ताज़ा समाचार (Fresh News)

राष्ट्र विरोधी ताकत की शह पर बोल रहे हैं दिग्विजय - सिंघल

योग गुरु बाबा रामदेव की संपत्ति को काला धन बताने के कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के बयान पर विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंहल ने कहा है कि देश में संत-महात्माओं के खिलाफ कांग्रेस नेता की इस बयानबाजी के पीछे जरूर किसी राष्ट्र विरोधी ताकत की शह है।

उन्होंने इस रहस्य पर से पर्दा उठाए जाने के लिए जांच कराने की मांग की। अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत में सिंहल ने कहा कि भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी कांग्रेस पार्टी को बचाने और मुस्लिम तुष्टीकरण के लिए दिग्विजय हिंदू संगठनों और साधु-संतों पर झूठे आरोप लगा रहे हैं। ऐसी राजनीति कांग्रेस को अतीत की पार्टी बना देगी। इससे पहले दिग्विजय दिल्ली में बटला हाउस मुठभेड़ के मामले में सरकारी तंत्र पर उंगली उठाने के साथ ही आजमगढ़ के संजरपुर में आतंकी गतिविधियों में संलिप्त लोगों के घर जाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और मुंबई हमले में हेमंत करकरे पर विवादास्पद बयान दे चुके हैं।

ये उनके ऐसे कृत्य हैं, जो स्पष्ट करते हैं कि वह पाकिस्तान या अन्य विदेशी एजेंसियों के इशारे पर समाज को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला, इसरो घोटाला और कॉमनवेल्थ खेल में भ्रष्टाचार आज गांव-गांव में चर्चा का विषय है। स्विस बैंक में काला धन जमा करने वालों का नाम बताने के लिए सरकार तैयार नहीं है, इसके उलट दिग्विजय सिंह समाज की सेवा के फलस्वरूप संपदा प्राप्त करने वाले बाबा रामदेव पर काले धन को आरोप लगा रहे हैं।

सिंहल ने कहा कि उनकी इस तरह की बयानबाजी कांग्रेस की गिरती प्रतिष्ठा को न तो बचा पाएगी और न उसे दोषमुक्त सिद्ध कर सकेगी। सिंहल ने गोधरा कांड में मुख्य आरोपियों को बरी किए जाने पर भी सवाल खड़े किए। कहा, इन्हें इसलिए बरी किया गया, क्योंकि यह दोनों कांग्रेस के नेता थे।

गोधरा कांड के फैसले में यह सिद्ध हो चुका है कि यह घटना कारसेवकों की हत्या की साजिश थी, फिर भी मामले में मुख्य आरोपी कैसे छूट गए, आज पूरा देश यह पूछ रहा है। गोधरा के फैसले के बाद कांग्रेस की बोलती बंद है।

पूरा रेलवे बजट डाउनलोड करे (Download Railway Budget 2011-12

  • इस साल 1500 ट्रेनें रद्द करनी पड़ीं.
  • रेलवे जोनों में टक्‍कर-रोधी उपकरण.
  • पिछले पांच साल में रेल हादसे में कमी आई है.
  • प्रभावित बस्‍तर-गढ़चि‍रौली के बीच रेल लाइन बनाई जाएगी.
  • बनर्जी ने किया प्रधानमंत्री रेल विकास योजना का ऐलान.
  • बिछाने का लक्ष्‍य 1000 किलोमीटर से घटाकर 700 किलोमीटर किया गया.
  • जम्‍मू में सुरंग पुल बनाने का ट्रेनिंग कॉलेज बनाया जाएगा.
  • मणिपुर में डीजल लोकोमेटिव सेंटर बनाया जाएगा.
  • इंफाल को रेलवे नेटवर्क से जोड़ा जाएगा.
  • उड़ीसा में भी कोच फैक्‍ट्री बनाई जाएगी.
  • सिंगूर में मेट्रो कोच फैक्‍ट्री बनाई जाएगी.
  • बोंगोईगांव और नंदीग्राम में औद्योगिक पार्क बनाया जाएगा.
  • निजी निवेश से 85 प्रस्‍ताव आए हैं.: ममता बनर्जी
  • गांवों को रेल से जोड़ने का प्रयास हो रहा है: ममता बनर्जी
  • राय बरेली कोच फैक्‍ट्री का काम तेजी से हो रहा है: ममता
  • ममता ने कहा, ज्‍यादा दे डिब्‍बे उपलब्‍ध कराने की योजना.
  • ममता ने कहा, कर्मचारियों के काम की तारीफ नहीं होती.
  • ममता ने कहा, रेलवे से देश में आर्थिक विकास हुआ.
  • रेल कर्मचारियों पर मुझे गर्व है: ममता बनर्जी

पूरा बजट डाउनलोड करे :

वीर सावरकर एक जन्मजात क्रांतिकारी थे - ज्योत्सना कामत

अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंकने वाले और हिन्दुत्व शब्द के प्रतिपादक स्वातंó वीर सावरकर ने अपने क्रांतिकारी कदमों से युवाओं में आजादी का जज्बा भरने के साथ ही ब्रितानिया हुकूमत की नाक में दम कर दिया था।

नासिक के नजदीक भागपुर गांव में 28 मई 1883 को जन्मे सावरकर के व्यक्तित्व के साथ कई विवाद भी जुड़े हैं ।



एक ओर वह जहां सेल्युलर जेल की दीवारों को देशभक्ति की कविताओं से पाट देने वाले और 1857 की पहली जंग आजादी पर मशहूर किताब लिखने वाले महान शख्स के रूप में नजर आते हैं वहीं महात्मा गांधी की हत्या में उन पर लगे आरोप और रिहाई के लिए ब्रिटिश सरकार के साथ कथित समझौते को लेकर विवादित भी हो जाते हैं

महात्मा गांधी की हत्या में उन पर लगा आरोप हालांकि साबित नहीं हो पाया लेकिन यह आज भी उनके व्यक्तित्व का पीछा छोड़ता नजर नहीं आता ।

सावरकर को लेकर आज जहां राजनीतिक दल आपस में बंटे हैं वहीं इतिहासकार भी उनकी शख्सियत को अपने..अपने ढंग से पेश करते नजर आते हैं ।

डॉ. ज्योत्सना कामत के अनुसार सावरकर एक महान क्रांतिकारी थे जिन्होंने हमेशा देश की आजादी और देश के भले के लिए काम किया ।

कामत ने लिखा है कि सावरकर एक जन्मजात क्रांतिकारी थे । उन्होंने जहां लंदन में भारत की आजादी का बिगुल फूंका वहीं भारत में रहकर भी उन्होंने अंग्रेजों से जमकर लोहा लिया । स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में उनका अद्वितीय स्थान है ।

भूपेन हजारिका गंभीर, अस्पताल में भर्ती

प्रख्यात कलाकार और संगीतज्ञ भूपेन हजारिका को गुवाहाटी के एक अस्पताल में कल शाम भर्ती कराया गया।

85 वर्षीय प्रख्यात संगीतज्ञ ने श्री श्री शंकर देव कलाक्षेत्र में एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद सांस लेने में दिक्कत की शिकायत की थी।

पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि इसके तत्काल बाद उन्हें निकटवर्ती हयात अस्पताल ले जाया गया जहां हृदय विज्ञानियों और अन्य चिकित्सकों ने उनकी जांच की।

गोधरा कांड नहीं था हादसा, रची गई थी साजिश

गुजरात के गोधरा में 27 फरवरी, 2002 को कारसेवकों से भरी साबरमती एक्सप्रेस की एस6 बोगी में आग लगाए जाने के मामले में मंगलवार को विशेष अदालत ने पहली बार फैसला सुनाया। इस अग्निकांड में 58 कारसेवकों की मौत हुई थी। विशेष अदालत ने इस मामले में 31 लोगों को दोषी करार दिया और 63 लोगों को बरी कर दिया। अदालत ने माना कि आग साजिश के तहत लगाई गई थी, कि यह हादसा था। दोषी करार दिए गए लोगों के लिए सजा का ऐलान 25 फरवरी को किया जाएगा।

सरकार ने मौलाना उमरजी को साबरमती एक्‍सप्रेस में आग लगाने का मुख्‍य साजिशकर्ता बताया था, लेकिन अदालत ने उन्‍हें बरी कर दिया है। इस मामले में मंगलवार को 9 साल में पहली बार फैसला आया। फैसले के मद्देनजर गोधरा, अहमदाबाद और बडोदरा में पुलिस को सतर्क कर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं।

हाल के वर्षो में देश के इतिहास में हुए इस सबसे बड़े अपराध के मामले में विशेष अदालत ने मंगलवार को साबरमती केंद्रीय जेल परिसर में अपना फैसला सुनाया। गोधरा में 27 फरवरी 2002 को साबरमती एक्सप्रेस के एस6 कोच में आग लगा दी गई थी जिसमें 58 लोगों की मौत हो गयी थी। इस घटना के बाद भड़के दंगों में करीब 1100 लोगों की मृत्यु हो गई और संपत्ति को भारी नुकसान पंहुचा था।

पुलिस उपायुक्त सतीश शर्मा के अनुसार इस फैसले के मद्देनजर जेल परिसर के साथ ही सभी संवेदनशील स्थानों पर कड़ी चौकसी बरती जा रही है और किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस के 8000 जवानों के साथ ही, राज्य रिजर्व पुलिस बल की 25 कंपनियां, त्वरित कार्रवाई बल की तीन टुकड़ियां और होमगार्ड के जवानों की तैनाती की गई है।

प्रशासन ने अहमदाबाद और गोधरा में सार्वजनिक प्रदर्शनों को प्रतिबंधित कर धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी है। इसके अलावा मीडिया द्वारा इस घटना से जुड़ी तस्वीरों के प्रकाशन एवं प्रसारण पर रोक है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक यहां स्थित साबरमती सेंट्रल जेल कांप्लेक्स सहित सभी संवेदनशील इलाकों में पुलिस बल तैनात किया गया है। इसके अलावा एसआरपी और आरपीएफ की टीम गश्त करेगी। मध्य गुजरात के वडोदरा, पंचमहाल, दाहोद, नर्मदा और भरूच में भी विशेष सतर्कता बरती जा रही है।

इस केस में कुल 97 आरोपी लंबे समय से जेल में हैं। गोधराकांड की जांच भी विशेष जांच टीम ने की थी।

प्रमुख साजिशकर्ता : मौलवी हुसैन हाजी इब्राहिम उमरजी

प्रमुख कोर टीम : हाजी बिलाल, सलीम जर्दा, शौकत अहेमद चरखा उर्फ लालु(फरार), सलीम पानवाला (फरार), जबीर बिनयामीन बहेरा, अब्दुलरजाक कुरकुरे, अब्दुलरहेमान मेंदा उर्फ बाला, हसन अहेमद चरखा उर्फ लालु, महेमुद खालिद चांद

प्रमुख कोर टीम के सहायक : फारुक अहेमद भाण(फरार), महंमद अहेमद हुसेन उर्फ लतिको, इब्राहिम अहेमद भटकु उर्फ फेटु (फरार)

कसाब की फांसी पर पक्की मुहर, दो बरी

मुंबई हमलों में गिरफ्तार पाकिस्तानी आतंकी अजमल आमिर कसाब को दी गई फांसी की सजा पर सुनवाई करते हुए सोमवार को बांबे हाई कोर्ट ने फांसी के फैसला को बरकरार रखा है। आज बांबे हाईकोर्ट में जस्टिस रंजना देसाई और आर.वी.मोरे की बेंच ने कसाब की फांसी पर पक्की मुहर लगा दी।

इससे पहले कसाब की वकील फरहाना शाह ने कहा, 'वह बहुत कमजोर और थका हुआ लगता है। शायद वह स्वस्थ नहीं है। वह मुश्किल से किसी से बात करता है और उसकी वे आदतें बदल गई हैं, जिसके लिए वह जाना जाता है।'

शाह ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सोमवार को बंबई हाई कोर्ट में कसाब की पेशी से संबंध में ऑर्थर रोड स्थित सेंट्रल जेल में उससे छोटी सी मुलाकात की थी। आज अदालत ने इस मामले में अपना अंतिम फैसला सुनाया है।

फरहाना ने कहा कि कसाब बहुत गुमसुम, हतोत्साहित और उदास दिख रहा था। फरहाना ने कहा, 'वह कोई अखबार चाहता था, लेकिन मेरे पास अखबार नहीं था। उसका घमंड गायब हो गया है। जब मैंने उससे कहा कि फैसले के समय विडियो कैमरे के सामने उसे मौजूद रहना है, तो वह तुरंत तैयार हो गया।'

उसके पूर्व के स्वभाव में यह बड़ा बदलाव था। इसके पहले एक शुरुआती सुनवाई के दौरान उसने हिंसक रुख दिखाया था। उसने तब विडियो कैमरे पर थूक दिया था। उसने फांसी की सजा को अस्वीकार कर दिया था और खुद को अमेरिका भेजने की मांग की थी।

गौरतलब है कि लोअर कोर्ट के स्पेशल जज एम.एल.ताहिलयानी ने मई 2010 में कसाब को फांसी की सजा सुनाई थी।

मुबंई हमलों की रैकी में मदद करने के आरोपी बनाए गए शबाउद्दीन और फहीम अंसारी को कोर्ट ने बरी कर दिया है। मामले की जांच कर रही एटीएस फहीम अंसारी और शबाउद्दीन के खिलाफ पर्याप्त सबूत पेश नहीं कर पाई। कोर्ट ने सबूतों के अभाव में इन दोनों भारतीय आरोपियों को बरी कर दिया है।


मुंबई हमलों में गिरफ्तार पाकिस्तानी आतंकी अजमल आमिर कसाब को दी गई फांसी की सजा पर सुनवाई करते हुए सोमवार को बांबे हाई कोर्ट ने फांसी के फैसला को बरकरार रखा है। आज बांबे हाईकोर्ट में जस्टिस रंजना देसाई और आर.वी.मोरे की बेंच ने कसाब की फांसी पर पक्की मुहर लगा दी।

इससे पहले कसाब की वकील फरहाना शाह ने कहा, 'वह बहुत कमजोर और थका हुआ लगता है। शायद वह स्वस्थ नहीं है। वह मुश्किल से किसी से बात करता है और उसकी वे आदतें बदल गई हैं, जिसके लिए वह जाना जाता है।'

शाह ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सोमवार को बंबई हाई कोर्ट में कसाब की पेशी से संबंध में ऑर्थर रोड स्थित सेंट्रल जेल में उससे छोटी सी मुलाकात की थी। आज अदालत ने इस मामले में अपना अंतिम फैसला सुनाया है।
फरहाना ने कहा कि कसाब बहुत गुमसुम, हतोत्साहित और उदास दिख रहा था। फरहाना ने कहा, 'वह कोई अखबार चाहता था, लेकिन मेरे पास अखबार नहीं था। उसका घमंड गायब हो गया है। जब मैंने उससे कहा कि फैसले के समय विडियो कैमरे के सामने उसे मौजूद रहना है, तो वह तुरंत तैयार हो गया।'

उसके पूर्व के स्वभाव में यह बड़ा बदलाव था। इसके पहले एक शुरुआती सुनवाई के दौरान उसने हिंसक रुख दिखाया था। उसने तब विडियो कैमरे पर थूक दिया था। उसने फांसी की सजा को अस्वीकार कर दिया था और खुद को अमेरिका भेजने की मांग की थी।

गौरतलब है कि लोअर कोर्ट के स्पेशल जज एम.एल.ताहिलयानी ने मई 2010 में कसाब को फांसी की सजा सुनाई थी।

मुबंई हमलों की रैकी में मदद करने के आरोपी बनाए गए शबाउद्दीन और फहीम अंसारी को कोर्ट ने बरी कर दिया है। मामले की जांच कर रही एटीएस फहीम अंसारी और शबाउद्दीन के खिलाफ पर्याप्त सबूत पेश नहीं कर पाई। कोर्ट ने सबूतों के अभाव में इन दोनों भारतीय आरोपियों को बरी कर दिया है।

पहले बाबा रामदेव अपनी संपत्ति का हिसाब दे फिर कांग्रेस पर आरोप लगाये - दिग्गी

अरुणाचल प्रदेश के सांसद के बाद अब कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह, जो लगता है की मानसिक रूप से लाचार हो चुके हैं, ने भी योग गुरु बाबा रामदेव पर निशाना साधा है।

दिग्विजय ने रविवार को गुना मध्यप्रदेश में संवाददाताओं से चर्चा में कहा कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कुछ भी कहने से पहले ‘बाबा’ को अपनी संपत्ति की घोषणा करना चाहिए। उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ बाबा रामदेव की मुहिम के बारे में किए गए सवाल के जवाब में यह बात कही।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि यदि रामदेवजी राजनीति से जुड़ना चाहते हैं तो उन्हें खुलकर इसके लिए सामने आना चाहिए।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers