ताज़ा समाचार (Fresh News)

इन्फ्लुइएंजा ए एच1एन1 पर जे. पी. नड्डा का बयान


1. मैं देश के कई भागों में इन्फ्लुइएंजा ए एच1एन1 के हालिया प्रकोप के बारे में माननीय सदस्यों को अवगत करवाना चाहता हूं। हालांकि इन्फ्लुएंजा की प्रकृति मौसमी होती है जिसका वर्ष में इस समय सर्वाधिक प्रभाव होता है, तथापि इन्फ्लुएंजा के कारण होने वाली रूग्णता और इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण मौतें हम सबके लिए गंभीर चिंता का विषय है।

2. माननीय सदस्यों को याद होगा कि भारत और विश्व के अन्य भाग वर्ष 2009 और 2010 में इन्फ्लुएंजा ए एच1एन1 से प्रभावित थे। 2009 में सूचित मामलों की संख्या 27236 और 2010 में 20604 थी। वर्ष 2009 में मौतों की संख्या 981 तथा 2010 में 1763 थी। ए, बी और सी-तीन टाइप के विषाणुओं की वजह से इन्फ्लुएंजा होता है। ए टाइप के विषाणु से पूरे विश्व में बड़े पैमाने पर फैले हैं। इसका कारण यह है कि ए टाइप के इन्फ्लुएंजा में परिवर्तन (म्यूटेशन) होता है जिससे प्रभावित आबादी को पर्याप्त प्रतिरक्षा नहीं मिल पाती। इन्फ्लुएंजा ए के सब टाइपों में एच1एन1, एच2एन2 और एच3एन2 शामिल हैं। अगस्त 2010 में इस बीमारी के खत्म होने की घोषणा करते समय विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने यह बताया था कि एच1एन1 विषाणु आने वाले कुछ वर्षों में मौसमी इन्फ्लुएंजा विषाणु के रूप में संचारित होता रहेगा। मौजूदा वर्ष में 01 जनवरी से 22 फरवरी, 2015 तक राज्यों द्वारा सूचित रोगियों की संख्या 14673 और उसी अवधि में मौतों की संख्या 841 है। इन्फ्लुएंजा ए एच1एन1 के संबंध में वर्ष 2009 से 2015 तक सूचित किए गए रोगियों तथा मौतों के वर्ष-वार आंकड़ों को माननीय सदस्यों की सूचना के लिए सदन के पटल पर रखा जा रहा है (अनुलग्नक)। तथापि इनमें से अधिकतर मौतें रोगियों में पहले से ही मौजूद सह-रूग्णताओं की वजह से हो सकती हैं।

3. केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय इन्फ्लुएंजा ए एच1एन1 की स्थिति की गहन निगरानी करता रहा है। हम प्रभावित राज्यों की सरकारों के लगातार सम्पर्क में हैं। इस मौसमी इन्फ्लुएंजा के प्रभाव को रोकने के लिए राज्यों को जांच, रोगियों के जोखिम संबंधी वर्गीकरण, नैदानिक रोगी प्रबंधन और वैंटिलेटर प्रबंधन के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।  इन्फ्लुएंजा ए एच1एन1 के उपचार के लिए ओसेल्टामिविर औषध की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त, रोगियों के संपर्क में आने वाले स्वास्थ्य परिचर्या कार्मिकों में इस रोग के संचरण की रोकथाम के लिए एन-95 मास्क और व्यक्तिगत सुरक्षात्मक सामग्री अपेक्षित होती है। हम उपर्युक्त मदों के स्टॉक की स्थिति के बारे में राज्य सरकारों से नियमित आधार पर जायजा ले रहे हैं। यदि राज्य सरकार को अतिरिक्त‍ संसाधनों की जरूरत पड़ रही है तो हम उनकी पूर्ति कर रहे हैं। हम प्रभावित राज्यों को ओसेल्टामिविर के 58,000 कैप्सूलों, 3000 एन-95 मास्कों और 9500 व्यक्तिगत सुरक्षात्मक सामग्रियों की पहले ही आपूर्ति कर चुके हैं। हम ओसेल्टामिविर औषध का आपातकालीन स्टॉर भी रख रहे हैं ताकि किसी भी तत्कालिक जरूरत को पूरा किया जा सके। इसके अलावा, हमारे पास 10,000 एन-95 मास्क और पर्याप्त संख्या में व्यक्तिगत सुरक्षात्मक सामग्री स्टॉक में हैं। राज्य सरकारों का मार्गदर्शन करने तथा उन्हें  सहायता प्रदान करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की टीमें तेलंगाना, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश भेजी गईं हैं। आईसीयू और वेंटिलेटर प्रबंधन के संबंध में मार्गदर्शन के लिए डॉक्टरों की एक टीम दो बार राजस्थान भेजी गई थी। राज्यों के साथ समीक्षा करने के लिए सचिव (स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण) और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के स्तर पर वीडियो कान्फ्रेंस भी की जा रही है। 19 फरवरी 2015 को, मंत्रिमंडल सचिव ने कठिनाइयों का पता लगाने और आवश्यकताओं का आकलन करने के लिए भी, यदि कोई हो, प्रभावित राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ एक वीडियो सम्मेलन का आयोजन किया। मेरे स्तर पर नियमित समीक्षा भी की जा रही है। मैं माननीय सदस्यों को आश्वस्त कर सकता हूँ कि प्रकोप से निपटने के लिए राज्य सरकारों द्वारा अपेक्षित कोई भी मदद, हमारे द्वारा उपलब्ध कराई जा रही है।

4. कुछ मीडिया रिपोर्टों में इन्फ्लुएंजा ए एच1एन1 के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली ओसेल्टामिविर दवा की कमी के बारे में गलत ढंग से उल्लेख किया गया है। मैं माननीय सदस्यों को सूचित करना चाहता हूं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा सिफारिश की गई इस दवा का निर्माण भारत में किया जाता है। हमने दो अवसरों पर निर्माताओं के साथ बैठक की है। इन स्वदेशी निर्माताओं ने इस बात की पुष्टि की है कि उनके पास मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त क्षमता और सक्रिय फार्मास्युटिकल अवयवों का पर्याप्त स्टॉक मौजूद है। वास्तव में, इन निर्माताओं में से एक केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है।  हांलाकि ओसेल्टामिविर दवा की बिक्री काउंटर पर नहीं की जा सकती है।  इसे केवल योग्य चिकित्सक के नुस्खे पर उपलब्ध कराया जाना चाहिए तथा औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम की अनुसूची एक्स के तहत लाइसेंसशुदा दवा की दुकान के माध्यम से बेचा जाना चाहिए। इसके अलावा, यह दवा सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली के माध्यम से उपलब्ध है। हम ऐसी स्थिति नहीं चाहते हैं कि दवा के गलत इस्तेमाल से दवा इस वायरस का मुकाबला करने लायक न रह जाए। तथापि, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आम जनता को दवा प्राप्त करने में किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े, हमने राज्य सरकारों को सलाह दी है कि वे अनुसूची एक्स फार्मेसियों के स्थानों की समीक्षा करें और अल्पनिरूपित या अनिरूपित स्थानों के लिए नए लाइसेंस जारी करें।

5.एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के प्रयोगशाला नेटवर्क में भारत के विभिन्न हिस्सों में 21 प्रयोगशालाएं शामिल हैं, जो इन्फ्लुएंजा ए एच1एन1 की निःशुल्क जांच की सुविधा प्रदान कर रही हैं।  इन प्रयोगशालाओं के पास पर्याप्त क्षमता और नैदानिक सामग्री की उपलब्धता है। स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है। रिएजेंट्स की अतिरिक्त मात्रा की खरीद के लिए पहले से ही आदेश दे दिए गए है। प्रभावित राज्यों ने परीक्षण करने के लिए निजी नैदानिक प्रयोगशालाओं को अधिकृत करके इन प्रयासों को पूरा किया है।  हम कुछ मीडिया रिपोर्टों में दी गई इन खबरों के बारे में चिंतित थे कि कुछ निजी प्रयोगशालाओं द्वारा बहुत उच्च दर पर शुल्क लिया जा रहा है। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक ने राज्य सरकारों को सलाह दी गई है कि वे यह सुनिश्चित करें कि निजी प्रयोगशालाओं द्वारा उच्च दरें न वसूली जाएं।  बल्कि ये दरें राज्य सरकारों द्वारा तय की जानी चाहिए।

6.राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (आईसीएमआर के तहत) और राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केन्द्र (दिल्ली)-दोनों द्वारा इस बात की पुष्टि की गई है कि वर्तमान में सूचित किए जा रहे इन्फ्लुएंजा ए के मामले एच1एन1 के हैं। दूसरे शब्दों में, यह वायरस वर्ष 2009 के वायरस की तरह है और वायरस में कोई परिवर्तन नहीं है। परिणामस्वरूप, वर्ष 2009-2010 की विश्वमारी के दौरान प्रयुक्त ओसेल्टामिविर दवा अभी भी इलाज के लिए प्रभावी बनी हुई है। जैसा कि मैंने पहले कहा है, हमारे पास नैदानिक क्षमता है और हम इस वायरस का पता लगाने में पूरी तरह से सक्षम हैं।

7. मैं माननीय सदस्यों  को सूचना करना चाहूंगा कि केवल स्वास्थ्य देखभाल कार्मिकों के लिए ही टीके की सिफारिश की गयी है । इस संबंध में राज्य सरकारों को दिशा-निर्देश जारी किए जा चुके हैं। विशेषज्ञों के परामर्श और उनकी सलाह पर ही यह निर्णय लिया गया है। इस समय इसे लोक स्वास्थ्य कार्यनीति के रूप में जन-साधारण के लिए टीकाकरण का समर्थन नहीं किया गया है। मैं माननीय सदस्यगण की जानकारी में लाना चाहता हूँ कि टीकाकरण का प्रभाव तीन चार सप्ताह के बाद होता है और प्रतिरक्षण केवल एक वर्ष के लिए ही होता है। इसके अलावा यह टीका पूरी तरह से वायरस से संरक्षण प्रदान नहीं करता है। स्वास्थ्य देखभाल कार्मिकों को सलाह दी जाती है कि वे इन्फलुएंजा ए एच1एन1 रोगियों की जांच करते समय व उनकी देखभाल करते समय पूर्ण सावधानी बरतें। इसके अतिरिक्त, उन्हें कहा गया है कि वे ओसेल्टामिविर की रोगनिरोधी डोज भी लें ।

8. राज्य सरकारों से एकत्र की गयी जानकारी से प्रतीत होता है कि कई मौतें इन्फलुएंजा ए एच1एन1 ग्रस्त रोगियों की सहरुग्णता के कारण ही हुई हैं । ऐसे व्‍यक्ति इम्यूनो-काम्प्रो माइज्ड होते हैं और परिणाम रोग के  प्रति ज्यादा संवेदनशील हो जाते है। इस श्रेणी में कैंसर, मधुमेह, क्षयरोग और अन्य  श्वसन रोग, इत्यादि से ग्रस्त रोगी आते हैं । राज्यों ने यह भी सूचित किया है कि कई मामलों में प्रभावित व्यक्ति बड़ी देरी से चिकित्सा के लिए आए जिससे रोगी की हालत और ज्यादा खराब हो गई।

9.जनसाधारण में जागरूकता बढ़ाने के लिए राज्य बड़े पैमाने पर विभिन्न मीडिया साधनों के माध्यम से सूचना शिक्षा संप्रेषण अभियान चला रहे हैं । अभियान में रोग के संक्रमण को और इस बात रोकने और इस बात पर ध्यान केन्द्रित किया गया है कि खांसी, बुखार इत्यादि के लक्षण दिखाई देने पर क्या एहतियात बरतनी चाहिए। केन्द्र सरकार भी राज्यों के आईइसी प्रयत्नों में योगदान दे रही है। देश भर में, जनवरी व फरवरी 2015 में 200 से भी ज्यादा समाचार पत्रों में नियमित रूप से विज्ञापन प्रकाशित किए गये हैं। इसमें विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं में जारी किए गये विज्ञापन भी शामिल हैं। सूचना के प्रचार-प्रसार के लिए रेडियो और टेलीविजन का भी इस्तेमाल किया गया है। राज्यों को आईइसी गतिविधियों को बढ़ाने के लिए पहले ही सलाह दे दी गयी है ।

10. मैं माननीय सदस्यों को आश्वस्त करना चाहता हूँ कि हम स्थिति की बहुत गंभीरता से निगरानी रख रहे हैं और राज्यों को अपेक्षित सहायता प्रदान की जा रही है। दवाईयों, मास्क और पीपीई का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध है। मैं माननीय सदस्यों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि स्थिति से निपटने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखी जाएगी ।

अनुलग्नक
इन्फ्लुएंजा ए-एच1 एन1
वर्ष
2009
2010
2011
2012
2013
2014
2015
रोगी
27236
20604
603
5044
5253
937
14673*
मौतें
981
1763
75
405
699
218
841*

22.02.0215 के अनुसार

एयरपोर्ट पर अब रॉबर्ट वाड्रा की भी होगी तलाशी

कुछ एयरपोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा का नाम ऐसे लोगों की सूची से हटा दिया है जिन्हें प्रवेश के दौरान तलाशी से छूट हासिल है। यह कदम गृह मंत्रालय की मर्जी के चलते उठाया गया है। सिविल एविएशन मंत्रालय ने मांग की थी कि वाड्रा का नाम डिग्निटेरीज की लिस्ट से हटा दिया जाए। 

गोवा एयरपोर्ट पर ऐसे लोगों की लिस्ट लगी है जिन्हें एयरपोर्ट पर प्रवेश के दौरान तलाशी से छूट प्राप्त है। इस लिस्ट में ३१ नंबर पर वाड्रा के नाम पर सफेद टेप लगा दी गई है। गोवा एयरपोर्ट पर एक सुरक्षा अधिकारी का कहना है, ‘ लोग सवाल पूछते थे कि आखिर वाड्रा का नाम इस लिस्ट में किस आधार पर लगाया गया है। लिहाजा हमने इसे कवर कर दिया। अब कई लोग इस नाम के सूची में न दिखने पर खुशी जताते हैं।’ 

वहीं, एविएशन मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि ‘तलाशी से छूट’ वाली लिस्ट से वाड्रा का नाम हटाए जाने के संबंध में अभी गृह मंत्रालय को फैसला लेना है। एविएशन मंत्रालय के अधिकारी से जब पूछा गया कि क्या क्या केंद्र ने इस लिस्ट से वाड्रा का नाम हटाने का फैसला ले लिया है तो उन्होंने कहा, ‘हमने इस बारे में केंद्र से विचार करने को कहा है लेकिन अब तक उनका जवाब नहीं मिला।’ 

अधिकारी का कहना है कि ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्यॉरिटी (बीसीएएस) गृह मंत्रालय के इनपुट के आधार पर छूट प्राप्त लोगों की लिस्ट तैयार करती है। सूत्रों का कहना है कि गोवा एयरपोर्ट कोई अपवाद नहीं है। कई दूसरे एयरपोर्ट्स ने सिक्यॉरिटी चेक एरिया में लगी लिस्ट वाड्रा का नाम हटाना शुरू कर दिया है। 

बीसीएएस की ‘तलाशी से छूट’ प्राप्त लोगों की संख्या ३० है। इनमें राष्ट्रपति और एसपीजी सुरक्षा हासिल लोग भी शामिल हैं। नई सरकार के शपथ लेने के बाद सरकार की ओर कहा गया था कि इस लिस्ट का विश्लेषण किया जाएगा और इसमें केवल जरूरी लोगों को शामिल किया जाएगा।

राम राज्य की कल्पना आज प्रासंगिक है - रामायण मेले में मोदी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि समय आ गया है जब हमें विदेश मामलों और विदेश संबंधों के लिए एक महत्वपूर्ण कार्यनीति के रुप में साफ्ट पावर की संभावना को समझना होगा। प्रधानमंत्री नई दिल्ली स्थित फिक्की ऑडिटोरियम में पहले अंतर्राष्ट्रीय रामायण मेले के उद्घाटन के बाद बोल रहे थे। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया में विदेशी मामलों में साफ्ट पावर बहुत तेजी से महत्वपूर्ण होती जा रही है। उन्होंने कहा कि भारत को दुनिया के देशों के साथ संबंध स्थापित करते समय अपनी महान परंपराओं और संस्कृति को गहराई, अधिक व्यक्तिगत और अधिक शक्तिशाली तरीके से महत्व देना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जिन देशों की संस्कृति में गौतम बुद्ध, राम और रामायण हैं उनके भारत के साथ संबंध हैं जिनसे कूटनीतिक संबंध आगे बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि साफ्ट पावर के क्षेत्र में भारत के पास दुनिया के सामने पेश करने के लिए बहुत कुछ है। 

प्रधानमंत्री ने उन दिनों की चर्चा की जब भारतीय टेलीविजन पर धारावाहिक रामायण दिखाया जाता था। उन्होंने कहा कि इस कथा ने हर उम्र और हर जगह के लोगों को जोड़ा। रामायण में अभय और निर्भय के साथ महिला के सम्मान की रक्षा करने वाले जटायु के चरित्र का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि रामायण की कथा महिलाओं के सम्मान का संदेश देती है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि राम राज्य की कल्पना एक दूरदर्शिता थी जो आज प्रासंगिक हैः

इसमें आज के स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण संदेश है। "अल्पमृत्यु नहिं कवनिउ पीरा। सब सुंदर सब बिरुज सरीरा।।" यानी कोई समय से पहले नहीं मरता, सभी शारीरिक दृष्टि से स्वस्थ और मजबूत हैं।

इसमें सामाजिक सौहार्द का संदेश है। "सब नर करहिं परस्पर प्रीती। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीती।।" यानी सभी के बीच सामाजिक सौहार्द और आपसी विश्वास तथा प्रेम का माहौल है। सभी अपने धर्म और जिम्मेदारियों का पालन कर रहे हैं। 

नागरिकों के आचरण पर इसमें कहा गया है। "सब उदार सब पर उपकारी। बिप्र चरन सेवक नर नारी।।" यानी सभी उदार और दानी। सभी पुरुष और महिलाएं दूसरों की सेवा में हैं। 

सामाजिक आचरण के बारे में इसमे कहा गया है। "बयरु न कर काहू सन कोई। राम प्रताप विषमता खोई।।" यानी राम के प्रताप से सभी विषमताएं और मदभेद कम हो गए हैं और कोई भी वैमनस्य में शामिल नहीं है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि रामायण एक आदर्श समाज के प्रत्येक पहलू को विवेक प्रदान करती है। उन्होंने कहा कि अंतर्ऱाष्ट्रीय रामायण मेला छोटे कस्बों को भारत के शहरों से जोड़ने के लिए एक सकारात्मक शुरुआत है। 

इस अवसर पर विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज भी मौजूद थी।

मन की बात में मोदी ने छात्रों से कहा - प्रतिस्पर्धा अपने साथ करें, दूसरों से नहीं

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने विद्यार्थियों से चिंता और तनाव से मुक्त होने और सकारात्मक नजरिया विकसित करने की सलाह दी है। बोर्ड और प्रतियोगी परीक्षाओं के मद्देनजर वह रेडियो कार्यक्रम मन की बात के माध्यम से छात्रों को संबोधित कर रहे थे। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि जीवन के इस महत्वपूर्ण मोड़ पर वह उनके साथ हैं। उन्होंने कहा कि वह इस समय उनको ज्‍यादा अंक लाने का कोई तरीका नहीं बातयेंगे बल्कि, लेकिन परीक्षाओं के प्रति सही नजरिए के महत्व पर बल दिया। उन्होंने छात्रों से घबराने और तनाव में नहीं आने का आग्रह किया। उन्होंने कहा अच्छे प्रदर्शन के लिए सारे प्रयास किए जाने चाहिए जबकि परीक्षाओं को बोझ नहीं बनना चाहिए। 

अपने ही रिकॉर्ड तो 35 बार तोड़ने वाले प्रसिद्ध खिलाड़ी सर्गेई बुबका का उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा प्रतिस्पर्धा किसी और के साथ नहीं स्वयं अपने साथ होनी चाहिए । उन्होंने छात्रों से अपनी क्षमताओं, तैयारी और कड़े परिश्रम पर भरोसा रखने का आग्रह किया।

प्रधानमंत्री ने कहा अपने लक्ष्यों के प्रति दृढ़ रहें, संकल्प के प्रति अटल; सफलता पीछे चलेगी।

उन्होंने कहा परीक्षाएं सीखने और अपनी क्षमताओं की पहचान की माध्‍यम होनी चाहिए ना कि दूसरों को दिखाने के लिए।

प्रधानमंत्री ने सभी छात्रों को आने वाली परीक्षाओं के लिए शुभकामनाएं दी। 

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers