ताज़ा समाचार (Fresh News)

कांग्रेस स्थापना दिवस की रैली में हर ब्लॉक से एक बस लाने की शर्त


कांग्रेस स्थापना दिवस पर 28 दिसम्बर को रामलीला मैदान में आयोजित होने वाली कांग्रेस की संकल्प रैली गुजरात चुनाव नतीजों से सुस्त हुए कार्यकर्ताओं में प्राण फूंकने का जरिया बनेगी। रैली एवं जनसभा में भीड़ जुटाने वाला ही हीरो होगा। रैली को सफल बनाने के लिए प्रदेश कांग्रेस ने प्रत्येक ब्लॉक से कम से कम एक बस लाने का टॉरगेट दिया है। 

इसमें जयपुर और आसपास के जिलों पर अधिक ध्यान केन्द्रित किया गया है। रैली की तैयारियों के लिए कल प्रात: 11 बजे सभी ब्लॉक कांग्रेस कमेटियों की बैठक ब्लॉक कांग्रेस मुख्यालयों पर आयोजित की जाएगी। बैठक की अध्यक्षता ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष करेंगे। 

संकल्प रैली एवं जनसभा में केन्द्र एवं राज्य सरकार की उपलब्धियों और जनकल्याणकारी योजनाओं तथा कांग्रेस पार्टी की नीतियों, सिद्धांतों एवं कार्यक्रमों पर कांग्रेस के प्रमुख नेता सम्बोधित करेंगे। जिनमें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एंव राज्य प्रभारी मुकुल वासनिक, सह प्रभारी अरूण यादव, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. चन्द्रभान सहित राज्य के सभी वरिष्ठ कांग्रेस नेता शामिल होंगे। 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. चन्द्रभान ने रैली की तैयारियों को लेकर जिलों में प्रभारी नियुक्त किए हैं तथा उन्हें निर्देशित किया है कि वह संबंधित जिलों में 25 एवं 26 दिसम्बर को संकल्प रैली एवं विशाल जनसभा के संदर्भ में दौरा करें और कांग्रेसजन से आह्वान करें कि वे रैली में अधिक से अधिक संख्या में भाग लें। संकल्प रैली एवं जनसभा में भीड़ जुटाने के लिए कांग्रेस संकल्प रथ यात्रा निकालेगी। यह रथ शहर में घुमेंगे। 

पार्टी ने तय किया है कि रैली को लेकर जयपुर शहर के प्रमुख चौराहों और मार्गों पर सजावट की जाएगी तथा जयपुर शहर में पार्टी की ओर से पांच संकल्प रथ तैयार कर घुमाए जाएंगे।

    

राबर्ट वाड्रा भी कॉमनवेल्थ गेम घोटाले में शामिल - आज़म खान


सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा की भूमिका की जांच कॉमनवेल्थ गेम घोटाले में भी होना चाहिये, यह कहना है सपा के वरिष्ठ नेता आज़म खान का। आज़म का साफ कहना है कि वाड्रा को महज़ इसलिये बचाया जा रहा है क्योंकि वह कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद हैं, तो साथ में उन्होनें केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद को भी निशानें पर लिया।

हरियाणा में जमीन घोटाले में नाम आने के बाद राबर्ट वाड्रा के लिए एक और मुसीबत सामने आ रही है। यूपी के वरिष्ठ मंत्री आजम खान ने कहा है कि कॉमनवेल्थ खेलों में भी राबर्ट वाड्रा की भूमिका की जांच होनी चाहिए।

यूपी के वरिष्ठ मंत्री आजम खान ने कहा है कि सलमान खुर्शीद के ट्रस्ट ने विकलांगों से छल किया है। आजम खान ने कहा उनके ट्रस्ट को लेकर जो बातें सामने आ रही हैं उनसे यही लगता है। आजम ने कहा सलमान खुर्शीद के ट्रस्ट की जांच बीएसपी सरकार के समय से चल रही है, जो इस सरकार में भी जारी है।

साफ है सलमान खुर्शीद और राबर्ट वाड्रा की मुश्किलें खत्म होनें का नाम नही ले रही है। दोनों पर हर रोज़ रोज नये आरोप लगाये जा रहे हैं लेकिन आज़म खां का राबर्ट वाड्रा पर लगाया गया आरोप और भी संगीन है। पहले ही हरियाणा में ज़मीन घोटाले में नाम आनें के बाद अब आज़म नें कामनवेल्थ खेलों में राबर्ट वाड्रा की भूमिका की जांच कह कर वाड्रा की मुसीबतों को और बढ़ा दिया है।

हिमाचल में कांग्रेस का तांडव: नवनियुक्त विधायक पर हत्या का केस

हरियाणा पुलिस ने पंचकूला के बहुचर्चित ज्योति मर्डर केस में दून के नवनिर्वाचित कांग्रेसी विधायक रामकुमार सहित चार लोगों के खिलाफ भादस की धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। 

इसी कड़ी में शुक्रवार को पंचकूला पुलिस की विशेष टीम आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट सहित बद्दी में छापामारी की। पुलिस ने दून के नवनिर्वाचित कांग्रेसी विधायक चौधरी रामकुमार, धर्मपाल, राजिंद्र व गुरमीत को ज्योति मर्डर केस में नामजद किया है। 

पंचकूला पुलिस ने  रामकुमार के पैतृक गांव बद्दी के हरिपुर संडोली में उनके घर की तलाशी ली, लेकिन पुलिस को चारों आरोपियों में कोई भी नहीं मिला है। 

उल्लेखनीय है कि ज्योति पंजाब के होशियारपुर की हरने वाली थी और वह चंडीगढ़ में बीएड करती थी। ज्योति की हत्या बीते 22 नवंबर को कर दी गई थी। उसकी लाश पंचकूला में सेक्टर-21 के पास  झाडि़यों में मिली थी। ज्योति का बद्दी कनेक्शन पुलिस जांच के दौरान सामने आया था। ज्योति की मुलाकात कुछ वर्ष पूर्व बद्दी के एक युवक से हुई, जो पंचकूला के नाडा गांव में रहता था, लेकिन बाद में वह बद्दी में शिफ्ट हो गया था। उसने ज्योति को आगे अपने एक कारोबारी पार्टनर से मिलवाया। 

दोनों की कांग्रेसी नेता से अच्छी जान-पहचान थी। उन्होंने ज्योति की मुलाकात कांग्रेसी नेता से करवा दी। ज्योति हत्याकांड में शक के घेरे में आ रहे हिमाचल के कांग्रेसी नेता के खिलाफ पुलिस सबूत होने का दावा कर रही है। सूत्रों के अनुसार हत्या के इस मामले में मोबाइल की लोकेशन अहम कड़ी बन कर सामने आई है। उधर, चौधरी रामकुमार ने कहा था कि ज्योति मर्डर केस से उनका कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने यह भी कहा था कि वह इस मामले में पुलिस का सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि वह समय आने पर खुद ही पुलिस के समक्ष पेश हो जाएंगे। बीते गुरुवार को पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट ने इस मामले में एक याचिका की सुनवाई में जल्द पड़ताल के आदेश दिए थे।

आजम खान ने रेलवे कर्मचारियों से जमकर मारपीट की


उत्तरप्रदेश सरकार में दिग्गज मंत्री आजम खान ने कुछ रेलवे कर्मचारियों से जमकर मारपीट की। इतना ही नहीं उन्होंने इन कर्मचारियों को मुर्गा भी बना दिया। 

मंगलवार की रात जब हावड़ा एक्सप्रेस रामपुर पहुंची, तो मंत्री अपने समर्थकों के साथ एसी डिब्बे में चढ़ गए। मंत्रीजी ने एसी कोच के अटेंडेंट निर्मल मुर्मु को दबंग अंदाज में बुलाया और बिस्तर साफ न होने की बात कहते हुए डांटा।

अटेंडेंट ने जब उन्हें बताया कि उनके पास ऐसे ही बिस्तर हैं तो आजम खां ने थप्पड़ जड़ दिए। बाद में मंत्री के समर्थकों ने बाकी अटेंडेंट्स को भी बुलाकर उन्हें मुर्गा बना दिया। मुर्गा बने हुए अटेंडेंट्स को मंत्री समर्थक तब तक पीटते रहे जब तक उन्होंने माफी नहीं मांग ली। 

हावड़ा एक्सप्रेस के कोच अटेंडेंट ने मंत्री पर मारपीट का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत भी की है।

हज के कारण मक्का में जलवायु पर्यावरण को खतरा


हज के बारे में कहा जाता है कि ये दुनिया में लोगों का सबसे बड़ा सालाना जमावड़ा है। पर्यावरण के जानकार कहते हैं कि इतने बड़े पैमाने पर लोगों का कई दिनों के लिए एक जगह जमा होना जलवायु परिवर्तन पर भी असर डालता है।

मक्का स्थित उल अल-कोरा यूनिवर्सिटी में पर्यावरणीय भौतिक विज्ञान के प्रोफेसर अब्दुल अज़ीज़ स्रूजी कहते हैं, 'ज्यातादर लोग पर्यावरण की ज्यादा चिंता नहीं करते हैं। हज के दौरान मक्का दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में शुमार हो जाता है जहां बड़ी संख्या में गाड़ियां दौड़ रही होती हैं, खाना बर्बाद हो रहा होता है और सारी बिजली होटलों में खप रही होती है, इसका पर्यावरण पर भी असर पड़ता है।'

वे खास तौर से इस बात की आलोचना करते हैं कि हज के दौरान लोग पीने के पानी के लिए बड़ी संख्या में प्लास्टिक की बोतलों का इस्तेमाल करते हैं। ये बोतले किसी कूड़ेदान में नहीं बल्कि यहां-वहां सड़कों पर ही फेंक दी जाती हैं।

मक्का के अधिकारियों के सामने चुनौती है कि वे तीस लाख हाजियों को 'ग्रीन-हज' के लिए कैसे प्रेरित करें। उन्होंने तय किया है कि वे मक्का को पर्यावरण के हिसाब से बेहतर शहर बनाएंगे।

मक्का के मेयर ओसामा अल-बार कहते हैं कि वो मस्जिदों के आसपास के इलाकों को 'ईको-फ्रैंडली' बनाना चाहते हैं।

वे कहते हैं, 'हमने एक विशाल सौर ऊर्जा स्टेशन बनाने के लिए दुनियाभर से निविदाएं आमंत्रित की हैं जिससे पूरे मक्का की मस्जिदों, होटलों और सड़कों को रौशन किया जाएगा।'

वे बताते हैं कि एक भूमिगत यातायात प्रणाली विकसित करने की योजना है जिसके दायरे में पूरा शहर आ जाएगा जो 120 किलोमीटर लंबा होगी। इसमें 28 स्टेशन होंगे। इससे हज के दौरान मक्का में यातायात बाधित होने की समस्या से मुक्ति मिलेगी।

पिछले साल एक मोनो रेल का प्रयोग भी किया गया था लेकिन सऊदी अरब में सार्वजनिक परिवहन प्रणाली की संस्कृति अभी तक विकसित नहीं हो पाई है।

पर्यावरण के जानकार कहते हैं कि पेट्रोल सस्ता होने और लोगों के यहां बड़ी कारें पसंद करने से सार्वजनिक परिवहन प्रणाली को प्रोत्साहन नहीं मिल पा रहा है।

हज और हवाई जहाज : प्रोफेसर अब्दुल अजीज कहते हैं कि ज्यादातर लोग हजयात्रा के लिए हवाई जहाज़ से आते हैं, हवाई यातायात से पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

उनका कहना है, 'जरा सोचिए, हवाई जहाजों की वजह से ओजोन परत को कितना नुकसान हो सकता है।'

ओज़ोन परत को नुकसान होने से सूरज से निकलने वाली जानलेवा अल्ट्रा-वॉयलेट किरणें धरती तक पहुंच जाती हैं। वैसे बोस्निया हर्जेगोविना से आए एक मुसलमान ने इस साल अपनी हज यात्रा पूरी तरह से 'ईको-फ्रैंडली' अंदाज में की, वे पैदल चलकर मक्का आए।

इसी तरह साल 2010 में दक्षिण अफ्रीका से दो युवक नौ महीने की यात्रा साइकल से तय करके हज के लिए मक्का पहुंचे थे।

प्रोफेसर अब्दुल अजीज मक्का के पर्यावरण को बचाने के लिए दो तरीके सुझाते हैं- पहला कुछ खास रास्तों पर कारों पर प्रतिबंध और पूरे शहर में कचरा-पेटी रखना जो कचरे का पुनर्चक्रण कर सकें।

लेकिन उन्हें इस बात का अफसोस है कि हज पर आने वालों के लिए 'जलवायु परिवर्तन कोई प्राथमिकता' नहीं है।

.. तो हमें देवी की पूजा करनी बंद कर देनी चाहिये? जया बच्‍चन


राजधानी के मुनीरका में चलती बस में हुई बलात्‍कार की वारदात के बाद देश के कई मां-बाप होंगे जिन्‍हें रात को नींद नहीं आयी होगी। उनमें से सांसद जया बच्‍चन भी हैं। जया बच्‍चन की भावनाएं संसद में उस समय उमड़कर बाहर आ गईं, जब इस मुद्दे पर चर्चा शुरू हुई। चर्चा के दौरान जया बच्‍चन ने कहा कि अगर हम बलात्‍कार की वारदतें नहीं रोक सकते, तो देवी की पूजा बंद कर देनी चाहिये। जया बच्‍चन भावुक हो उठीं और बोलीं, "सभापति जी, दिल्‍ली में जो घटना हुई है, उससे देश का सिर शर्म से झुक गया है।" 

उन्‍होंने कहा, "सबसे बड़ी शर्म की बात तो यह है कि जो महिला पत्रकार इस वारदात को कवर करने गई उसके साथ भी छेड़छाड़ हुई। मुझे समझ नहीं आ रहा मैं क्‍या बोलूं। मैं हिल गई हूं। हमारे देश में महिला को दुर्गा मां की तरह पूजा जाता है। आज सब बातें किनारे हो गई हैं। हर रोज देश भर में महिलाओं की इज्‍जत लुट रही है। अगर ऐसा ही चलता रहे, तो हमें देवी की पूजा करनी बंद कर देनी चाहिये।" 

जया बच्‍चन ने आगे कहा, "देश में जो आंकड़े हैं वो रजिस्‍टर्ड हैं, न जाने उनके अलावा कितनी वारदातें रोज होती हैं....।" इससे पहले जया अपनी बात पूरी कर पातीं, उपसभापति ने उन्‍हें रोक दिया और कहा कि टाइम पूरा हो गया है। जया बच्‍चन ने कहा, "यह महिलाओं से जुड़ा गंभीर मुद्दा है, इसमें टाइम नहीं देखना चाहिये।" तब उपसभापति बोले, "बैठ जाइये जया जी दूसरों को मौका दीजिये।" 

जया ने कहा, "जब मुद्दा उठा है तो मुझे बोलने से क्‍यों रोका जा रहा है।" उपसभापति ने कहा, "आपको नोटिस देकर बोलना चाहिये"। यहां पर जया का जो जवाब था वो दिल को झकझोर देने वाला था। जया ने कहा, "बलात्‍कारी नोटिस देकर बलात्‍कार नहीं करता है उपसभापति जी।" देखते ही देखते उपसभापति ने दूसरे वक्‍ता को बोलने को कह दिया। अब देखिये हमारे देश की संसद में जब एक महिला सांसद महिलाओं की सुरक्षा से जुड़े मुद्दे पर बोलती है, तो उसे कैसे रोक दिया जाता है। 

सच पूछिए तो यह भी शर्मनाक है। हालांकि इससे पहले बसपा सुप्रीमो मायावती और लोकसभा स्‍पीकर मीरा कुमार ने इस मामले में जल्‍द से जल्‍द कार्रवाई करने की बात कही। वहीं नेता विपक्ष सुषमा स्‍वराज ने कहा कि इन बलात्‍कारियों को फांसी की सजा होनी चाहिये।


"मिडनाइट्स चिल्ड्रन" में इंदिरा की आलोचना, पर सेंसर बोर्ड ने की पास


सलमान रुश्दी के उपन्यास "मिडनाइट्स चिल्ड्रन" के आधार पर निर्मित इसी नाम की फ़िल्म पर सेंसर बोर्ड की कोई कैंची नहीं चलेगी। इस फ़िल्म में भारत की भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी की नीति की आलोचना की गई है। अगले साल लेखक की मातृभूमि भारत में इस फ़िल्म का प्रदर्शन किया जाएगा।

उपन्यास "मिडनाइट्स चिल्ड्रन" सन् 1981 में लिखा गया था जिसके लिए सलमान रुश्दी को बुकर पुरस्कार मिलने के साथ साथ दुनिया भर में ख्याति भी मिली थी। उपन्यास में सन् 1910 से लेकर सन् 1976 तक भारत में घटनेवाली घटनाओं का वर्णन किया गया है। इसमें श्रीमती इंदिरा गांधी के शासनकाल का वर्णन भी किया गया है। यही कारण है कि फ़िल्म निर्माता को भारतीय सेंसर बोर्ड की कैंची फिरने का डर था।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers