ताज़ा समाचार (Fresh News)

बांग्लादेश में हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ लगातार जारी

बांग्लादेश में चुनाव बाद अल्पसंख्यकों पर हमलों का सिलसिला जारी है. देश के मध्य हिस्से में एक हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ के बाद उसमें आग लगा दी गयी.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कुछ अज्ञात लोगों ने नेत्रकोना जिले में स्थित काली मंदिर के एक हिस्से में तोड़फोड़ की.

समाचार पत्र ‘द डेली स्टार’ के अनुसार स्थानीय लोगों ने 45 मिनट बाद आग बुझाई.

इस घटना के एक दिन पहले प्रधानमंत्री शेख हसीना ने अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय पर हमला करने वालों की गिरफ्तारी का वादा किया था.

मडगांव विस्फोट: न्यायालय ने कांग्रेस तथा पुलिस को नंगा किया !

31 दिसंबर 2013 को गोवा के विशेष न्यायालय ने मडगांव विस्फोट की घटना में सनातन के सभी छह साधकों को निर्दोष मुक्त किया । विस्फोट के समय सनातन की ‘सुपारी’ लेकर छाती पीटने वाले चैनलवालों के अभियोग का परिणाम सुनकर सधी चुप्पी तोडने तथा पुलिस के कान साफ करने हेतु यह लेख :

न्यायालय ने कांग्रेस तथा पुलिस को नंगा किया !

31 दिसंबर 2013  को मडगांव विस्फोट घटना के सारे छह आरोपियों को गोवा विशेष न्यायालय ने निर्दोष मुक्त किया । राष्ट्रीय अन्वेषण तंत्र इन आरोपियों के विरुद्ध कोई भी पक्का प्रमाण न्यायालय के सामने न ला सका । प्रथमदर्शी विवरण तो सनातन संस्था को लटकाने के उद्देश्य से ही लिखा गया है, यह बात न्यायालय ने विशेष रूप से निर्देशित की है ।

16 अक्तूबर 2009 को मडगांव विस्फोट के पश्चात पुलिस ने आगे-पीछे कुछ भी सोचे बिना सीधे सनातन आश्रम पर धावा बोल दिया । वहां कुछ भी न मिलनेके कारण पुलिस की नाक कट गई । अब घटी घटना से सनातन का संबंध जोडने हेतु कुछ तो करना ही चाहिए, इस सनातनद्वेषी विचार ने पुलिस एवं कांग्रेसी इन दानों को व्यथित कर दिया । उस व्यथित अवस्था में ही पुलिस तथा दिगंबर कामत प्रशासन ने अन्वेषण में बहुत परिश्रम किए; किंतु अंत में कांग्रेस तथा पुलिस दोनों को ही न्यायालय में ‘दिगंबर’ होना पडा !

चैनेलवालों में सनातन की निर्दोषता का वृत्त दिखाने का साहस नहीं !

मडगांव में विस्फोट हुआ । उसमें सनातन के दो कार्यकर्ता मारे गए । ऐसी स्थिति में सनातन को ही आरोपी के पिंजरे में खडा कर दिगंबर प्रशासन, पुलिस तथा उससे भी अधिक उत्साह से चैनेलवालों ने हमला करना प्रारंभ किया । आइ.बी.एन. लोकमत के संपादक निखिल वागले की नींद तो कब की उड चुकी थी ।8-10 दिनों पश्चात भी उनके चैनल पर चर्वण करने हेतु अन्य विषय ही नहीं था । चर्चा एवं आरोप बडी मात्रा में चल रहे थे । अब पृथ्वी का ही विस्फोट हो जाएगा, इस भाव से वागले की बकबक आरंभ थी । किंतु अभियोग के निर्णय से सबके निर्दोष छूटने पर एक भी चैनेल ने उस संदर्भ में चर्चा आयोजित नहीं की । अजी, चर्चा आयोजित करना तो बडी दूरकी बात हो गई, सनातन की निर्दोषता का केवल वृत्त दिखाने का साहस भी इन चैनेलवालों से हुआ नहीं । 

निरंतर वृत्तपत्र स्वतंत्रता का समर्थन करने वाले सारे बातूनी 31 दिसंबर को कहां छुप गए थे ? कहते हैं, एक हिंदुत्ववादी कार्यकर्ताने, ‘सनातन की निर्दोषताका वृत्त क्यों नहीं दिखाते ?’, ऐसा पूछने हेतु ‘आइ.बी.एन'. लोकमत के कार्यालय में फोन भी किया था । उस समय सामने से उत्तर आया कि, ‘आज थर्टीफस्र्ट' है, अत: वागले साहब नहीं आए हैं तथा दो दिन (होशमें ?) उनके आने की संभावना न होने के कारण कल भी आएंगे अथवा नहीं, कह नहीं सकते । अत: आप ३ जनवरी के पश्चात ही फोन करें । '

क्या चैनेलवालों को पुलिस बहनों की प्रतिष्ठा कौडी के मोल लगती है ?

पूर्व में 11 अगस्त को आजाद मैदान पर मुसलमानों ने दंगा किया । महिला पुलिस बहनों के कपडे फाडकर उनकी विडंबना की, ओ बी वेन जलाई; वे घटनाएं जब घट रही थीं, तो कुछ वाहिनियों ने ही यह वृत्त दिखाया । किंतु वागले नारायण राणे तथा ‘सिंचन’ के नामसे चैनेल पर चिल्ला रहे थे । इसका अर्थ है, वार्ताकारिता के कथित प्रेमियों को पुलिस बहनों की प्रतिष्ठा का कुछ भी मोल नहीं लगा । अथवा पुलिस बहनों की प्रतिष्ठा कौडी के मोल होती है, क्या इन्हें ऐसा लगता है ?

कुछ घंटों में ही तामिलनाडू पहुंचने वाले वार्ताकारों को आठ दिनों में भिवंडी नहीं मिली !

भिवंडी में दो पुलिसकर्मी को मुसलमान दंगाखोरों ने पत्थरों से मार दिया तथा उसके पश्चात पुलिस की ही गाडी में डालकर गाडी जला दी । उन दो पुलिसवालों के शवविच्छेदन का विवरण देखें । वह विवरण बताता है कि उन दो पुलिसवालों के नाखून उखाड दिए गए थे, उनकी आंखें फोड दी गर्इं, उनका लिंग काट दिया गया था, हाथ-पांव जोडों से तोडे गए थे । धर्मांधों ने पुलिस को इस पद्धति से मारा था । इस एक विवरण पर ही अनेक चर्चा आयोजित हो सकती थी; किंतु किसी ने भी साहस नहीं किया । उस समय भी वार्ताकारिता प्रेमी कहीं जाकर छुप गए ।

कांची कामकोटी पीठ के शंकराचार्य को बंदी बनाया गया था । उस समय ‘ब्रेकिंग न्यूज - जेल में जगद्गुरु' इस नाम से चैनल वाले ऊधम मचा रहे थे । मैंने स्वयं स्टार न्यूज के कार्यालय में दूरध्वनि किया तथा उनसे पूछा कि, `शंकराचार्य का वृत्त आप अनेक दिनों से दिखा रहे है; किंतु भिवंडी में घटी घटनाओं के विषयमें अपने चैनल वर केवल ‘तलटिपणी ’ भी क्यों नहीं दिखाते ?' इसपर उस ओर से एक बहन ने कहा कि `हमारे रिपोर्टर अभी भिवंडी नहीं पहुंचे हैं ।’ इसका अर्थ है, कुछ ही घंटों में इनके वार्ताकार कांची पीठ पहुंच गए; किंतु क्या ‘भिवंडी’ नाम की चीज उनके वार्ताकारों को मिली ही नहीं ? यह बात ध्यान में रखें !

सारे चैनलवाले तथा पुलिस अब तो कुछ सोचें । राजनीतिज्ञों की सुनकर पुलिस ने हम हिंदुओं पर झूठे अपराध प्रविष्ट किए, किंतु पुलिस की मां -बहनें हमारी भी मां-बहनें हैं, हम हिंदू यह कभी भी भूलेंगे नहीं; किंतु जिन धर्मांधों को प्रसन्न करने हेतु आप हम पर झूठे अपराध प्रविष्ट करते हो, उनकी दृष्टि में आपकी मां -बहनें युद्ध में प्राप्त हुई लूट अथवा अपने हक की खेती हैं, यह न भूलें ।

धर्मांधों को प्रसन्न करने हेतु चैनेलवालों ने कितने भी प्रयास किए, तो भी धर्मांधों की  दृष्टि में चैनलवालों का मोल ही क्या है, यह 11 अगस्त को आप-हमने देखा है । इतना होने पर भी यह चापलूसी रुकने वाली न हो, तो 11 अगस्त तथा भिवंडी की घटनाओं की पुनरावृत्ति होती रहेगी; किंतु कुछ समय पश्चात हिंदू आपकी सहायता करने नहीं आएंगे, यह बात याद रखें।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers