ताज़ा समाचार (Fresh News)

जम्मू-कश्मीर में किसी हिंदू का मुख्यमंत्री बनना नामुमकिन : पीडीपी

जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के एक और नेता विवादित बयान देकर विवादों में घिर गए हैं। पीडीपी नेता पीर मंसूर ने अपने एक बयान में कहा है कि जम्मू-कश्मीर में किसी भी हिंदू का मुख्यमंत्री बनना नामुमकिन है। 

उन्होंने कहा कि राज्य में कोई भी हिंदू मुख्यमंत्री इसलिए नहीं बन सकता क्योंकि कश्मीर मुस्लिम-बहुल इलाका है। मुस्लिम बहुल राज्य में भला हिंदू मुख्यमंत्री कैसे हो सकता है। उनके इस बयान की सियासी हलकों में आलोचना हो रही है।

यह पहली बार नहीं है जब कोई पीडीपी नेता विवादों में घिरा हैं। इससे पहले भी पीडीपी विधायक जावेद मुस्‍तफा मीर विवादों में घिरे क्योंकि उनपर चुनाव प्रचार के दौरान एके-47 बंदूक लेकर चलने का आरोप है। 

यह तस्वीर बाकायदा फेसबुक पर पोस्ट की गई थी जिसमें वह बड़े शान से बंदूक लेकर चलते हुए दिख रहे हैं। कई लोगों ने उनके इस तरह के व्यवहार पर आपत्ति जताई । जबकि विधायक ने कहा कि वह अपनी सुरक्षा के लिए बंदूक रखते हैं।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना प्रोत्‍साहन तथा मीडिया समर्थन पर आधारित: मेनका गांधी

केन्‍द्रीय महिला व बाल विकास मंत्री, श्रीमती मेनका संजय गांधी ने कहा कि मनोभावों में समग्र परिवर्तन लाने के लिए सरकार की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (बीबीबीपी) योजना प्रोत्‍साहन तथा मीडिया समर्थन की मजबूत प्रणाली पर आधारित होगी। यह उन्‍होंने प्रसिद्ध ऑस्‍कर जीतने वाली कुमारी मेगन मयलान द्वारा निर्देशित डॉक्‍यूमेंट्री फिल्‍म ‘आफ्टर माई गार्डन ग्रोज ’ को सरकारी तौर पर रिलीज करने के बाद कहा। फिल्‍म पश्चिम बंगाल से सम्‍बद्ध है तथा भारतीय बालिकाओं को सशक्‍त बनाने के लिए सबला कार्यक्रम तथा आंगनवाड़ी के योगदान पर इसमें प्रकाश डाला गया है। 

मंत्री महोदया ने कहा कि बीबीबीपी के लिए जिला कलेक्‍टरों के साथ क्षेत्रीय स्‍तर पर परामर्श का पहला दौर शुरू कर लिया गया है। उत्‍तर भारत राज्‍यों के 27 जिलों के लिए चंडीगढ़ में इसे अंजाम दिया गया। श्रीमती मेनका गांधी ने कहा कि जिले अपनी बहुक्षेत्रीय योजना शीघ्र ही प्रस्‍तुत करेंगे जिनके लिए उन्‍हें प्रत्‍येक को 1.00 करोड़ रुपये तक का कोष दिया जाएगा। बाकी के क्षेत्रीय परामर्श इस माह के भीतर पूरा कर सौंप दिए जाने की आशा है। उन्‍होंने कहा कि इस योजना को लागू किए जाने के लिए 100 जिलों की पहचान की गई है जहां पर बाल लिंग अनुपात कम है। मंत्री महोदया ने कहा कि पश्चिम बंगाल तथा पंजाब जैसे राज्‍यों ने बालिकाओं को बचाने तथा सशक्तिकरण करने के लिए अच्‍छा मॉडल विकसित किया है। अन्‍य राज्‍यों द्वारा विकसित किए गए सफल मॉडलों का भी अध्‍ययन किया जाएगा जिससे कि ऐसे राज्‍य जहां पर बाल लिंग अनुपात में सुधार करने की आवश्‍यकता है, वे इसे अपना सकें। 

श्रीमती मेनका गांधी ने कहा कि कुमारी मेगन की नई फिल्‍म ‘आफ्टर माई गार्डन ग्रोज’ शिक्षा तथा वित्‍तीय स्‍वतंत्रता के माध्‍यम से बालिकाओं को सशक्‍त करने के बारे में है। उन्‍होंने यह भी खुलासा किया कि इस फिल्‍म में आंगनवाड़ी प्रणाली के दृढ़ कार्यकलापों जैसे अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण मुद्दों को दर्शाया गया है। यह केन्‍द्रीय महिला व बाल विकास मंत्रालय की योजनाओं का प्रमुख हिस्‍सा है। डॉक्‍यूमेंटरी फिल्‍म में मोनिका बर्मन की कहानी दर्शाई गई है जिसमें भारतीय ग्रामीण बालिका अपने घर के ऊपर एक छोटा-सा बाग ऊगा रही है। इससे उसके परिवार को खाना तो मिलता ही है इसके अलावा उसकी अपनी स्‍वतंत्रता भी पनप रही है। बर्मन अपनी शादी में देरी कर नवीन बालिका उद्यान कार्यक्रम इजाद कर स्‍कूल में वापस आती है। कुमारी मेगन मयलान इससे पहले अपनी डॉक्‍यूमेंटरी फिल्‍म स्‍माइल पिंकी जिसमें भारत को आधार बनाया गया है, को निर्देशित कर ऑस्‍कर जीत चुकी हैं। 

देश में नदियों को जोड़ने की परियोजना तीव्र गति में : उमा भारती

केन्‍द्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती ने देश में नदियों को जोड़ने की परियोजना को तीव्र गति से अमल में लाने का आह्वान किया है। अपने मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति की बैठक को संबोधित करते हुए मंत्री महोदया ने कहा कि नदियों को जोड़ने से संबंधित राष्‍ट्रीय परिप्रेक्ष्‍य योजना के अनुसार इससे 35 मिलियन हेक्‍टेयर अतिरिक्‍त भूमि को सिंचाई की सुविधा उपलब्‍ध होगी, जिससे देश में सिंचाई सुविधा प्राप्‍त भूमि का क्षेत्रफल 140 मिलियन हेक्‍टेयर से बढ़कर 175 मिलियन हेक्‍टेयर हो जाएगा। उन्‍होंने कहा कि इससे बाढ़ नियंत्रण, नौवहन, जलापूर्ति, मत्‍स्‍य पालन, लवणता एंव प्रदूषण नियंत्रण आदि लाभों के अलावा 34 हजार मेगावाट अतिरिक्‍त बिजली का भी उत्‍पादन हो सकेगा। सुश्री भारती ने कहा कि ‘‘नदियों को जोड़ने की परियोजना राष्‍ट्रीय महत्‍व की है और इसका उद्देश्‍य देश में जल के समान वितरण को सुनिश्चित करना है, जिससे बाढ़ और सूखे से प्रभावित क्षेत्रों को विशेष लाभ होगा। मैं इस राष्‍ट्रीय महत्‍व के कार्य में सभी राज्‍यों के सहयोग की अपील करती हूं।’’ उन्‍होंने कहा कि इससे देश का खाद्य उत्‍पादन बढ़ेगा और रोजगार के नये अवसर भी पैदा होंगे, जिससे देश में समृद्धि आएगी।

सुश्री भारती ने सदस्‍यों को बताया कि राष्‍ट्रीय जल विकास एजेंसी ने अब तक देश में नदियों को जोड़ने के 30 संपर्कों की पहचान की है, जिनमें से 16 संपर्क प्रायद्वीपीय क्षेत्र के हैं और 14 अन्‍य हिमालयी क्षेत्र के। उन्‍होंने कहा कि इनमें से प्रायद्वीपीय क्षेत्र के 14 संपर्कों और हिमालयी क्षेत्र के 2 संपर्कों (भारतीय भाग) की साध्‍यता रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। 7 अन्‍य संपर्कों का सर्वेक्षण एवं अन्‍वेषण कार्य पूरा किया जा चुका है और इनकी साध्‍यता रिपोर्ट का मसौदा तैयार हो गया है। 

मंत्री महोदया ने सदस्‍यों को बताया कि विस्‍तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने का कार्य शुरू करने के लिए पांच प्राद्वीपीय संपर्कों नामत: 1- केन-बेतवा, 2- पार्वती-कालीसिंध-चंबल 3- दमनगंगा-पिंजाल, 4- पार-तापी-नर्मदा और 5- गोदावरी (पोलावरम)-कृष्‍णा (विजयवाड़ा) को प्राथमिकता संपर्कों के रूप में चिन्हित किया गया है। केन-बेतवा संपर्क पर काम भी शुरू हो गया है। उन्‍होंने कहा कि दमनगंगा-पिंजाल संपर्क की डीपीआर पूरी हो चुकी है और यह आगे की कार्रवाई हेतु अप्रैल, 2014 में महाराष्‍ट्र और गुजरात सरकार को प्रस्‍तुत कर दी गई है। पार-तापी-नर्मदा संपर्क की डीपीआर तैयार की जा रही है और यह मार्च, 2015 तक पूरी कर ली जाएगी। 

सुश्री भारती ने कहा कि राष्‍ट्रीय जल विकास एजेंसी को अंत:राज्‍यीय संपर्कों के बारे में 46 प्रस्‍ताव मिले हैं। इनमें से 33 अंत:राज्‍यीय संपर्कों की पीएफआर पूरी हो चुकी हैं और वे संबंधित राज्‍य सरकारों को भेजी जा चुकी हैं। बिहार सरकार के अनुरोध पर एजेंसी ने क्रमश: दिसंबर, 2013 और मार्च, 2013 में बूढ़ी गण्‍डक-नून-बया-गंगा अंत:राज्‍यीय संपर्क परियोजना और कोसी-मेची संपर्क परियोजना की डीपीआर तैयार करके उसे आगे की कार्रवाई के लिए राज्‍य सरकार को भेज दिया है। महाराष्‍ट्र, तमिनाडु और झारखंड के लिए एक-एक अंत:राज्‍यीय संपर्क की डीपीआर तैयार की जा रही है।

बैठक में भाग लेने वाले सांसदों ने एक स्‍वर में नदियों को जोड़ने की परियोजना पर अपना समर्थन जताया। उनका कहना था कि सरकार को इस कार्यक्रम को एक मिशन के तौर पर लेना चाहिए और इसे एक निश्चित समय सीमा में पूरा करना चाहिए। एक सदस्‍य का कहना था कि कुछ क्षेत्रों में इस कार्यक्रम को लेकर व्‍यक्‍त की गई शंकाओं के कारण इसे लेकर पर्याप्‍त गंभीरता का वातावरण नहीं बन पा रहा है। एक अन्‍य सदस्‍य का कहना था कि इस परियोजना को लागू करते समय हमें इसके पर्यावरणीय, पारिस्थितिकीय और सामाजिक पहलुओं को नजर अंदाज नहीं करना चाहिए। एक अन्‍य सदस्‍य का सुझाव था कि सरकार को नदियों के राष्‍ट्रीयकरण पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। सदस्‍यों ने कृष्‍णा-गोदावरी संपर्क, गंगा-गोमती संपर्क, शारदा-यमुना संपर्क, पिंडारी-कोसी संपर्क, नदियों को जोड़ते समय रबड़ बांधों का निर्माण और बिहार की फल्‍गु न‍दी को जोड़ने जैसे कुछ अन्‍य सुझाव भी दिए।

सदस्‍यों को उनके सुझावों के लिए धन्‍यवाद देते हुए सुश्री उमा भारती ने उनसे अनुरोध किया कि वे संसद के दोनों सदनों में नदियों को जोड़ने की परियोजना से संबंधित मुद्दे और प्रश्‍न उठाएं ताकि देश का ध्‍यान इस ओर आकर्षित हो। 

निम्‍नलिखित सदस्‍यों ने बैठक में भाग लिया – 

श्री ए टी नाना पाटिल, श्री अधिर रंजन चौधरी, श्री अजय टमटा, श्रीमती अंजु बाला, श्री बहादुर सिंह कोली, श्री धर्मबीर भालेराम, श्री गजेन्‍द्र सिंह शेखावत, श्री हेमंत तुकाराम गोडसे, डॉ. कृष्‍ण प्रताप सिंह, श्री कृस्‍तपा निम्‍मला, श्रीमती रक्षा निखिल खडसे, श्री सुनील कुमार मंडल, श्री अश्विनी कुमार चौबे (सभी लोकसभा से) और श्री राम नारायण दुड़ी (राज्‍यसभा)। 

केन्‍द्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण राज्‍य मंत्री प्रो. सांवरलाल जाट, मंत्रालय के सचिव श्री अनुज कुमार बिश्‍नोई और मंत्रालय के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों ने भी बैठक में भाग लिया। 

शिवसैनिकों ने औवेसी के पुतले को जूतों से पीटकर फूंका

शिव सैनिकों ने बुलंदशहर के काला आम मलका पार्क में पुतला फूंका शिव सैनिकों ने रोष व्यक्त करते हुए अकबरुद्दीन के पुतले को पाकिस्तान में घुसकर मारने की बात कही।

अकबरुद्दीन ओवैसी के बयान की निंदा करते हुए जिलाध्यक्ष सर्वेश राणा ने कहा कि हैदराबाद में अकबरुद्दीन ओवैसी ने अपनी गंदी जुबान से हिंदू देवी देवताओं और हिंदू धर्म के लिए व शिव सेना प्रमुख स्व. बाला साहेब ठाकरे के बारे में गंदे शब्दों का प्रयोग किया है। 

ठाकुर अनिल सिंह ने ओवैसी की चेतावनी दी है कि वह अपनी गंदी जुबान को लगाम दे वरना हैदराबाद ने भी भाग गया तो पाकिस्तान में घुस कर मारेंगे। हमारे खिलाफ साजिश रचने वाले नेताओं को सबक सिखाने की आवश्यकता पर जोर दिया। 

इस दौरान लक्ष्मी नारायन शर्मा, सुधीर सैनी, सुशील कौशिक, राजीव सिंह, सोनू उमा वर्मा, नरेश राघव, केशव सैनी, प्रदीप कुमार, किशन सैनी, हिना कुमारी, गौरव कुमारी आदि उपस्थित रहे।

मोदी ने पहली बार योग और आर्युवेद के लिए बनाया अलग मंत्रालय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की जोरदार वकालत करने के बाद अपनी सरकार में ‘आयुष’ का अलग मंत्रालय बनाया है, जिसमें योग सहित अन्य प्राचीन स्वास्थ्य पद्धतियां आती हैं.

योग से अपनी दिनचर्या की शुरूआत करने वाले मोदी ने रविवार को अपने मंत्रिपरिषद का विस्तार किया और राज्य मंत्री श्रीपद यसो नायक को आयुष का स्वतंत्र प्रभार सौंपा. आयुष के तहत आयुर्वेद, योग, प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी आते हैं. इससे पहले ये विभाग स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत आते थे. विश्व नेताओं से भेंट के दौरान प्रधानमंत्री मोदी भारत की प्राचीन व्यायाम पद्धति योग के लाभ का जिक्र करना नहीं भूलते. सितंबर में अमेरिका की यात्रा के दौरान भी उन्होंने इसका उल्लेख किया था.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 69वें सत्र में 27 सितंबर को दिए अपने भाषण में योग को भारत की पुरातन और पारंपरिक अमूल्य देन बताते हुए उन्होंने इस विश्व संगठन द्वारा हर साल 21 जून को ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ के रूप में मनाने का आग्रह किया था. ऐसा आग्रह करते हुए उन्होंने कहा था कि योग मन, शरीर, विचार व कर्म, संयम व उपलब्धि की एकात्मकता का तथा मानव की प्रकृति के बीच सामंजस्य का मूर्त रूप है. अमेरिका और चीन सहित 50 देशों ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने का समर्थन किया है.

हाल ही में भारत आए ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबट को मोदी ने योग पर एक पुस्तक भेंट की थी. संयुक्त राष्ट्र के अपने संबोधन में योग के बारे में मोदी ने कहा था कि योग केवल व्यायाम भर नहीं होकर अपने आप से तथा विश्व व प्रकृति के साथ तादतम्य को प्राप्त करने का माध्यम है. यह हमारी जीवन शैली में परिवर्तन लाकर तथा हम में जागरूकता उत्पन्न करके जलवायु परिवर्तन से लड़ने में सहायक हो सकता है.

कोर्ट ने सपा सरकार से पूछा: लखनऊ महोत्सव में भगवान् लखन क्यों नहीं ?

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अखिलेश यादव सरकार से एक ऐसे मामले पर जवाब देने को कहा है, जो उनके लिए मुसीबत बन सकता है।

धर्म के आधार पर लंबे समय से हो रही राजनीति कैसे लखनऊ महोत्सव से जाहिर हो रही है, इसका अंदाजा भी कोर्ट के इस सवाल से लगाया जा सकता है।

दरअसल, कोर्ट ने हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस का तरह से दर्ज याचिका को गंभीरता से लेते हुए लखनऊ महोत्सव में इसाई और मुस्लिम संस्कृति की मौजूदगी, लेकिन हिंदू संस्कृति और खासकर भगवान लक्ष्मण की गैर-मौजूदगी पर सवाल उठा दिया है।

गौरतलब है कि लखनऊ का नाम भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण के नाम पर ही पड़ा था। हालांकि, अब तक के ज्यादातर लखनऊ महोत्सव से खुद लक्ष्मण ही गायब कर दिए जाते रहे।

इस याचिका में हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस के वकीलों ने कहा है कि लखनऊ महोत्सव में मुख्यतः मुस्लिम और ईसाई धर्म को प्राथमिकता दी जा रही है। 

वकीलों का तर्क यह भी है कि जिस तरह से इस महोत्सव का प्रचार-प्रसार हो रहा है उससे यही लग रहा है, इसमें हिंदू धर्म कहीं नहीं है। लखनऊ का नाम जिस लखन यानि लक्ष्मण के नाम पर पड़ा, उसी को सरकार ने नजरअंदाज कर दिया है।

ऐसे में जस्टिस इम्तियाज मुर्तजा और जस्टिस रितुराज अवस्‍थी की बेंच ने 17 नवंबर तक प्रदेश सरकार को अपना पक्ष रखने को कहा है।

प्रदेश सरकार को इस तारीख तक अपने पक्ष में उन सभी प्रचार प्रसार की सामग्रियों को प्रस्तुत करना होगा। सरकार को इस बात को साबित करना होगा कि प्रचार में हिंदू धर्म को भी रखा गया है।

भाजपा सांसदों के बीच कुछ इस तरह हुआ विभागों का बंटवारा

राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सलाह पर केंद्रीय मंत्रियों की परिषद के सदस्‍यों को निम्‍नलिखित विभाग सौंपे हैं:-

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी : 

कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन,परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग,सभी महत्‍वपूर्ण नीतिगत मामले,तथा किसी अन्‍य मंत्री को नहीं दिये गए अन्‍य सभी पोर्टफोलियो

 कैबिनेट मंत्री

1. श्री राजनाथ सिंह : गृह मंत्रालय

2. श्रीमती सुषमा स्‍वराज : विदेश मंत्रालय, प्रवासी भारतीय मामले

3. श्री अरुण जेटली : वित्त, कॉरर्पोरेट मामले, सूचना एवं प्रसारण

4. श्री एम वेंकैया नायडू : शहरी विकास, आवास तथा शहरी गरीबी उपशमन, संसदीय मामले

5. श्री नितिन जयराम गडकरी : सड़क परिवहन तथा राजमार्ग, शिपिंग

6. श्री मनोहर पर्रिकर : रक्षा

7. श्री सुरेश प्रभु : रेल

8. श्री डी.वी. सदानंद गौड़ा : कानून एवं न्‍याय

9. सुश्री उमा भारती : जल संसाधन, नदी विकास तथा गंगा संरक्षण

10. डॉ. नजमा ए. हेपतुल्‍ला : अल्‍पसंख्‍यक मामले

11. श्री रामविलास पासवान : उपभोक्‍ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण

12. श्री कलराज मिश्र : सूक्ष्‍म, लघु तथा मझौले उद्योग

13. श्रीमती मेनका संजय गांधी : महिला एवं बाल विकास

14. श्री अनंत कुमार : रसायन एवं उर्वरक

15. श्री रविशंकर प्रसाद : संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी

16.श्री जगत प्रकाश नड्डा : स्वास्थ्य और परिवार कल्याण

17. श्री अशोक गजपति राजू पूसापति : नागरिक उड्डयन

18. श्री अनंत गीते : भारी उद्योग तथा सार्वजनिक उद्यम

19. श्रीमती हरसिमरत कौर : बादल खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग

20. श्री नरेंद्र सिंह तोमर : खनन, इस्‍पात

21.श्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह : ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पेयजल औऱ स्वच्छता

22.श्री जुएल ओराम : जनजातीय मामले

23. श्री राधा मोहन सिंह : कृषि

24. श्री थावरचंद गहलोत : सामाजिक न्‍याय तथा अधिकारिता 

25. श्रीमती स्‍मृति जुबिन ईरानी : मानव संसाधन विकास

26. डॉ. हर्षवर्धन : विज्ञान औऱ प्रौद्योगिकी, भू विज्ञान

राज्‍य मंत्री :

27. जनरल  वी. के. सिंह : सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्‍वयन (स्‍वतंत्र प्रभार),विदेश मंत्रालय, प्रवासी भारतीय मामले

28.श्री इंद्रजीत सिंह राव : योजना (स्‍वतंत्र प्रभार), रक्षा

29. श्री संतोष कुमार गंगवार : वस्त्र (स्‍वतंत्र प्रभार)

30. श्री बंडारू दत्‍तात्रेय : श्रम और रोजगार( स्वतंत्र प्रभार)

31.श्री राजीव प्रताप रूडी : कौशल विकास और उद्यमिता ( स्वतंत्र प्रभार), संसदीय मामले

32. श्री श्रीपद येस्‍सो नाइक : आयुष( स्वतंत्र प्रभार), स्वास्थ्य और परिवार कल्याण

33. श्री धर्मेंद्र प्रधान : पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस (स्‍वतंत्र प्रभार)

34. श्री सर्बानंदा सोनवाल : युवा मामले और खेल (स्‍वतंत्र प्रभार)

35. श्री प्रकाश जावडेकर : पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन (स्‍वतंत्र प्रभार)

36. श्री पीयूष गोयल : ऊर्जा (स्‍वतंत्र प्रभार), कोयला (स्‍वतंत्र प्रभार), नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा (स्‍वतंत्र प्रभार)

37. डॉ. जितेंद्र सिंह : पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास (स्‍वतंत्र प्रभार) प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन, परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग

38. श्रीमती निर्मला सीतारमन : वाणिज्‍य एवं उद्योग (स्‍वतंत्र प्रभार)

39. डॉ. महेश शर्मा : संस्कृति(स्‍वतंत्र प्रभार), पर्यटन(स्‍वतंत्र प्रभार), नागरिक उड्डयन

40. श्री मुख्तार अब्बास नकवी : अल्पसंख्यक मामले, संसदीय मामले

41.श्री राम कृपाल यादव : पेयजल और स्वच्छता

42. श्री हरिभाई पार्थीभाई चौधरी : गृह मंत्रालय

43. श्री सांवर लाल जाट : जल संसाधन, नदी विकास तथा गंगा पुनरूद्धार

44. श्री मोहनभाई कल्‍याणजीभाई कुंदरि‍या : कृषि

45. श्री गिरिराज सिंह : सूक्ष्‍म, लघु तथा मझौले उद्योग

46. श्री हंसराज गंगाराम अहीर : रसायन एवं उर्वरक

47. श्री जी.एम. सिद्देश्‍वरा : भारी उद्योग तथा सार्वजनिक उद्यम

48. श्री मनोज सिन्‍हा : रेल

49. श्री निहालचंद : पंचायती राज

50. श्री उपेंद्र कुशवाहा : मानव संसाधन विकास

51. श्री राधाकृष्‍णन पी : सड़क परिवहन तथा राजमार्ग, शिपिंग

52. श्री किरण रिजिजू : गृह मंत्रालय

53. श्री कृष्‍णपाल : सामाजिक न्‍याय तथा अधिकारिता 

54. डॉ. संजीव कुमार बालयान : कृषि

55. श्री मनसुखभाई धानजीभाई वसावा : जनजातीय मामले

56. श्री राव साहेब दादाराव दानवे : उपभोक्‍ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण

57. श्री विष्‍णु देव साई : खनन, इस्‍पात

58. श्री सुदर्शन भगत : ग्रामीण विकास

59. प्रो. (डॉ.) राम शंकर कथेरिया : मानव संसाधन विकास

60. श्री वाई.एस. चौधरी : विज्ञान औऱ प्रौद्योगिकी, भू विज्ञान

61.  श्री जयंत सिन्‍हा : वित्त

62. कर्नल राज्‍यवर्द्धन सिंह राठौर :  सूचना एंव प्रसारण

63.  श्री बाबुल सुप्रि‍या (बाबुल सुप्रियो) बराल : शहरी विकास, आवास और शहरी गरीब उपशमन

64. साध्‍वी निरंजन ज्‍योति : खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग

65. श्री विजय सांपला : सामाजिक न्‍याय तथा अधिकारिता 

कर्ण सिंह के बेटे अजातशत्रु हुए भाजपा में शामिल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कर्ण सिंह के बेटे अजातशत्रु सिंह रविवार को भाजपा में शामिल हो गये और कहा कि वह जम्मू-कश्मीर के आगामी विधानसभा चुनावों में बहुमत हासिल करने के पार्टी के ‘मिशन’ के लिए काम करेंगे।

जम्मू-कश्मीर के राजा रहे हरि सिंह के पोते अजातशत्रु पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्रियों- धर्मेंद्र प्रधान और जीतेंद्र सिंह और पार्टी महासचिव राम माधव की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुए।

जम्मू-कश्मीर मामलों के प्रभारी अविनाश राय खन्ना भी इस मौके पर मौजूद थे।

सिंह का स्वागत करते हुए शाह ने कहा, ‘भ्रष्टाचार मुक्त एवं वंशवाद मुक्त सरकार चाहने वाले राज्य के लोगों की इच्छा है कि राज्य राष्ट्रीय मुख्यधारा में शामिल हो। मैं उन सभी से भाजपा में शामिल होने की अपील करता हूं।’ शाह ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर के आगामी विधानसभा चुनावों में न केवल पार्टी मजबूत होगी बल्कि एक तरह से यह उस रूझान का प्रमाण है कि राज्य के लोग किस दिशा में बढ़ रहे हैं।’ शाह ने कहा कि सिंह को पार्टी में शामिल किए जाने के बाद भाजपा की संभावनाएं और इसके कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा ।

भाजपा में शामिल होने से पहले शाह के साथ हुई हालिया बातचीत का हवाला देते हुए सिंह ने कहा कि उन्होंने बता दिया था कि उनका पूरा परिवार, जिसमें समूचा राज्य शामिल है, मिशन 44 को पूरा करने के लिए पूरे मन से काम करेगा।

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद धर्म परिवर्तन मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन दवा उद्योग बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार असम गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers