ताज़ा समाचार (Fresh News)

भाजपा वीरभद्र सिंह को रिश्तेदारों समेत भेजेगी जेल - धूमल

आकंठ भ्रष्टाचार में डूबे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष वीरभद्र सिंह व उनके रिश्तेदार शीघ्र ही सलाखों के पीछे होंगे। मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने तलख टिप्पणी करते हुए कहा कि कथित भूमि सौदों में जिस प्रकार से प्रदेश को बेचने का प्रयास किया गया है, उन सब पर कार्रवाई कर भाजपा उक्त दोषियों को जेल भेजेगी। 

उन्होंने कहा कि पहले सीडी कांड, स्टील मंत्रालय में कबाड़ घोटाला, आयकर विभाग के छापे में किसी वीबीएस व एपीएस का नाम सामने आने और अब जमीन घोटाले की परतें एक के बाद एक खुलने से ईमानदारी का लवादा ओढ़े वीरभद्र सिंह की असलियत जनता के सामने आ रही है। वीरभद्र सिंह को चाहिए कि वह सक्रिय राजनीति से दूर रहकर सन्यास लें। उन्होंने कहा कि एक चैनल ने भू-सौदों को लेकर जिस प्रकार से वीरभद्र सिंह और उनके रिश्तेदारों का भंडाफोड़ किया है, उससे इनकी असलीयत सामने आ गई है। 

श्री धूमल ने कहा कि वीरभद्र सिंह और कांग्रेसी नेता चोर मचाए शोर की कहावत को सही साबित कर रहे हैं। राष्ट्रीय मीडिया में हो रहे एक के बाद एक खुलासों में यह बात स्पष्ट हो चुकी है कि हिमाचल को लूटने वाले और बेचने वाले वीरभद्र सिंह और उनके परिवार के लोग ही हैं। यही लोग हिमाचल की भोली-भाली जनता के असली गुनहगार हैं। अपने गुनाहों पर पर्दा डालने के लिए और लोगों का ध्यान बंटाने के लिए वीरभद्र पिछले कुछ दिनों से भाजपा पर झूठे आरोप लगा रहे थे। 

हिमाचल की जनता वीरभद्र सिंह से जानना चाहती है कि उनके मुख्यमंत्री काल में उनके रिश्तेदार पर किस का वरदहस्त था। जिसकी वजह से उन्होंने 1250 बीघा जमीन दबा रखी, जबकि हिमाचल लैंड सिलिंग एक्ट के अनुसार कोई भी व्यक्ति 168 बीघा से ज्यादा जमीन अपने पास नहीं रख सकता। वीरभद्र सिंह को स्पष्ट करना होगा कि इस बड़े घोटाले में किन-किन लोगों की भागीदारी थी। 

इस मौके पर नरेंद्र ठाकुर, हरिओम भनोट, सुदेश ठाकुर, प्रदीप शर्मा, पवन नंबरदार, विकास, विजय चौधरी, प्राणनाथ, मंजू जरियाल, कमलेश, सतपाल, केडी हिमाचली व डॉ. सुरेंद्र कंवर सहित अनेक भाजपा कार्यकर्ता व नेता उपस्थित थे। मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने शुक्रवार को गगरेट विधानसभा क्षेत्र के मावा कोहलां गांव में भाजपा प्रत्याशी सुशील कालिया, कसौली में राजीव सहजल और नाहन में पार्टी प्रत्याशी डा. राजीव बिंदल के पक्ष में जनसभाओं को संबोधित किया और जनता से भाजपा के पक्ष में समर्थन की अपील की। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की असली करतूत न्यायाधीश सूद की रिपोर्ट ने सिद्ध कर दी है कि हिमाचल को बेचने में कांग्रेस का हाथ है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के दोहरे चहेरे हैं, जो बोलते कुछ हैं और करते कुछ हैं। वीरभद्र सिंह को स्पष्ट करना होगा कि इस बड़े घोटाले में किन-किन लोगों की भागीदारी थी।

गुजरात चुनाव खुद सोनिया गांधी की ही दशा और दिशा बदल देगा - मोदी


चुनावी सभा के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने मतदाताओं से कांग्रेस को सबक सिखाने का आह्वान करते हुए कहा कि यह चुनाव खुद सोनिया गांधी की ही दशा और दिशा बदल देगा। दरअसल कांग्रेस गुजरात विधानसभा चुनाव राज्य की दशा एवं दिशा बदल देने के वादे के साथ लड़ रही है।

वडोदरा जिले के बोदेली में एक विशाल जनसभा में मोदी ने कहा कि सोनिया गांधी की अगुवाई वाली कांग्रेस पार्टी दिशा और दशा बदलने का जाप कर रही है लेकिन गुजरात की जनता सोनिया गांधी को ही दिशा एवं दशा बदलने के लिए बाध्य कर देगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री का बोदेली को नया तहसील बनाने पर अभिनंदन किया गया।

कांग्रेस अध्यक्ष पर प्रहार करते हुए मोदी ने कहा कि इस बार सोनिया गांधी ने दिशा बदल ली और अपनी पार्टी का अभियान शुरू करने के लिए राजकोट गयीं क्योंकि साल 2007 में कांग्रेस उम्मीदवार छोटा उदयपुर में हार गया था जहां से सोनिया गांधी ने चुनाव अभियान शुरू किया था। उन्होंने कहा कि इस बार कांग्रेस को राजकोट में मुंह की खानी पड़ेगी।

मोदी ने कहा कि अबतक तो वह केवल कांग्रेस शासन में किए गए नुकसान को ठीक कर रहे थे और अब जनवरी, 2013 से उत्कृष्ट और श्रेष्ठ गुजरात के लिए सफर शुरू होगा। उन्होंने जनता से वादा किया कि चुनाव के बाद कुछ और नये तहसील एवं जिले बनाये जाएंगे।

जेठमलानी और भागवत भी चाहते हैं कि मोदी ही बने प्रधानमंत्री


जानेमाने वकील और सांसद राम जेठमलानी ने एक बार फिर पीएम पद की दावेदारी के लिए मोदी के नाम को हवा दी है। बीजेपी से राज्यसभा सासंद और देश के जानेमाने वकील राम जेठमलानी ने कहा है कि आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ) के मुखिया मोहन राव भागवत भी चाहते हैं कि 2014 आम चुनाव के लिए बीजेपी प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को घोषित करे।

जेठमलानी ने एक न्यूज चैनल के साथ बातचीत में कहा कि उनकी इस बारे में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन राव भागवत से भी बातचीत हुई है और वह भी चाहते हैं कि मोदी को ही प्रधानमंत्री पद के लिए पार्टी की तरफ से उम्मीदवार होना चाहिए।

हालांकि इस मुद्दे पर आरएसएस ने सधी हुई प्रतिक्रिया दी है। आरएसएस ने जेठमलानी के इस दावे पर कहा है कि यह जेठमलानी के अपने विचार है और इस बारे में भागवतजी ने अभी तक कोई बयान नहीं दिया है।

आरएसएस प्रवक्ता राम माधव ने अपने बयान में कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ बीजेपी के मामले में कभी दखल नहीं देता। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए पार्टी की तरफ से कौन उम्मीदवार हो यह निर्णय पार्टी को स्वयं करना है।

चंद दिन पहले राम जेठमलानी ने बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी को पत्र लिखकर नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की मांग की थी। उन्होंने इस बारे में गडकरी को खत भी लिखा और कहा कि बीजेपी में प्रधानमंत्री पद के लिए उनसे बेहतर कोई उम्मीदवार नहीं और पार्टी में इसपर चर्चा होनी चाहिए।

किसान गजानन ने केजरीवाल के गडकरी पर लगाए गए आरोपों को झूठा बताया


इंडिया अगेंस्ट करप्शन के अरविंद केजरीवाल ने भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी पर किसानों की जमीन हथियाने का आरोप लगाते हुए जिस किसान का जिक्र किया था, उसने तमाम आरोपों को गलत बताया है। केजरीवाल ने गडकरी पर किसानों की 100 एकड़ जमीन हड़पने का आरोप लगाते हुए गजानन घडगे नाम के एक किसान का जिक्र किया था। आईएसी का कहना है कि इस किसान की जमीन पर भी गडकरी खेती कर रहे हैं। लेकिन गजानन ने मीडिया से कहा कि गडकरी से उनका कोई झगड़ा नहीं है। झगड़ा सिंचाई विभाग से है। 

गजानन अपने गांव खुर्सापुर में हैं। उनके मुताबिक, ' गडकरी जी ने मुझे बहूत सपोर्ट किया है। मैं आज भी पूर्ती कल्याणकारी संस्था की जगह पर ही खेती कर रहां हूं। अंजली दमानिया कुछ दिन पहले मुझसे मिलने के लिए आई थीं। उन्होंने मुझसे जमीन के दावे के बारे में बात की थी, लेकिन अभी जो बात वह कह रही हैं वह बिलकुल गलत है। मै कभी भी रोते हुए गडकरीजी से नही मिला। उन्होंने हर बार मेरी मदद ही की है।'

केजरीवाल ने गडकरी और महाराष्ट्र के तत्कालीन सिंचाई मंत्री अजित पवार के बीच साठगांठ के आरोप लगाए। हालांकि गडकरी समेत पूरी भाजपा इन आरोपों का खंडन किया है।

भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी को महाराष्ट्र सिंचाई घोटाले में घसीटने के बाद सुर्खियां बटोर रहे अरविंद केजरीवाल को गुरुवार को एक बड़ा झटका लग सकता है। महाराष्ट्र के पूर्व आईपीएस अधिकारी और पेशे से अधिवक्ता वाईपी सिंह का कहना है कि अरविंद केजरीवाल ने पर्याप्त सबूत होने के बावजूद महाराष्ट्र के एक बड़े मंत्री का नाम सिंचाई घोटाले में नहीं लिया।

वाईपी सिंह गुरुवार शाम को चार बजे मुंबई में प्रेस वार्ता करके इस मंत्री के खिलाफ सबूत पेश करेंगे। वहीं पूरे मामले पर अरविंद केजरीवाल का कहना है कि वो वाईपी सिंह से बात करेंगे। वाईपी सिंह अन्ना हजारे के करीबी रहे हैं।

सिंह ने केजरीवाल पर आरोप लगाया है कि उन्होंने जानबूझ कर बड़े नेताओं के नाम छुपाए। अपने फेसबुक प्रोफाइल पर सिंह ने कहा है कि वो उस मंत्री के खिलाफ सबूत पेश करेंगे जिसका नाम केजरीवाल ने छुपाया है।

कांग्रेस और केजरीवाल मिलकर मुझे बदनाम करना चाहते हैं - गडकरी


बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने अरविंद केजरीवाल के सभी आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि केजरीवाल द्वारा लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद है। यह सिर्फ उन्हें बदनाम करने की साजिश है। कांग्रेस और केजरीवाल मिलकर गडकरी को बदनाम करना चाहते हैं। अपने बचाव में गडकरी ने कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है।

गडकरी ने कहा कि वो अपने क्षेत्र में किसानों की जिंदगी बचा रहे हैं। वो सोशल इंटरप्राइज के रूप में काम कर रहे हैं। जिस जमीन की बात केजरीवाल कर रहे हैं वो जमीन उन्हें लीज पर मिली है।

सभी किसानों को जमीन के बदले पैसे दे दिए गए हैं। किसानों ने जमीन के बदले पैसे लिए हैं। अरविंद के आरोपों पर गडकरी ने अपनी सफाई में कहा कि केजरीवाल ने जिस किसान का नाम लिया है उसने भी पैसे लिए हैं। जो जमीन मुझे मिली है कानूनी तौर से उसमें कोई गड़बड़ी नहीं है।

रांची में दुर्गा माँ के पंडाल का उद्घाटन करेंगे तोगड़िया


विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया शुक्रवार, 19 अक्टूबर को संध्या सवा छह बजे भारतीय नवयुवक संघ, बकरी बाजार के पंडाल का उद्घाटन करेंगे। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष सीपी सिंह भी मौजूद रहेंगे।

सात बजे तोगड़िया का उद्बोधन होगा। इसके बाद 7.45 से भजन संध्या का कार्यक्रम शुरू हो जाएगा। यह जानकारी संघ के अध्यक्ष अशोक चौधरी, मदन बागडिया, राहुल अग्रवाल, रवि रोहतगी आदि ने बुधवार को दी।

इस बार अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर का प्रारूप बनाया गया है। इसके पहले 1992 में भी अयोध्या के राम मंदिर का प्रारूप बनाया गया था। अध्यक्ष अशोक चौधरी ने बताया कि पंडाल की चौड़ाई 135 फीट एवं ऊंचाई 100 फीट है। प्रवक्ता राहुल अग्रवाल ने बताया कि पूरे पंडाल में कपड़े का प्रयोग नहीं किया गया है। पूरा पंडाल फाइबर, थर्मोकोल एवं प्लाई से बनाया गया है। सुरेश मोदी ने बताया कि पंडाल बनाने में सौ कारीगर तीन महीने से लगे हुए हैं। पंडाल को फाइनल टच दिया जा रहा है।

संघ का दावा है कि मां की प्रतिमा सबसे ऊंची है। 24 फीट ऊंची प्रतिमा बनाई जा रही है। प्रतिमाओं में शोला यानी जरी का काम है। मूर्ति को अंतिम रूप मिदनापुर के कारीगर दे रहे हैं। पंडाल का गर्भगृह भी रामायण की कथा सुनाएगा।

पंडाल तो अपने आप में विशेष है ही। भक्त इस बार मां के दर्शन से पहले राम लला का दर्शन करेंगे। पंडाल के सामने बजरंग बली की 20 फीट की प्रतिमा स्थापित की जा रही है।

परिसर में झूला सच चुका है। मौत का कुआं से लेकर बच्चों के लिए कई प्रकार के छोटे-बड़े झूले लगाए जा चुके हैं। इस बार एक सप्ताह तक मेला रहेगा। शुक्रवार से लेकर शुक्रवार तक। शुक्रवार, 26 को विसर्जन यात्रा निकाली जाएगी।

मेले को देखते हुए सुरक्षा का व्यापक प्रबंध कमेटी ने किया है। वहीं, अष्टमी-नवमी को भीड़ यदि बढ़ती है तो निकासी जालान रोड से होगी। इसकी तैयारी भी कर दी गई है। 24 घंटे डाक्टर व एंबुलेंस की व्यवस्था संघ ने कर रखी है।

शहर पूजा के माहौल में रम गया है। पंडालों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। पर रांची का प्रशासन अभी नींद से जागा नहीं है। बेफिक्री का आलम यह है कि अभी तक उसने पंडालों का मुआयना तक नहीं किया है। न उसने सुरक्षा को लेकर पूजा समितियों से बातचीत की है। बुधवार को संघ के सदस्यों ने कहा कि पिछले 20 साल में ऐसा पहली बार है, जब प्रशासन पूरी तरह नींद में है। उसे न पूजा की फिक्र है न भीड़ की। कहां, क्या वह व्यवस्था कर रहा है, इसके बारे में पूजा समिति को कोई जानकारी नहीं है।

इस बार पंच मंदिर, हरमू में जोधपुर के रानी महल का दर्शन करेंगे श्रद्धालु। महल के प्रवेश द्वार से घुसकर मां का दीदार कर सकेंगे। पंडाल का निर्माण सोना टेंट हाउस कर रहा है। पूरा पंडाल फाइबर और प्लाई से बनाया गया है। बुधवार को पंडाल को अंतिम रूप दिया जा रहा था। मां की प्रतिमा भी स्थापित हो गई है। पूजा परिसर में भव्य मेले का भी आयोजन किया जा रहा है। झूले आदि सज चुके हैं। बच्चे अभी से झूले का आनंद ले रहे हैं।

सप्तमी को माता का जागरण होगा और नवमी के दिन मां को भोग लगाया जाएगा।

गुजरात के गरबा उत्सव मे सनी लियोनी को अनुमति नहीं


सिनेमाई परदे पर जिस्म-2 के जरिए प्रवेश करने वाली कनाडाई पोर्न फिल्मों की नायिका सनी लियोनी को लेकर खबरे आ रही थी कि वो गुजरात में गरबे के उत्सव मे शामिल होंगी।लेकिन अब खबरे आ रही है कि सनी इस समारोह में शामिल नहीं होंगी। सनी की मौजूदगी से विवाद के मद्देनजर यह बदलाव किया गया है। रविवार को दक्षिण गुजरात के बारडोली में लगे सनी लियोन के पोस्टर पर कालिख पोत दी गई।

सनी  लियोनी को एनआरआई के गांव के रूप में पहचाने जाने वाले ऎना गांव के गरबा आयोजक मंडल ने आमंत्रित किया गया था। सनी  लियोनी को 20 अक्टूबर को गरबे के लिए आमंत्रित किया गया था। गरबा आयोजक किरण पटेल ने कहा कि दो दिन पहले सनी लियोनी के अनिवार्य कारणों से न आने के संकेत मिले हैं। इसलिए उनके स्थान पर दूसरी सेलिब्रिटी को आमंत्रित किया गया है।

Mosque & Islamic Centre near Sri Rama Janmabhumi won’t be allowed - Singhal


“The word is in the air for some months now that Sri Mulayam Singh Yadav is wanting to acquire a land bang next to the 70-acre acquired land around Sri Rama Janma Bhumi. Sri Mulayam Singh Yadav and Smt. Sonia Gandhi have ganged up towards this end. For this a retired Judge of the Allahabad High Court has been engaged for about two years now to make efforts to evolve a so-called consensus,” said the VHP Patron Sri Ashok Singhal in a media briefing.   

He said: “Regarding the Sri Rama Janma Bhumi it is the view of all the Sants of the country that on the acquired 70-acre land only a huge temple to Sri Ram Lala would be built and the construction of no new mosque would take place within the scriptural and cultural rim and perimeter of Ayodhya. From the labors being put in by the Hon’ble Judge it seems that Sri Mulayam Singh Yadav wants to build a mosque and an Islamic Cultural Centre on the said plot of land (where an Ara/saw machine stands) adjoining the 70-acre acquired land of the Central Government. The Islamic forces are compelling him to do so.”

 “That is why the word is in the air that the acquiring job the SP government of U.P. will do and the UPA Government led by the Sonia-led Congress would siphon off funds for the plan. Regarding Sri Rama Janma Bhumi if a reckless decision is taken that would lead to grave consequences,” warned Sri Singhal.   

“The pressure of Jihadi forces in entire Uttar Pradesh is getting unbearable for the Hindu society. Incidents of pulling up and removal of Murtis (images of divinities) from temples or their amputation are mounting in the State. The ripping up (burglary) of the image of Maa Devkaali recently in Ayodhya is a burning example. Especially the timing of the eve of the Navaratras chosen to break or sever the images to practice iconoclasm is designed to compellingly provoke the society. The Akhilesh Yadav led SP Government has proved to be totally incapable of preventing such incidents,” Sri Singhal alleged.

रॉबर्ट वाड्रा पर जांच का आदेश देते ही आई जी का तबादला हुआ


सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा और रियल्टी कंपनी डीएलएफ के बीच हुईं जमीन डील्स की जांच का आदेश देने के कुछ घंटों के भीतर ही हरियाणा सरकार ने आईजी रजिस्ट्रेशन अशोक खेमका का तबादला कर दिया। खेमका ने डीएलफ-वाड्रा के बीच हरियाणा के चार जिलों गुड़गांव, फरीदाबाद, पलवल और मेवात में हुई जमीनों की खरीद-बिक्री की जांच शुरू करवाई थी। उन्होंने 15 अक्टूबर को ही मानेसर-शिकोहपुर की साढ़े तीन एकड़ जमीन का म्यूटेशन रद्द किया था, जिसे वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी ने डीएलएफ को 58 करोड़ में बेचा था।

आईएएस ऑफिसर खेमका की छवि एक ईमानदार अधिकारी की है। ऐसे में वाड्रा के मामले की जांच शुरू होते ही उनका ट्रांसफर होने से हरियाणा की हुड्डा सरकार कठघरे में आ गई है। इंडिया अगेंस्ट करप्शन के अरविंद केजरीवाल ने प्रदेश सरकार पर सोनिया गांधी के दामाद वाड्रा को बचाने का आरोप लगया है। केजरीवाल ने कहा कि ईमानदार अधिकारी खेमका द्वारा जांच का आदेश देते ही उनका तबादला कर हरियाणा सरकार ने अपनी मंशा जता दी है।

अशोक खेमका ने भी आरोप लगाया है कि उनका तबादला कुछ सरकारी अफसरों और बिल्डरों की साठगांठ के खिलाफ कार्रवाई करने पर किया गया है। प्रदेश के मुख्य सचिव को लिखी अपनी लिखी चिट्ठी में खेमका ने कहा कि उन्होंने आरोपी ऑफिसरों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की सिफारिश की थी, आरोपी मेरा ही तबादला कर दिया गया।


खेमका तीन महीना पहले ही आईजी रजिस्ट्रेशन बनाए गए थे। वाड्रा-डीएलएफ डील की जांच के अलावा उन्होंने गुड़गांव के 7 गांवों की पंचायती जमीन को बिल्डरों को ट्रांसफर करने के मामले में गड़बड़ी का भी पर्दाफाश किया था। जमीन की बिक्री के गोरखधंधे में उन्होंने विभाग के ही दो ऑफिसरों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की भी सिफारिश की थी।


अयोध्या में रामलला गर्भगृह में ही मंदिर,मस्जिद दोनों का प्रस्ताव


विराजमान रामलला के स्थल अर्थात गर्भगृह में राममंदिर का निर्माण करने व अधिग्रहीत परिसर में युसुफ आरामशीन के पास मस्जिद निर्माण का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। विवाद के समाधान के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति पलोक बसु के संरक्षकत्व में दो वर्षो से चल रही मुहिम में इस चरण को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। समाधान के इस प्रस्ताव में उच्च न्यायालय से मुस्लिम समुदाय को मिली जमीन को उद्यान के रूप में विकसित करने पर सहमति बनती दिख रही है।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति पलोक बसु के संयोजन में तुलसी स्मारकभवन सभागार में हुई इस बैठक की समाधान की दिशा में मील का पत्थर साबित हुई। रसिकपीठ जानकीघाट बड़ा स्थान के महंत जनमेजय शरण की अध्यक्षता में इस बैठक के सभी चार प्रस्तावों को बैठक में पारित होने के बाद अयोध्या -फैजाबाद के लोगों की सहमति के बाद मंडलायुक्त के माध्यम से राज्य सरकार के पास भेजने पर विचार हुआ। तय किया गया कि इन प्रस्तावों पर अधिग्रहीत परिसर के रिसीवर की सहमति के बाद राज्य सरकार के माध्यम सर्वोच्च न्यायालय तक पहुंचाया जाए।

इस अवसर समाधान समिति के प्रवक्ता ज्ञानप्रकाश श्रीवास्तव एडवोकेट ने कहा कि अयोध्या विवाद के निपटारे के लिए अयोध्या-फैजाबाद के लोगों की सहमति व इसमें बाहरी लोगों को प्रवेश न देने, विवादित स्थल का दक्षिणी हिस्सा उद्यान के रूप में विकसित करने, मस्जिद के निर्माण के लिए अधिग्रहीत परिसर स्थित युसूफ आरामशीन के पास जमीन देने, विराजमान रामलला के स्थान पर मंदिर निर्माण का प्रस्ताव कई बैठकों में मौजूद लोगों की राय के आधार पर तैयार किया गया है।

शीला दीक्षित पर दिल्ली में पड़े अंडे और चप्पले


राजधानी दिल्ली में मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की राह अब मुश्किल होती दिखाई दे रही हैं। इन परेशानियों से पार पाना मुख्यमंत्री समेत कांग्रेस के लिए भी आसान नहीं होगा। इसकी एक बानगी शनिवार को उस वक्त दिखाई दी जब पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद इलाके में आयोजित कार्यक्रम में पहुंची मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के ऊपर अंडे फेंके गए। हालांकि अंडों का सीधा निशाना सीएम ही थीं लेकिन उनके ऊपर अंडों के केवल छींटे ही पड़े। ज्यादातर अंडे निगम पार्षद के सर पर लगे।

लगातार दूसरे दिन दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। शनिवार को मुस्तफाबाद विधानसभा के संजय चौक न्यू राजीव नगर में मुख्यमंत्री शीला दीक्षित अनधिकृत कॉलोनी नियमित किए जाने को लेकर यहां आयोजित सम्मान समारोह में हिस्सा लेने पहुंची थीं। इस दौरान लोगों ने मंच पर अंडे फेंके और उनके काफिले के घेराव का भी प्रयास किया। भीड़ ने काले झंडे भी दिखाए। लोगों को काबू करने के लिए पुलिस को हल्का बल प्रयोग किया।

विरोध में भाजपा के लोगों के अलावा स्थानीय कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता भी शामिल थे। पुलिस ने कुछ भाजपा नेताओं को हिरासत में लिया है। शुक्रवार को नंदनगरी में मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में हंगामा हुआ था। जहां लोगों ने काले झंडे दिखाने के साथ ही मंच की ओर चप्पल उछाले थे। शनिवार को आयोजित सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री जब मंच पर माइक के पास पहुंचीं, तभी पास की इमारत से मंच पर अंडे फेंके गए। इसके बाद अफरातफरी मच गई। कुछ लोगों ने नारेबाजी भी की। मुख्यमंत्री ने जल्दबाजी में अपना भाषण समाप्त किया। वापसी के दौरान लोगों ने मुख्यमंत्री के काफिले का घेराव करने का प्रयास किया और काले झंडे दिखाए। कुछ लोगों ने बिजली बिल की प्रतियां भी फाड़ीं।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers