आसन के समक्ष आने की कोशिश की तो उन्हें मार्शल जबरदस्ती बाहर ले गए।

भाजपा के वरिष्ठ नेता चमन लाल गुप्ता ने बताया कि इसी दौरान पैंथर्स पार्टी का एक सदस्य और भाजपा के तीन सदस्य जुगल किशोर, सुखनंदन और लालचंद घायल हो गए। भाजपा विधायक दल ने विधानसभा सत्र के शेष भाग के बहिष्कार का फैसला किया है। सत्र नौ अक्टूबर को समाप्त होगा।

उमर अब्दुल्ला ने राज्य की कानून व्यवस्था की स्थिति पर विधानसभा में हुई दो दिवसीय बहस के समापन पर कल कुछ टिप्पणियाँ की थीं जिन्हें लेकर भाजपा सदस्य नाराज हो गए।

भाजपा का कहना है कि जम्मू-कश्मीर के संबंध में ऐसा कोई विवाद नहीं है जिसे हल किया जाना है। भाजपा के इस रुख का प्रत्यक्ष संदर्भ देते हुए उमर ने कहा था कि अगर ऐसा होता तो शिमला समझौता, लाहौर घोषणापत्र तथा आगरा और दिल्ली में बातचीत की कोई जरूरत नहीं होती।

उमर ने यह भी कहा था कि कश्मीर एक मुख्य मुद्दा है जिसके हल की जरूरत है। कश्मीर का भारत में विलय नहीं हुआ था बल्कि कुछ कुछ विशेष शर्तों के साथ एक समझौता था. उन्होंने कहा था कि यह एक राजनीतिक मुद्दा है और इसे सिर्फ विकास, रोजगार ओर बेहतर प्रशासन से ही नहीं सुलझाया जा सकता।

जामा मस्जिद गोलीबारी काण्ड में आरोपियों पर 10 लाख का इनाम

दिल्ली पुलिस ने गुरूवार को घोषणा की कि जामा मस्जिद के निकट पिछले महीने हुई गोलीबारी में शामिल दो बाइक सवारों के बारे में जानकारी देने वाले को 10 लाख रूपये का इनाम दिया जाएगा।

इनाम की घोषणा शहर के पुलिस आयुक्त वाई.एस. डडवाल ने की। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ""हमने इस मामले में अब तक लगभग 50 लोगों से पूछताछ की है। हमलावरों का सुराग लगाने के लिए कई टीमें उत्तर प्रदेश और मुम्बई भेजी गई हैं।""

उल्लेखनीय है कि जामा मस्जिद के गेट नंबर तीन के बाहर हुई इस घटना में दो ताइवानी नागरिक घायल हो गए थे।

आरएसएस, विहिप और बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाओ - रामविलास पासवान

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष रामविलास पासवान ने गुरूवार को कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), विश्व हिन्दु परिषद (विहिप) तथा बजरंग दल पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए।

विधानसभा चुनाव प्रचार पर जाने से पूर्व पटना हवाई अड्डे पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए पासवान ने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी के बयान पर कहा कि वह कांग्रेस के महासचिव हैं और उनके द्वारा यह बात उठाए जाने के बाद भी केंद्र सरकार आरएसएस, विहिप और बजरंग दल पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगाती।

पासवान ने कहा कि वह पिछले 10 वर्षो से इन संगठनों पर प्रतिबंध लगाने की मांग करते रहे हैं और आज भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केवल बोलने से कुछ नहीं होगा।

प्रकाश सिंह बादल बाथरूम में गिर कर घायल हुए

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को बाथरूम में गिर जाने के बाद अस्पताल ले जाया गया है. आज सुबह वे अपने घर के बाथरूम में गिर गए थे. उनके मुंह और आखों के पास थोड़ी सी चोट आई है.

बादल को चिकित्सकों की निगरानी में PGIMER अस्पताल में रखा गया है.

Haryana Home Secretary Krishna Mohan has been Removed from his Post

Haryana Home Secretary Krishna Mohan has been removed from his post, officials said Thursday, two days after he and two others were booked by the Central Bureau of Investigation (CBI) in a graft case.

Financial Commissioner and Principal Secretary Samir Mathur will be the new home secretary of the state, a state government spokesperson said here Thursday. He was earlier heading the transport department.

Krishna Mohan was Wednesday night shifted to the forests department. Keshni Anand Arora will be the new transport secretary.

खुद को मुसलमानों का खैरख्वाह साबित करने वाले राहुल गाँधी के बयान की तीखी आलोचना

कांग्रेस के महासचिव राहुल गांधी द्वारा प्रतिबंधित संगठन सिमी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को कट्टरपंथी विचारधारा वाले एक जैसे संगठन बताये जाने पर भारतीय जनता पार्टी, संघ, और विश्व हिन्दू परिषद ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है जबकि कांग्रेस ने श्री गांधी के बयान को सही ठहराया है.

अयोध्या पर हाई कोर्ट के फैसले के बाद से मुसलमानों के बीच अपनी सियासत संभालने की कोशिश कर रही कांग्रेस ने संघ परिवार पर हमला बोलने की रणनीति अपनाई है। बावजूद इसके कि हाई कोर्ट के फैसले पर संघ परिवार ने भले ही संयम दिखाया हो, लेकिन कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने उसकी तुलना आतंकी संगठन सिमी से कर सियासत गरमा दी है।

राहुल के बयान के बाद संघ और भाजपा की तरफ से तीखी प्रतिक्रिया हुई तो पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी महासचिव दिग्विजय सिंह भी इस दंगल में कूद पड़े।अयोध्या का फैसला आने के बाद संघ प्रमुख मोहन भागवत ने बेहद सधा हुआ बयान दिया था कि 'न कोई जीता न कोई हारा।'

वहीं, सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने फैसले की तीखी आलोचना कर खुद को मुस्लिमों के सबसे बड़े झंडाबरदार के रूप में पेश किया था। इन स्थितियों में कांग्रेस को सियासी नुकसान नजर आ रहा था। इससे उबरने के लिए ही उसने सोची-समझी रणनीति के तहत अपने तुरुप के पत्ते राहुल गांधी को आगे कर दिया। खुद को मुसलमानों का खैरख्वाह साबित करने और संघ के चेहरे से इस उदारता के मुखौटे को उतारने के लिए राहुल ने भाजपा शासित मध्य प्रदेश को चुना।राहुल ने भोपाल में कहा कि 'सिमी और आरएसएस दोनों कंट्टरपंथी विचारधारा के समर्थक हैं।'

राहुल के इस बयान को संघ ने तत्काल औचित्यहीन करार दिया। संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी राम माधव ने कहा कि 'राहुल को लंबी राजनीति करनी है तो पहले वह इतिहास को पढ़ें और भारत को ठीक से जानें। उन्हें समझाना चाहिए कि संघ, सिमी और कांग्रेस का क्या इतिहास है।' माधव ने कांग्रेस पर पिछले 60 वर्षो से कंट्टरता को बढ़ाने का आरोप लगाया। भाजपा ने भी राहुल पर हमला बोला और कहा कि कांग्रेस महासचिव अपना मानसिक संतुलन खो बैठे हैं। पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि संघ राष्ट्रवाद की पाठशाला है और सिमी राष्ट्रद्रोही संगठन है। कांग्रेस अपने राजनीतिक फायदे के लिए अतार्किक तुलना कर रही है।

उन्होंने कहा कि राहुल का यह बयान उनकी अपरिपक्वता, उद्दण्डता और अज्ञानता का परिचायक है।राहुल पर हमले बढ़ते देख तुरंत दिग्विजय मैदान में कूदे और संघ परिवार को सांप्रदायिक और कंट्टरवादी संगठन करार देने के लिए कई नाम गिना डाले। कांग्रेस महासचिव ने कहा कि 'संघ की कोई विश्वसनीयता नहीं है। अजमेर ब्लास्ट के आरोपी देवेंद्र गुप्ता, सुनील जोशी, सुनील डांगे और राजेश कालकर सभी संघ की पाठशाला से निकले हैं।' दिग्विजय ने कहा कि मुख्य मुद्दा है धार्मिक कंट्टरपन है, जिससे कांग्रेस आजादी के पहले से लड़ती चली आ रही है।

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष महबूब अली कैसर के खिलाफ केस दर्ज

बिहार के मधेपुरा जिले में दो अलग-अलग थानों में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष महबूब अली कैसर और आलमनगर विधानसभा क्षेत्र से पार्टी प्रत्याशी लवली आनंद के खिलाफ चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के मामले दर्ज किए गए हैं।

अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी [एसडीपीओ] गजेंद्र प्रसाद सिंह ने बुधवार को बताया निर्धारित समय के बाद हेलीकाप्टर उतारने और सभा करने पर दोनों नेताओं के खिलाफ मंगलवार की रात उदा किशनगंज तथा चौसा थाने में आचार संहिता उल्लंघन के मामले दर्ज किए गए।
सिंह ने बताया कि कांग्रेस प्रत्याशी लवली आनंद ने चार अक्टूबर को जिले के उदा किशनगंज एसडीओ के समक्ष अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था।

इसी दिन कैसर और कांग्रेस प्रत्याशी को दो अलग-अलग स्थानों पर नामांकन के बाद होने वाली जनसभाओं को संबोधित करना था। निर्धारित समय के बाद देर से उदा किशनगंज और चौसा में सभाओं के आयोजन करने और हेलीकाप्टर उतारने पर दोनों के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के मामले दर्ज किए गए।

बताया कि उदा किशनगंज में कैसर का हेलीकाप्टर पूर्वाह्न 11.40 बजे उतरना था लेकिन यह शाम 3.17 बजे पहुंचा। इसी प्रकार चौसा में भी निर्धारित समय का उल्लंघन हुआ।

Shia leaders not agreed with VHP’s Ayodhya Proposal

Prominent representatives of the Shia sect of Muslims here Wednesday rejected Vishwa Hindu Parishad (VHP) chief Ashok Singhal’s offer to hold talks on the Ayodhya issue.

In a statement issued earlier during the day in Mumbai, Singhal had said that since the high court had dismissed the Sunni Waqf Board’s suit staking a claim to the disputed Ramjanmabhoomi-Babri Masjid land in Ayodhya, the VHP would now hold talks with Shia organizations.

The VHP supremo said: “Mughal emperor Babar’s army commander Mir Baqi, who built the Babri Masjid was a Shia, therefore we have decided to hold talks with representatives of the community.”

Reacting sharply to Singhal’s statement, widely acclaimed Shia scholar and cleric Maulana Kalbe Sadiq, who was also senior vice president of All India Muslim Personal Law Board, said: “We are not interested in any move initiated by Singhal, who only believed in playing the politics of hatred.”

He said: “It is quite apparent that after failing to forge a divide between Hindus and Muslims, the VHP was now trying to incite a confrontation between Shias and Sunnis; but we will not play into their hands.”

Expressing similar views, another well-known Shia cleric Maulana Kalbe Jawad said: “There was absolutely no logic in Singhal’s explanations, which were clearly aimed at bringing Shias at loggerheads with Sunnis.”

“A mosque is a place of worship which cannot be restricted to a particular sect of Muslims,” he said.

Maulana Mohammad Athar, who heads the All India Shia Muslim Personal Law Board, also flayed Singhal for his remarks.

मुलायम और बुखारी अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनवाने के फ़िराक में

अयोध्या विवाद पर हाईकोर्ट के फैसले से असंतुष्ट मुसलमानों को लामबंद करने के लिए अल्पसंख्यक राजनीति को गरमाने की कोशिशें तेज हो गई हैं।शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने बृहस्पितवार को जामा मस्जिद में देश भर के उलेमाओं और मुस्लिम बुद्धिजीवियों की बैठक बुलाई है।

इधर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने बुखारी से बुधवार को जामा मस्जिद में तकरीबन डेढ़ घंटे तक गुफ्तगू की। उलेमाओं की बैठक से ठीक एक दिन पहले मुलायम-बुखारी की इस मुलाकात को बाबरी मस्जिद के संदर्भ में काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। बुखारी से बातचीत के बाद मुलायम ने कोर्ट के फैसले को खारिज करते हुए कहा कि वह इसे संसद के आगामी सत्र में जोरशोर से उठाएंगे।

उन्होंने कांग्रेस और भाजपा दोनों को ही अयोध्या विवाद का बराबर का जिम्मेदार ठहराया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, दिल्ली के जामा मस्जिद में आहूत उलेमाओं और बुद्धिजीवियों की बैठक कल 10 बजे से शुरू होगी। माना जा रहा है कि मुलायम सिंह यादव की आज शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी से हुई तकरीबन डेढ घंटे की मुलाकात और बातचीत के केंद्र में कल की बैठक और आगे की रणनीति ही रही । नि:संदेह अयोध्या विवाद पर आए हाईकोर्ट के फैसले के बाद मुलायम और शाही इमाम की प्रतिक्रिया बिल्कुल एक जैसी ही है, इसलिए यह माना जा रहा है कि इस मामले को लेकर आगे बढ़ने का काम दोनों ही लोगों के विचार-विमर्श से ही तय होगा।

मुलायम ने शाही इमाम से बातचीत के बाद कहा कि जब वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे तब भी बाबरी मस्जिद पर कब्जे की कई बार कोशिशें की गई थीं, लेकिन उन्होंने नाकाम कर दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि जिस दिन विवादित स्थल पर मूर्तियां रखी गईं थी उसी दिन से गत 30 सितम्बर 2010 तक कांग्रेस ने बाबरी मस्जिद को लेकर राजनीति की।

उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात का अहसास है कि इस देश में गरीबों, बेरोजगारों में सबसे बड़ी संख्या मुसलमानों की है। उन्होंने दावा किया कि अपने मुख्यमंत्रित्वकाल में उन्होंने मुसलमानों को रोजगार दिलाने, कौमी एकता तथा साम्प्रदायिक सद्भाव के लिए मुसलमानों की भर्ती पुलिस में कराई ताकि किसी दंगा फसाद में मुसलमानों के साथ कोई ज्यादती नहीं कर सके।

राहुल गाँधी में संघ की तुलना सिमी से की

कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने कहा कि उनकी नजर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और प्रतिबंधित स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) में वैचारिक कट्टरता को लेकर कोई अंतर नहीं है।

राहुल से बातचीत के दौरान मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ में दिए गए बयान को स्पष्ट करने को कहा गया, तो उन्होंने कहा, ''दोनों ही कट्टरवादी संगठन हैं, इसलिए वैचारिक कट्टरता की दृष्टि से इनमें कोई अंतर नहीं है।'.

अयोध्या मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले पर उनका नजरिया पूछने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में कांग्रेस पार्टी अपना पक्ष स्पष्ट कर चुकी है और वह इससे सहमत हैं। यह फैसला अयोध्या में मस्जिद तोड़ने की कार्रवाई को 'माफ' नहीं करता है। इस दिशा में न्यायिक कार्यवाही आगे बढ़नी चाहिए।

प्रियदर्शिनी मट्टू हत्याकांड : संतोष कुमार की मौत की सजा उम्र कैद में बदली

सर्वोच्च न्यायालय ने बहुचर्चित प्रियदर्शिनी मट्टू हत्या कांड के दोषी संतोष कुमार सिंह की मौत की सजा को कम करके उम्रकैद में बदल दिया है।

गौरतलब है कि प्रियदर्शनी ने संतोष के खिलाफ छह साल से तंग करने की रिपोर्ट पुलिस में भी लिखवाई थी। लेकिन सीनियर आईपीएस अधिकारी के बेटे संतोष ने इसकी कभी परवाह नहीं की। हत्या के बाद उस समय संतोष को गिरफ्तार तो कर लिया गया। लेकिन ये मामला कानूनी पचडे में फंस गया। आखिरकार 3 दिसंबर 1999 को निचली अदालत ने संतोष को दोषी बताने के बावजूद सबूतों के अभाव में बरी कर दिया। अपने फैसले में अदालत ने साफ-साफ कहा था कि लगता है पुलिस का ध्यान आरोपी को सजा दिलवाने में नहीं, बल्कि उसे बचाने में है। बाद में निचली अदालत के इस फैसले को सीबीआई ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। हाई कोर्ट ने संतोष को फांसी की सजा सुनाई। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को उसकी लापरवाहियो, केस में जानबूझकर बरती गई ढिलाई और प्रियदर्शिनी को सुरक्षा देने में नाकामी को लेकर जम कर फटकार भी लगाई थी। सीबीआई के अनुसार, संतोष ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से लॉ कर रही स्टूडेंट प्रियदर्शनी मट्टू की जनवरी 1996 में बलात्कार के बाद हत्या कर दी थी।

केंद्र कर रहा है आतंकवादी समूहों को कश्मीर पैकेज देने का प्रयास - जोशी

भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने कांग्रेस की अगुवाई वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार की निंदा करते हुये आज कहा कि वह कश्मीर में आतंकवाद को दिये जा रहे समर्थन पर रोक लगाये बिना पाकिस्तान से कोई बातचीत नहीं किये जाने के रूख से हट रही है !

श्री जोशी ने देहरादून में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कहा कि केंद्र सरकार अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के अगले माह प्रस्तावित भारत दौरे के मद्देनजर आतंकवादी समूहों को कश्मीर पैकेज देने का प्रयास कर रही है. हालांकि इस पैकेज को भी लेने के लिए कोई भी आगे नहीं आ रहा है !

संवाददाताओं के यह पूछे जाने पर कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के दौरे को क्या कश्मीर मुद्दे के समाधान की दिशा में एक कदम नहीं माना जाना चाहिये. उन्होंने उल्टे ही यह पूछ लिया कि, समाधान आखिर कहां है? श्री जोशी ने कहा कि केंद्र को उन्हीं लोगों से बातचीत की पहल करनी चाहिये जो वास्तव में कश्मीर समस्या का समाधान चाहते हैं.
उन्होंने केंद्र सरकार की निंदा करते हुये कहा कि उसकी कश्मीर नीति अटल बिहारी वाजपेयी सरकार की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गंठबंधन सरकार की नीति से बिलकुल विपरीत है. वाजपेयी सरकार की नीति थी कि जब तक पाकिस्तान कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों की सहायता देना बंद नहीं कर देता.तब तक उससे कोई बातचीत नहीं की जायेगी !

मेरे मन को तभी संतोष होगा जब अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा - आडवाणी

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने आज कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनने पर ही उन्हें संतोष होगा !

श्री आडवाणी ने यहां एकात्म मानव दर्शन अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान की ओर से लोकमत परिष्कार एवं चुनाव सुधार विषय पर आयोजित व्याख्यान में अपने दिल की यह ख्वाहिश जाहिर की1 उन्होंने वर्ष 1990 की अपनी रथयात्रा का स्मरण करते हुये कहा ..मैं हर वर्ष 25 सितंबर को सोमनाथ जाता हूं तथा रथयात्रा का स्मरण करता हूं तथा सोचता हूं कि अयोध्या में राम मंदिर बने मेरे मन को तभी संतोष होगा जब अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा

श्री आडवाणी ने कहा ..सोमनाथ से रथयात्रा लेकर जब मैं अयोध्या जा रहा था तब मुझे बिहार में समस्तीपुर में रोक लिया गया और पश्चिम बंगाल की सीमा पर एक छोटी सी जगह पर मुझे कैद कर लिया गया था. इस रथयात्रा की याद में मैं हर वर्ष सोमनाथ मंदिर जाता हूं ! श्री आडवाणी के इस उद्गार के बाद सभा में राममंदिर के जयकारों की गूंज सुनाई दी गई !

अयोध्या के फैसले पर कांग्रेस मुस्लिमो के साथ

30 सितम्बर को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ विशेष बैंच के निर्णय के बाद कांग्रेस की स्थिति में कुछ ऊहापोह जैसी स्थिति है।

न्यायालय के निर्णय के बाद पार्टी के मीडिया प्रभारी जनार्दन द्विवेदी ने न्यायालय के निर्णय को तहेदिल स्वीकारने की अपील करते हुए कहा था अदालत पक्षपात रहित संस्था है। चार दिन बाद पार्टी, पार्टी प्रवक्ता जयंती नटराजन ने न्यायालय के फैसले को न्यायिक प्रक्रिया का अंग बताते हुए सर्वोच्च न्यायालय में ही अंतिम समाधान की बात कही।

इस फैसले से बाबरी ढांचा ध्वस्त करने पर न्यायालय का निर्णय रद्द हो जाता है। इस सवाल के जवाब में जनार्दन द्विवेदी ने एक फैसले द्वारा दूसरे फैसले के खंडन से इनकार किया। सोमवार को फिर जयंती नटराजन ने कहा कि अयोध्या फैसले से बाबरी मस्जिद विध्वंस का आरोप समाप्त नहीं होता।

पार्टी सूत्रों के अनुसार कांग्रेस में असमंजस का मुख्य कारण यह है कि फैसले में तीन भागों में विवादित स्थल विभक्त करने के फैसले पर मुसलमान समुदाय में अनुकूल प्रतिक्रिया न होने पर कांग्रेस ने फैसले का पक्ष लेना छोड़कर सर्वोच्च न्यायालय में अंतिम निर्णय की बात कहना शुरू कर दिया गया है ताकि मुस्लिम मतदाता असंतुष्ट न हों।

पोलावरम परियोजना पर अपना जवाब दाखिल करे केंद्र - सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया है कि वह आंध्र प्रदेश की पोलावरम परियोजना पर अपना जवाब दाखिल करे। उड़ीसा सरकार ने इस परियोजना को पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दी गई मंजूरी के खिलाफ याचिका दायर की है।

इसमें उसने आशंका जताई है कि इससे राज्य के कई हिस्से पानी में डूब जाएंगे। न्यायाधीश दलवीर भंडारी और दीपक वर्मा की पीठ ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया।

उड़ीसा सरकार के वकील राजू रामचंद्रन ने पीठ के समक्ष दलील दी कि इस परियोजना से राज्य के हितों पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र ने किस आधार पर इस परियोजना को मंजूरी दी जबकि सुप्रीम कोर्ट में यह मामला लंबित है।

PM’s Daughter Supports Arundhati Roy ( प्रधानमंत्री की बेटी अरुंधती के समर्थन में )

Prime Minister Manmohan Singh’s daughter Daman Singh feels that the essays of writer-activist Arundhati Roy who has been attacking the Government’s Maoist and other policies are an ‘eye-opener’.

“I follow all her writings in popular magazines. She is a powerful writer and her writings are an eye-opener. She has a unique and powerful way of presenting things,” Daman Singh told newsmen on the sidelines of the Kovalam literary festival here.

When asked whether she agreed with Roy’s views on Maoism and her fierce attack on the government, Daman said, “I agree with some of them and disagree with others.”

Author of the novel “Nine by Nine”, 46-year-old Daman Singh was in the capital to present her second work “ Sacred Grove”. She said her next work would be a “personal biography” of her parents in which she will present various aspects of their life. Of course, she can’t be critical of them either.

Daman said she had full faith in what her father was doing and was confident that he was leading the country in the right direction. She admitted that the PM’s job put a huge physical and mental strain on him. “We are all concerned about his health. But I am sure that he will step down when he feels he can no longer do well,” she said.

Daman Singh engaged Chinese writer Lijia Zhang in a conversation on the latter’s book “Socialism is Great’’ at the festival on Saturday. Among those attending the two-day festival are South African writer Zubeida Jaffer, Pakistani writer Mohammed Haneef, Basharat Peer, Deborah Baker Ghosh, Mridula Koshy, Sarnath Banerjee and Manu Joseph.

कश्मीर पर दिए बयान पर अरुंधती राय पर मुकदमा

"कश्मीर भारत का अभिन्न अंग कभी नहीं था " यह कहने पर रांची की अदालत में अरुंधती राय पर मुकदमा दर्ज किया गया है, यह मुकदमा आईपीसी की धारा 124 -A के तहत दर्ज किया गया है.

आशीष कुमार सिंह नामक एक व्यक्ति ने अरुंधती राय पर मुकदमा दर्ज करते हुए उसके कश्मीर पर दिए गए बयान पर अपना विरोध दर्ज किया और कहा की अरुंधती का यह बयान भारत के कानून और सविंधान के विरुद्ध है.

अरुंधती ने यह बयान 25 -26 सितम्बर को ऑपरेशन ग्रीन हंट के लिए रांची में सुनवाई के बाद पत्रकारों को दिया था.

आशीष ने अरुंधती राय को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है.

बिग बॉस शो में पाकिस्तानियों को शामिल करने की क्या जरूरत है ? - शिवसेना

बिग बॉस शो में विदेशी चेहरे को शामिल करने की परंपरा रही है। जेड गुडी और क्लॉडिया ने इस शो के पिछले भागों में हिस्सा लिया था। इस बार पॉमेला एंडरसन का नाम चर्चा में था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया।

बिग बॉस 4 में इस बार एक नहीं बल्कि दो विदेशी शख्सियत हैं और दोनों ही पाकिस्तानी हैं। मॉडल और अभिनेत्री वीना मलिक पिछले कुछ महीनों से लगातार चर्चा में हैं जब उन्होंने पाकिस्तानी क्रिकेटर आसिफ के बारे में कुछ राज खोले जो फिक्सिंग कांड में शामिल है। दूसरा चेहरा है बेगम नवाजिश अली का जो पाकिस्तानी टीवी की दुनिया में लोकप्रिय नाम है।

इन दोनों पाकिस्तानियों को बिग बॉस में शामिल करने का शिव सेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) ने विरोध किया है। दोनों पार्टियों ने शो के निर्माता और चैनल को चेतावनी देते हुए कहा कि इन्हें फौरन शो से बाहर किया जाना चाहिए।

शिवसेना की ओर से कलर्स चैनल को एक पत्र भेजकर विरोध प्रकट किया गया है और नाराजगी जाहिर की गई है। पत्र में कहा गया है कि भारत में ढेर सारी सेलिब्रिटीज हैं तो पाकिस्तानियों को शामिल करने की क्या जरूरत है। कुछ इसी तरह की बात एमएनएस ने भी कही है।

इन दो पाकिस्तानियों के अलावा इस बार कुछ ऐसे प्रतियोगी ‘बिग बॉस 4’ में शामिल हैं, जिनका विवादों से नाता है।

अयोध्या की जमीन का तीन हिस्सों में बँटवारा हिन्दू महासभा को मान्य नहीं

अयोध्या में विवादित स्थल को लेकर आए फैसले के एक पक्षकार हिन्दू महासभा ने बातचीत से इसके हल के प्रयास का विरोध करने का निर्णय लिया है जबकि फोरम फार पीस एंड यूनिटी का मानना है कि इसका एकमात्र हल बातचीत ही है।

हिन्दू महासभा का कहना है कि अयोध्या की जमीन का तीन हिस्सों में बँटवारा उसे मान्य नहीं है और संगठन इसके लिए उच्चतम न्यायालय में जाएगा। महासभा के उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष कमलेश तिवारी ने आज यहाँ कहा कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने पिछले 30 सितम्बर को अपने फैसले में जमीन को रामलला, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के बीच बराबर-बराबर बाँटने का आदेश दिया है जो मान्य नहीं है।

महासभा इसके लिए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी। उन्होंने कहा कि पूरी जमीन रामलला की है जिस पर उनका भव्य मंदिर बनेगा। बातचीत से इसका हल नहीं निकाला जा सकता।

अयोध्या मसले के हल के लिए मालिकाना हक के मुकदमें में एक पक्षकार हाशिम अंसारी ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत ज्ञानदास से अयोध्या में मुलाकात की थी और दोनों के बीच बंद कमरे में एक घंटे तक बातचीत हुई थी।

यहूदियों ने वेस्ट बैंक में एक मस्जिद को आग लगाईं

फ़लस्तीन और इसराइल के बीच विवादित 'वेस्ट बैंक' के हिस्से में एक मस्जिद को आग लगाए के जाने के फ़लस्तीन के आरोप को इसराइल ने गंभीरता से लिया है.फ़लस्तीन का कहना है कि इसराइली क़ब्ज़े वाले पश्चिमी तट के इलाक़े में यहूदी आप्रवासियों ने एक मस्जिद को आग लगा दी है.

फ़लस्तीनी अधिकरियों के मुताबिक बेत फ़ज्जर की इस मस्जिद में उन यहूदियों ने आग लगाई है, जो नज़दीक की ही यहूदी बस्तियों में बसाए गए हैं.फ़लस्तीनियों का कहना है कि मस्जिद की एक दीवार पर हिब्रू में नारे लिखे देखे गए, इसीलिए उन्हें शक़ है कि आग य़हूदी आप्रवासियों ने ही लगाई है.

पश्चिमी तट के इलाके में पिछले साल के अंत से मस्जिदों पर हमलों का सिलिसला शुरू हुआ था.इसरायली सेना के एक प्रवक्ता का कहना है कि मस्जिद में आग लगाए जाने की इस ताज़ा घटना को सेना गंभीरता से ले रही है.शांति वार्ताये हमला ऐसे समय पर हुआ है जबकि फ़लस्तीनी इसराइली शांति वार्ता यहूदी बस्तियों के मुद्दे पर अटकी हुई है.दो साल के गतिरोध के बाद सितंबर में अमरीका के प्रयासों से दोनों पक्षों के बीच शांति वार्ता फिर से आरंभ हुई थी.फ़लस्तीनी नेतृत्व का ये कहना है, कि वो तब तक शांति वार्ता फिर से शामिल नहीं होगा, तब तक यहूदी बस्तियों के निर्माण पर रोक नहीं लगाई जाती.

पश्चिमी तट के इलाक़े में यहूदी बस्तियों का निर्माण पिछले हफ़्ते फिर से शुरू कर दिया गया था.पश्चिमी तट के इलाक़े में यहूदी बस्तियों के निर्माण पर लागू 10 महीने की आंशिक रोक पिछले रविवार को ख़त्म हो गई थी.इसराइल ने इस रोक को आगे बढ़ाने से इंकार कर दिया.

जर्मनी में रहने वाले मुस्लिम बिना शर्त देश के आधारभूत मूल्यों और संविधान का पालन करे

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने सोमवार को यहां के मुस्लिमों से 'जर्मनी के आधारभूत मूल्यों' के अनुरूप रहने को कहा। उन्होंने कहा कि मुस्लिमों को इस मुद्दे पर कोई छूट नहीं दी जा सकती।

चांसलर ने अपना संबोधन जर्मनी के राष्ट्रपति क्रिश्चियन वुल्फ के उसभाषण के एक दिन बाद दिया है, जिसमें उन्होंने 20 वर्षो के एकीकरण का उल्लेख करते हुए मुस्लिमों को देश के प्रति आश्वस्त किया था।

वुल्फ के इस बयान को देश के प्रमुख इस्लामी समूहों में से एक सेंट्रलकाउंसिल ऑफ मुस्लिम ने स्वागत किया था।

क्रिश्चियन डेमोक्रेट चांसलर ने अपने एक समर्थक की किताब के प्रचार के दौरान कहा कि यहां रहने वाले मुस्लिमों को बिना शर्त जर्मनी के आधारभूत मूल्यों और संविधान का पालन करना चाहिए।

मर्केल ने कहा कि इस मामले में मुस्लिमों को कोई छूट नहीं दी जा सकती।

अयोध्या विवाद पर दोनों समुदायों के बीच सामंजस्य की फिर कोशिशें

इलाहाबाद हाईकोर्ट के द्वारा अयोध्या विवाद पर आए के फैसले के बाद फिर से अदालत के बाहर मामले को सुलझाने के प्रयास तेज हो गए हैं. अयोध्या टाइटल सूट मामले के सबसे पुराने पक्षकार हाशिम अंसारी ने हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञान दास से मुलाकात की और मामले को अदालत के बाहर निबटारे की संभावनाओं पर बात की.


हालांकि यह आसान नहीं है, क्‍योंकि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने यह ऐलान किया है कि वह इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में नया पक्षकार बनेगा.

वहीं, प्रयाग पीठ के शंकराचार्य ओंकारनंद सरस्वती जी महाराज ने जयपुर के कर्बला मैदान पर मुस्लिम समुदाय को संबोधित किया और दोनों समुदायों के बीच सामंजस्य की अपील की. उन्होंने यह भी कहा कि यदि मुस्लिम समुदाय इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाता है, तो वे इसका समर्थन करेंगे, लेकिन शर्त यह है कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आए,सभी को मान्य होना चाहिए.

सुन्नी वक्फ बोर्ड इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर विचार करने के लिए अगले सप्ताह बैठक बुला रहा है. वक्फ बोर्ड और हिंदू महासभा, दोनों ही सुप्रीम कोर्ट में जाने की तैयारी कर रहे हैं. लेकिन साथ ही साथ कोर्ट के बाहर मामले के निबटारे के भी प्रयास चल रहे हैं.

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के अंगरक्षक रहे बाबू परमानंद का निधन

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के अंगरक्षक रहे : स्वतंत्रता सेनानी बाबू परमानंद का शनिवार को जम्मू कश्मीर के नौशहरा में निधन हो गया। वह 113 वर्ष के थे। रविवार दोपहर दो बजे गांव लंबेड़ी में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनके बड़े बेटे हेमराज रैना ने उन्हें मुखाग्नि दी। नेताजी सुभाष चंद्र बोस के अंगरक्षक व चालक रहे बाबू परमानंद का जन्म सन 1897 में पाक अधिकृत कश्मीर के गांव कोटा गोरा तहसील सरनेवी में हुआ था। वह बचपन से ही राष्ट्र की सेवा को अपना धर्म मानते थे। बलूच रेजिमेंट में वह सेना में भर्ती होने के बाद आजाद हिंद फौज में शामिल हो गए थे। दूसरे विश्व युद्ध में परमानंद ने आजाद हिंद फौज के साथ लड़ाई में भी हिस्सा लिया था।

बाबू परमानंद का निशाना काफी अच्छा था और नेता जी उनके निशाने के कायल थे। उन्होंने आजाद हिंद फौज के जवानों को राइफल चलाने के साथ ही निशाना लगाने का प्रशिक्षण भी दिया था। वह कुछ समय के लिए जेल में भी रहे, लेकिन इसके बाद भी नेता जी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते रहे। बाबू परमानंद अपने परिवार के सदस्यों से कहा करते थे कि नेताजी अब भी जीवित हैं।

राहुल गाँधी मध्य प्रदेश के राजकीय अतिथि घोषित

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस महासचिव राहुल गाँधी को मध्यप्रदेश प्रवास के दौरान राजकीय अतिथि का दर्जा दिए जाने की घोषणा की है।

सोमवार से मध्य प्रदेश के दौरे पर आ रहे राहुल गाँधी मध्यप्रदेश दौरे के दौरान मध्य प्रदेश सरकार ने राजकीय अतिथि घोषित कर दिया है।

अयोध्या आंदोलन का अर्थ - तरुण विजय

यह हैरत की बात नहीं है कि अयोध्या पर अदालत का आदेश आने के बाद छाई रही शांति ने कुछ सेक्युलर वगरें को असंतुष्ट किया है। एक ओर हिंदू तथा मुस्लिम संगठनों ने समझदारी और संयम से काम लिया तो दूसरी ओर कतिपय सेक्युलर नेता और काग्रेस के मंत्री और प्रवक्ता शात जल में पत्थर फेंकने की कोशिश कर रहे हैं। वे चाहते हैं कि कहीं कहीं हिंदू मुस्लिम तनाव भड़कता रहे ताकि शांति स्थापित करने की उनकी दुकानदारी भी चलती रहे।

मुस्लिमों के बीच जाकर उन्हें हिंदू संगठनों के विरुद्ध भड़काने की कोशिश करते हुए वे अगले चुनावों की तैयारी में लगे दिखते हैं। मैंने पहले भी लिखा है कि भारत में हिंदू-मुस्लिम समाज आपस में अपने विवाद सुलझाने में सिद्ध होते हैं, पर अपने आपको सेक्युलर कहने वाले ही सबसे ज्यादा आग में घी डालने का काम करते हैं। पिछले दिनों गृह मंत्री चिदंबरम तथा काग्रेस के प्रवक्ताओं के बयान इसी श्रेणी में आते हैं। वे शायद अदालती निर्णय के बाद असमंजस में हैं कि उससे उनके मुस्लिम वोट बैंक पर कहीं नकारात्मक प्रभाव तो नहीं पड़ने वाला।

उनका देश वोट बैंक तक ही सीमित है।काग्रेस ने छह दिसंबर की बार-बार याद दिलाकर मुस्लिमों को प्रतिशोध के लिए उत्तेजित करने की कोशिश की है। पर उनको याद रखना चहिए कि अयोध्या का अर्थ हिंदू समाज के लिए सिर्फ एक मंदिर बनाने का कभी भी नहीं रहा है। राम मंदिर का अर्थ है भारतवर्ष के परम वैभव के लिए आवश्यक स्वाभिमान और शक्ति प्राप्त करना। जिस औपनिवेशिक कलुष ने भारत की मूल आत्मा और उसके मानस को जकड़ रखा है उससे मुक्ति के दूसरे स्वतंत्रता संघर्ष का नाम है अयोध्या। यदि कश्मीर घाटी में हिंदू शरणार्थी वापस नहीं जा पाते और देश में अभारतीय राजनीति का शिकंजा नहीं टूटता तो अयोध्या आंदोलन विफल माना जाएगा।

अयोध्या आंदोलन का अर्थ है दैहिक, दैविक और भौतिक तापों से मुक्ति पाना और राम राज्य के उस स्वर्णिम लक्ष्य की और बढ़ना जो महात्मा गाधी और डॉक्टर हेडगवार, दोनों का ही स्वप्न था। अयोध्या आंदोलन का अर्थ देश में से राजनीतिक और प्रशासनिक भ्रष्टाचार को खत्म कर उस आंदोलन को सफल परिणति तक पहुंचाना भी है जो जेपी के नेतृत्व में प्रारंभ हुआ था।काग्रेस को अयोध्या के उस तथाकथित अपराध की बार-बार याद दिलाना बड़ा प्रिय है जो उसकी निगाह में छह दिसंबर को हुआ था, पर कोई काग्रेस से पूछे कि देश के सैनिकों के साथ विश्वासघात का उसका अपराध क्षमायोग्य है? सन 47 में जब देश के सैनिक पूरी तत्परता से पाकिस्तानी हमले का जवाब दे रहे थे, तब जवाहर लाल नेहरू ने कृष्ण मेनन को तत्काल लंदन से जीपें खरीदने के आदेश दिए थे।

युद्ध खत्म हो गया, पकिस्तान एक-तिहाई से ज्यादा कश्मीर पर कब्जा कर बैठ गया, पर जीपें नहीं आईं। आजाद भारत का यह पहला बड़ा घोटाला था। उसके बाद जीवन बीमा घोटाला, सन 62 का शर्मनाक दौर, नेहरू का देश के साथ छल, अक्साई चिन पर चीन का कब्जा, तिब्बत प्रश्न पर नेहरू की नीतियों के कारण भारत की अपार सामरिक क्षति, कश्मीर में शेख और नेहरू की मिलीभगत और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की रहस्यमयी मृत्यु, जिसे अटलजी ने उस समय हत्या बताया था, मूंधरा कांड, नागरवाला घोटाला, ललित नारायण मिश्र की हत्या, श्रीलंका में शांति सेना की असफलता, बोफोर्स और पनडुब्बी कांड, सिखों का नरसंहार और अब गेहूं को सड़ा देना मंजूर पर गरीबों को बाटना अस्वीकार, ये सब उस काग्रेस के कारनामे हैं जिसने अयोध्या को राजनीति का खिलौना बनाने की भी कोशिश की थी।अयोध्या प्रश्न भारत की शांति और स्वाभिमान से जुड़ा प्रश्न है, जिसका न तो साप्रदायीकरण किया जाना चाहिए, न ही राजनीतिक वोट बैंक के लिए इस्तेमाल। यह वैसा ही प्रश्न है जैसे यदि अमेरिका में लिबर्टी की मूर्ति ओसामा के आतंकवादी ध्वस्त कर दें तो उसकी पुन‌र्प्रतिष्ठा का आंदोलन समूचे अमेरिका का आंदोलन होगा, न की इसाई जनता का किसी दूसरे संप्रदाय के विरुद्ध कोई आंदोलन। अयोध्या पूरे देश के हिंदू-मुसलमान के मध्य साझी विरासत का प्रतीक है।

इसीलिए भाजपा के अध्यक्ष नितिन गडकरी ने हिंदुओं की कार सेवा से सरयू पार मस्जिद बनाने की भी क्रातिकारी पेशकश की थी।देश गरीब रहे और एक नया मंदिर बन जाए तो भी बात नहीं बनेगी, देश के किसान आत्महत्या करने पर मजबूर होते रहें और एक मंदिर के लिए आंदोलन हो तो भी यह रामजी को स्वीकार्य नहीं होगा। अस्मिता जागरण और राष्ट्रीय स्वाभिमान की अलख पुन: जगाने का अर्थ है देश के हर व्यक्ति के विकास की संभावनाओं को बढ़ाना। शती, शौर्य और समृद्धि के बिना राम की पूजा अधूरी ही रहती है। जो लोग अपने आपको सेक्युलर कहते हुए अयोध्या को अपने वोट बैंक की राजनीति का उपकरण बनाना चाहते हैं वे इस देश की अस्मिता और भविष्य की पीढ़ी के साथ अन्याय कर रहे हैं।

इन दिनों मैं नीदरलैंड सरकार द्वारा आयोजित एक विमर्श में भाग लेने हेग गया हुआ हूं, जहां कश्मीरी हिंदुओं की दुर्दशा पर मुझे एक व्याख्यान के लिए आमंत्रित किया गया है। मुझे इस बात का आश्चर्य है कि जिस महत्वपूर्व विषय पर एक विदेश के सरकारी तंत्र को दिलचस्पी हो सकती है उस पर सरकार ने बहस की जरूरत क्यों नहीं समझी? केवल पत्थरबाजों के साथ वार्ता, उनको जेल से निकाल कर मुआवजा देना और जो देशभक्त जनता है, उसकी उपेक्षा क्यों इस सेक्युलरवाद की निशानी बनती जा रही है।

इसने केवल हिंदू घावों पर नमक छिड़कना अपनी पहचान बना ली है। अयोध्या के बहाने इस आत्मदीनता को बढ़ाने वाले सेक्युलरवाद में आवश्यक सुधार कर उसे भारत समर्थक तथा सभी पंथों और संप्रदायों के प्रति समान दृष्टि रखने वाले सिद्धात में परिणत करना भी अयोध्या आंदोलन का एक हिस्सा है

पाकिस्तान में राहत सहायता के लिए ओसामा ने मुस्लिम राष्ट्रों को लताड़ा

अल कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन ने पिछले 24 घंटे में जारी किए गए अपने दूसरे टेप में कहा है कि मुस्लिम राष्ट्रों ने बाढ़ प्रभावित पाकिस्तान में राहत सहायता के लिए पर्याप्त कार्य नहीं किया है।

अमेरिका आधारित एसआईटीई खुफिया संगठन द्वारा शनिवार को उपलब्ध कराए गए टेप की एक कॉपी में बिन लादेन ने इस आपदा की प्राकृतिक तरीके से रिपोर्टिंग नहीं करने को लेकर मीडिया पर भी आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि ओसामा ने शुक्रवार को जारी की गई अपनी पहली रिकार्डिंग में बाढ़ और युद्ध पीड़ित मुसलमानों के लिये एक राहत इकाई बनाने की अपील की थी।

औपचारिकता पूरी होने के बाद अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनेगा - आचार्य रमेश मिश्र

अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य रमेश मिश्र ने कहा है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट का अयोध्या मामले में निर्णय चुका है। औपचारिकता पूरी होने के बाद अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनेगा।

उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ द्वारा दिए गए फैसले से यह सिद्ध हो गया है कि भगवान राम का जन्म इसी स्थान पर हुआ था।

केंद्र द्वारा अधिगृहीत 67 एकड़ भूमि राम जन्मभूमि को दे दी जाए - कल्याण सिंह

जनक्रांति पार्टी के संरक्षक एवं सांसद कल्याण सिंह ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र द्वारा अधिगृहीत 67 एकड़ भूमि राम जन्मभूमि को दे दी जाए। कल्याण सिंह ने रविवार को लखनऊ में संवाददाताओं से यह बात कही।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार अपने द्वारा अधिगृहीत 67 एकड़ भूमि राम मंदिर निर्माण के लिए सौंप दे क्योंकि इस भूमि का विभाजन कतई उचित नहीं होगा अगर ऐसा हुआ तो हमेशा के लिए यह भूमि झगडे़ की जड़ बना रहेगा जो न तो हिंदुओं के हित में होगा और न ही मुसलमानों के।

प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में कहा गया है कि हाईकोर्ट ने अपने निर्णय में स्वीकार किया है कि अयोध्या में हिंदुओं के विशाल मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाई गई थी और यह भी निर्णय दिया गया है कि राम जन्मभूमि पर श्रीरामलला विराजमान का स्वामित्व है।

लेकिन फैसले के दूसरे हिस्से में उस भूमि को तीन बराबर हिस्सों में बांटा गया है ऐसी स्थिति में रामलला के हिस्से केवल 500 वर्गगज जमीन ही आएगी। जिसमें भव्य राममंदिर का निर्माण संभव नही है। कल्याण ने कहा है कि न्यायालय द्वारा दिया गया निर्णय 1500 गज जमीन का है जिसे तीन हिस्सो में बांटा गया है ऐसी स्थिति में रामलला के हिस्से मात्र 500 वर्गगज जमीन ही आएगी।

भाजपा के कानूनी नोटिस से घबराई कांग्रेस


भारतीय जनता पार्टी ने सतारूढ़ कांग्रेस पर 'भाजपा' नाम को हाइजैक करने का आरोप लगाया है। पार्टी ने इस सिलसिले में कांग्रेस को कानूनी नोटिस भेजा है और 48 घंटे के भीतर जवाब मांगा है।

दरअसल, भाजपा की आधिकारिक वेबसाइट 'बीजेपी डॉट ओआरजी है' और कांग्रेस की 'कांग्रेस डॉट ओआरजी डॉट इन' है लेकिन यदि कोई 'बीजेपी डॉट कॉम' के डोमेन से भाजपा की वेबसाइट खोलने का प्रयास करता है तो ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) की वेबसाइट खुद-ब-खुद खुल जाती है। भाजपा ने इसे गंभीरता से लिया है और इसे गैरकानूनी करार देते हुए कांग्रेस पर अपना नाम हाइजैक करने का आरोप लगाया है।

भाजपा की प्रवक्ता निर्मला सीतारमन ने कहा है कि 'यह गैरकानूनी और सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का प्रयास है। ऎसा जानबूझ कर किया गया है। हमने कांग्रेस को इस सिलसिले में नोटिस भेजा है।' पार्टी की ओर से कांग्रेस को इस संबंध में भेजे गए कानूनी नोटिस के मुताबिक 'यह जानबूझकर किया गया प्रयास है, जो हास्यास्पद और गैरकानूनी है। कांग्रस की अनुमति के बगैर इस कृत्य को अंजाम नहीं दिया जा सकता।''

नोटिस में आगे यह जिक्र भी है कि 'सर्च इंजन गूगल पर जब 'बीजेपी डॉट कॉम' टाइप कर सर्च किया जाता है तो 'भारत जर्नल्स एंड पब्लिशर्स' नामक एक अनजान संस्था का यह दावा सामने आता है कि 'बीजेपी डॉट कॉम' उसका डोमेन है। मजे की बात तो यह है कि गूगल पर जब भारत जर्नल्स एंड पब्लिशर्स टाइप कर सर्च किया जाता है तो सबसे पहले परिणाम के रूप में एआईसीसी की वेबसाइट सामने आती है।' नोटिस के मुताबिक 'इस बात से साबित हो जाता है कि 'बीजेपी डॉट कॉम' डोमेन पर अपना दावा करने वाली संस्था एआईसीसी से संबंधित है।'

इस कानूनी नोटिस से कांग्रेस के साइबर सेल के लोग घबरा गएँ हैं और अब जा कर www.bjp.com टाइप करने पर कोई पेज नहीं खुलता है. पर अभी भी गूगल में bjp.com सर्च करने पर ओंल इंडिया कांग्रेस कमेटी की साईट ही पहले नंबर पर सर्च होती है.

केन्द्र सरकार से लेकर पंचायत तक प्रतिवर्ष 17 लाख करोड़ रुपये की लूट - राजीव दीक्षित

भारत के नागरिकों तथा इस देश की बीमारियों का इलाज करने हेतु भारत स्वाभिमान ट्रस्ट का गठन किया गया है। भारत स्वाभिमान के अभियान का उद्देश्य विशेष रूप से देश की अज्ञानतावश विभिन्न बीमारियों से जूझ रही 77 करोड़ जनता को स्वस्थ निरोगी बनाना तथा देश में फैली भ्रष्टाचार, गरीबी, अशिक्षा, भुखमरी पर जैसी बीमारियों पर चोट करना है।

यह सब अंग्रेजी व्यवस्था, भाषा, भजन, भूषा, दवा के बदलाव से ही संभव है। आज देश में फैला भ्रष्टाचार स्वाभिमान ट्रस्ट का पहला निशाना है। देश में प्रतिवर्ष 17 लाख करोड़ रुपये की लूट केन्द्र सरकार से लेकर पंचायत तक होती है। यह सब विकास योजनाओं के माध्यम से लूटा जाता है। नेता, अधिकारी व कर्मचारी इसमें सहभागी बने हुए हैं। यह बात हरिद्वार से आए भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के राष्ट्रीय मंत्री राजीव दीक्षित ने कही।

भारत स्वाभिमान आंदोलन के मुख्य बिन्दुओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि स्वदेशी चिकित्सा व्यवस्था, स्वदेशी शिक्षा व्यवस्था, स्वदेशी अर्थव्यवस्था, स्वदेशी कानून व कर व्यवस्था, भारतीय संस्कृति की रक्षा, ग्रामीण स्वावलंबन जैसे उद्देश्यों को लेकर चलाया गया है। उन्होंने कहा कि देश और देशवासियों की वर्तमान समस्याओं का एक सूत्र में यदि निदान बताया जाए तो यह कहा जा सकता है कि ‘करे योग, रहे निरोग, स्वदेशी अपनाएं, देश बचाए।
भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के राष्ट्रीय मंत्री राजीव दीक्षित ने विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि आज लगभग 7 लाख करोड़ रुपया देश की 77 करोड़ आबादी विभिन्न बीमारियों के लिए प्रतिवर्ष खर्च कर रही है परन्तु फिर भी देश में ‘डायबिटिज, ‘ब्लड प्रैशर, ‘दमा, ‘अर्थराईटिस तथा ‘अस्थमा जैसी बीमारियां बढ़ती ही जा रही हैं। आज 8 करोड़ लोग कैंसर से पीडि़त हैं। स्वास्थ्य के क्षेत्र में फैले इस दुष्चक्र को समाप्त करने के लिए भारत स्वाभिमान का नारा है ‘स्वयं चिकित्सक बनें-स्वस्थ रहें।

इस हेतु ट्रस्ट द्वारा 2 लाख 40 हजार योग शिक्षक तैयार किए जा चुके है ंऔर आगामी 2 वर्षों में 11 लाख योग शिक्षक तैयार करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

योग गुरु स्वामी रामदेव के भारत स्वाभिमान के प्रभावी वक्ता राजीव दीक्षित ने देश में व्याप्त समस्याओं का उल्लेख करते हुए कहा कि आज हमारे देश में अंग्रेजों द्वारा बनाए गए 34 हजार 735 कानून चल रहे हैं जो अंग्रेजों ने इस देश और यहां की जनता को गुलाम बनाने के लिए बनाए थे। इन्हें बदलने की आवश्यकता है। इनके रहते स्वतंत्रता व स्वराज्य बेमानी है। उन्होंने बलपूर्वक कहा कि देश का 72 लाख करोड़ रुपया स्विस बैंक में जमा है जहां 80 हजार खाते इस देश के नेताओं और अधिकारियों के हैं। इस धन को वापस लाना और राष्ट्र की सम्पत्ति घोषित करवा विकास में लगाने का लक्ष्य भारत स्वाभिमान मंच ने रखा है।

उन्होंने कहा कि इसीलिए हमने तय किया है कि आगामी 2014 के लोकसभा के चुनावों में भारत स्वाभिमान चुनिंदा लोगों को चुनाव लड़ाकर संसद में पहुंचाएगा जिससे देश में गुलामी की व्यवस्था स्थापित करने के लिए बनाए गए 34 हजार से भी अधिक कानूनों को बदला जा सके और 63 वर्षों से अंग्रेजों से मुक्त होने के बाद भी भ्रष्टाचार में डूबी इस व्यवस्था को बदलकर एक नये भारत का निर्माण किया जा सके।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers