ताज़ा समाचार (Fresh News)

मुस्लिम संघठन का बीफ फेस्टिवल के विरोध में प्रदर्शन

हैदराबाद स्थित उस्मानिया विश्वविधालय में कुछ दलित छात्रों द्वारा मनाए गए "बीफ फेस्टिवल" का जम कर विरोध हुआ। और इस विरोध को करने वाला कोई और नहीं बल्कि एक मुस्लिम संगठन है। आपको बताते चलें की छत्तीसगढ़ के बुधापारा में मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा गोमांस और गोहत्या के विरोध एक धरने का आयोजन किया गया।धरने में मौजूद लोगों ने अपना तर्क देते हुए कहा की इस तरह के आयोजनों से गोहत्या को बढ़ावा मिल रहा है जो की समाज के हित में बिलकुल भी ठीक नहीं है। 

धरने के दौरान मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद अफजल ने अपना रोष प्रकट करते हुए कहा कि , ऐसे पर्व हमारी सभ्यता और संस्कृति के साथ खिलवाड़ हैं। ऐसे पर्व महज गोहत्या को प्रोत्साहित करने का माध्यम बनते जा रहे हैं। जिसकी इजाजत हमारी संस्कृति बिलकुल भी नहीं देती है। अफजल ने गोहत्या के विषय पर जोर देते हुए कहा कि सरकार को तुरंत कि इसके खिलाफ मुहीम चलानी चाहिए और अगर फिर भी कोई व्यक्ति या संस्था गोहत्या में संलिप्त पाई जाती है तो उस पर कठोर दंडात्मक कार्यवाही हो । 

अफजल ने मांग करते हुए कहा कि ऐसे पर्व हिन्दू मुस्लिम एकता के बीच एक दीवार का काम कर रहे हैं और अगर इन्हें नहीं रोका गया तो इससे दोनों संस्कृतियों के बीच एक बहुत बड़ी दरार पैदा हो सकती है। 

छत्तीसगढ़ यूनिट के अध्यक्ष डाक्टर शाहिद राज ने अपनी बात रखते हुए कहा कि ऐसे पर्व एक विश्वविधालय के अन्दर शोभा नहीं देते ऐसे पर्व कौमी एकता के मुद्दे पर संकट के बदल लाते हैं साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि विश्वविधालय प्रशासन को इसकी आयोजन समिति पर कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही करनी चाहिए। 

धरने में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने उत्तर प्रदेश के आगरा से आये शहजाद अली ने चिंता प्रकट करते हुए ऐसे पर्वों को आसामाजिक तत्वों द्वारा कि गयी पहल का हिस्सा बताते हुए कहा कि बड़े अफ़सोस की बात है की हमारी सरकार ऐसे आयोजनों के लिए इजाजत दे देती है। 

आगे बोलते हुए शहजाद ने कहा की ऐसे कृत समाज में एक दूसरे के लिए नफरत को बढ़ावा देने के अलावा कुछ नहीं कर सकते। उन्होंने सरकार के साथ साथ उस्मानिया विश्वविधालय प्रशासन से मांग करते हुए कहा की वो तत्काल इस पर्व "बीफ फेस्टिवल" पर रोक लगाये। धरने के दौरान मौजूद लोगों ने ये भी कहा की अगर सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करती है तो एक बड़े स्तर में, सम्पूर्ण भारत भर में इस बीफ फेस्टिवल के खिलाफ विरोध किया जायगा ।

जम्मू कश्मीर पर वार्ताकारों की रिपोर्ट का भाजपा द्वारा तीव्र विरोध

जम्मू एवं कश्मीर पर सरकार द्वारा नियुक्त वार्ताकारों की गुरूवार को सार्वजनिक हुई रिपोर्ट का भाजपा ने विरोध किया है। पार्टी ने रिपोर्ट के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित कर कहा कि यह भारत के साथ कश्मीर की अखंडता के खिलाफ है।

मुम्बई में जारी भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह प्रस्ताव पारित किया गया। प्रस्ताव चूंकि बैठक के एजेंडे में शामिल नहीं था लेकिन रिपोर्ट के सार्वजनिक होने पर पार्टी ने प्रस्ताव पारित कर इसका विरोध किया। 

रिपोर्ट में राज्य से सम्बंधित सभी केंद्रीय कानूनों की समीक्षा करने के लिए एक संवैधानिक समिति के गठन और अनुच्छेद 370 को स्थाई बनाने की अनुशंसा की गई है। अनुच्छेद 370 राज्य को विशेष दर्जा देता है। 

पार्टी की प्रवक्ता निर्मला सीतारमन ने कहा, "प्रस्ताव में यह भावना है कि रिपोर्ट से हम निराश हुए हैं। भाजपा रिपोर्ट को खारिज करती है।" बैठक में शामिल पार्टी के वरिष्ठ नेता अरूण जेटली ने प्रस्ताव पेश किया। 

सीतारमन ने कहा, "संसद के बजट सत्र के स्थगित होने से 36 घंटे के भीतर रिपोर्ट को सार्वजनिक किया गया है लेकिन इसे संसद में पेश किया जाना चाहिए था।" उन्होंने कहा, "रिपोर्ट में कुछ तल्ख वास्तविकताओं को पूरी तरह से नजरंदाज किया गया है। "

प्रवक्ता ने कहा, "रिपोर्ट यह स्वीकार करने में असफल हुई है कि शेष भारत के साथ कश्मीर की अखंडता में अनुच्छेद 370 एक मनोवैज्ञानिक बाधा है। इस अनुच्छेद को समाप्त करने के बजाय, इसे स्थायी बनाने की अनुशंसा की गई है।" 

उल्लेखनीय है कि पत्रकार दिलीप पडगांवकर के नेतृत्व में वार्ताकारों की टीम ने अक्टूबर 2011 में केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदम्बरम को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी जिसे गुरूवार को सार्वजनिक किया गया।

उधर राजनीतिक विश्लेषक ए जी नूरानी भी समिति की रिपोर्ट को पूरी तरह खारिज करते हुए कहते हैं कि इससे जम्मू कश्मीर की समस्या सुलझने की बजाए और उलझेगी.

मोदी ही हो प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार - येदियुरप्पा

नरेन्द्र मोदी के प्रशासनिक कौशल की तारीफ करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने कहा कि बैठक में अन्य मसलों के साथ ही मोदी को पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर पेश करने पर विचार होना चाहिए।

सूत्रों से खबर मिली है कि गुरूवार देर शाम गडकरी व अरूण जेटली के साथ हुई बातचीत के बाद  येदियुरप्पा अब शुक्रवार सुबह ही मुम्बई रवाना होंगे।

भाजपा-आएसएस के बीच समन्वय भूमिका निभा रहे संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी भी कार्यकारिणी में पहुंचे और गडकरी से मिले। उन्होंने बंद कमरे में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से भी चर्चा की।

दिग्विजय को आई अक्ल : जल्द लेंगे राजनीती से संन्यास

अपने बिना सर पैर के बयानो को लेकर हमेशा में विवादों में रहने वाले कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने फिर एक चौंकाने वाला बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि मेरी उम्र के राजनेताओं को अब राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए।दिग्विजय सिंह ने यह बात गुना, मध्यप्रदेश में बुधवार को एक समारोह में कही।

65 साल के दिग्विजय सिंह ने कहा कि अब वक्त आ गया है जब मेरी उम्र के नेताओं को राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए ताकि युवा नेतृत्व सामने आए और अपनी जिम्मेदारी संभाल ली।

मौका दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन की दूसरी यात्रा के संपन्न होने का था। इस मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि नई पीढ़ी से सबको काफी उम्मीदें हैं। यह उम्मीद पूरी करने का मौका इस पीढ़ी को मिलना चाहिए। 

हालांकि दिग्विजय सिंह ने इसके साथ ही यह भी कहा कि अगर पार्टी चाहेगी तो वह 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने इतना और साफ कर दिया कि उनके विधानसभा चुनाव लड़ने का कोई सवाल नहीं उठता। अगर पार्टी से टिकट मिला तो उनके बेटे जयवर्धन जरूर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

बाबा रामदेव और स्वामी सुखानन्द में हुई मुलाकात

बाबा रामदेव के बहरोड़ (राजस्थान) पहुंचने पर सामाजिक संगठन राष्ट्रीय नवचेतना रेवाड़ी का एक प्रतिनिधिमंडल स्वामी सुखानन्द के नेतृत्व में उनसे मिला तथा उन्हें सोमाणी इंजीनियरिंग कालेज रेवाड़ी में पधारने का न्यौता दिया। 

उक्त जानकारी देते हुए स्वामी सुखानन्द ने बताया कि बाबा रामदेव आगामी 28 व 29 मई को रेवाड़ी आ रहे हैं तथा इस अवसर पर उन्हें सोमाणी पीजी कालेज परिसर में बुलाने का न्यौता दिया गया है। उन्होंने न्यौता स्वीकार किया है। 

इस मौके पर सुखानंद ने उन्हें कॉलेज का स्मृति चिन्ह व स्वतंत्रता सेनानी स्व. आरडी सोमाणी की जीवनी भेंट की।

जयाप्रदा के भाजपा में शामिल होने की घोषणा जल्द ही

एजेंडा 2014 पर भाजपा की तैयारियां शुरू हो गई है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कुछ सीटें गंवाने के बाद अभी से लोकसभा चुनाव के लिए जिताऊ उम्मीदवार ढूंढे़ जाने लगे हैं। भाजपा में अब जयाप्रदा को शामिल करने की राह लगभग तैयार है। सही वक्त पर इसकी घोषणा हो सकती है।

हाल के विस चुनाव नतीजे ने भाजपा को सचेत कर दिया है। यूपी विस चुनाव में बसपा छोड़कर आए बाबू सिंह कुशवाहा भले ही पार्टी को लाभ न पहुंचा पाएं हो, लोकसभा में ऐसे उम्मीदवार की तलाश होगी जो अपनी सीट पर मजबूत दावेदार साबित हो।

इस क्रम में पिछले दो बार से खो रही रामपुर सीट पर उम्मीदवार तय माना जा रहा है। तकनीकी कारणों से सपा में मौजूद होते हुए भी दूर खड़ी जयाप्रदा को ही भाजपा वहां से अपना दावेदार बना सकती है। बताते हैं कि पार्टी में इसका निर्णय ले लिया गया है। 

जयाप्रदा की नितिन गडकरी से मुलाकात हो चुकी है और रामपुर से सांसद रह चुके मुख्तार अब्बास नकवी की भी सहमति ले ली गई है। सपा के मजबूत नेता आजम खां के विरोध के बावजूद जयाप्रदा ने रामपुर फतह किया था। उनकी जीत में राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने भी अहम भूमिका निभाई थी।

जाहिर है कि वह भाजपा उम्मीदवार होंगी तो अमर अपने प्रभाव का भी इस्तेमाल जरूर करेंगे। वह तकनीकी रूप से सपा की सदस्य हैं। यह और बात है कि पिछले एक डेढ़ साल में उन्होंने पार्टी व्हिप का पालन नहीं किया है। लिहाजा सही वक्त आने पर ही वह भाजपा में शामिल होंगी।

सरसों चोरी में लिप्त कांग्रेस जिला प्रमुख निष्कासित

सरसों चोरी प्रकरण में गिरफ्तार पूर्व जिला प्रमुख राजवीर सिंह को कांग्रेस ने छह वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है। 

पार्टी के जिलाध्यक्ष गिरीश चौधरी ने बताया कि यह कार्रवाई पार्टी की अनुशासन समिति के संयोजक श्याम सिंह गुर्जर ने की। इसी तरह कृपाल सिंह जघीना को भी पार्टी से 6 वर्ष के लिए निष्कासित किया है।

आईपीएल पर प्रश्न उठाने पर बीसीसीआई ने कीर्ति आजाद का पैसा रोका

आईपीएल औऱ बीसीसीआई के खिलाफ पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने आवाज उठाई तो बीसीसीआई ने उनका पैसा रोक दिया है. कीर्ति आजाद को करीब 50 लाख मिलने थे. 

कीर्ति आजाद 1983 की विश्व कप जीतने वाली टीम के सदस्य रहे हैं. पेमेंट रोकने के बाद कीर्ति आजाद के तेवर आईपीएल और बीसीसीआई के खिलाफ और कड़े हो गए हैं. कीर्ति आजाद इसे अपनी मुहिम की जीत मान रहे हैं.

बीसीसीआई की ओर से अनुभव के हिसाब से पूर्व खिलाड़ियों को एकमुश्त रकम मिलनी थी. आईपीएल और टी-20 के सफल आयोजन से जमा हुई रकम में से पैसे मिलने थे.

कपिल देव और मोहम्मद अजहरुद्दीन को भी ये बेनेफिट नहीं मिलेगा क्योंकि कपिल देव बागी लीग आईसीएल में शामिल थे, जबकि अजहर पर आजीवन पाबंदी है.

कभी भी गिर सकती है केंद्र सरकार - शाहनवाज हुसैन

भाजपा का कहना है केंद्र की यूपीए सरकार किसी भी समय गिर सकती है क्योंकि गठबंधन सरकार के घटक दल उससे खुश नहीं हैं।

भाजपा संसदीय दल की बैठक में पार्टी ने सरकार के तीन साल के कार्यकाल को घपलों और घोटालों से भरा बताया। बैठक के बाद भाजपा प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि यूपीए के घटक दल आपस में खुश नहीं है। 

ममता बनर्जी ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि एक घटक दल तो साथ मिल कर भोज तक करने को तैयार नहीं है। आप रिश्‍तों का हाल समझ सकते हैं। उन्होंने कटाक्ष किया कि मुझे हैरानी है कि सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर जो दावत दी गई है उसका जायका कैसा होगा।

यूपीए के तीन साल के शासन के बारे में उन्होंने कहा कि इसे ‘काले अक्षरों’ में ही लिखा जा सकता है। हुसैन ने कहा कि यह सरकार कभी भी गिर सकती है। भले ही सरकार लोकसभा में बहुमत के लिए 272 सांसदों के समर्थन का दावा करती है लेकिन वास्तव में उसके पास 227 सांसद भी नही हैं।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers