ताज़ा समाचार (Fresh News)

Home » , , , , » कांग्रेस ने तो पटेल को बौना ही किया - तवलीन सिंह

कांग्रेस ने तो पटेल को बौना ही किया - तवलीन सिंह

इस साल दिवाली की रोशनियां धीमी क्यों पड़ीं, उसको अगर मेरे राजनीतिक पंडित बंधु समझने की कोशिश करते, तो शायद मालूम हो जाता कि क्यों नरेंद्र मोदी को देखने-सुनने लाखों लोग जुट रहे हैं उनके जलसों में। पटना में उनकी रैली में सुबह से खबर रही होगी विस्फोटों की, क्योंकि पहला धमाका तो बहुत पहले हुआ था रेलवे स्टेशन पर, फिर भी लोग गांधी मैदान में इकट्ठा होते रहे। फिर खबर मिली कि मैदान के आसपास, मंच के करीब हो रहे हैं धमाके, तब भी लोग बैठे रहे, क्यों?

मैंने अपने आप से जब यह सवाल किया, तो याद आई वह बात, जो मुझे एक बुजुर्ग कानपुरवासी ने कही थी। मैंने उनसे पूछा कि वह मोदी को पसंद क्यों करते हैं, तो उन्होंने कहा, क्योंकि हमको उम्मीद है कि अगर मोदी प्रधानमंत्री बनते हैं, तो उत्तर प्रदेश में विकास लाने का काम करेंगे, जैसे गुजरात में उन्होंने किया है। ऐसी ही बातें मैंने राजस्थान के गांवों में सुनी थी। अर्थव्यवस्था का जो कबाड़ा सोनिया-मनमोहन की सरकार के शासन काल में हुआ है, उसका एहसास लोगों को पूरी तरह से हो रहा है अब। महंगे सिर्फ प्याज नहीं हुए हैं, महंगा हो गया है रोजमर्रा के जीवन का सारा सामान इतना कि दिवाली की जो हलचल, जो तामझाम हर साल दिखता है बाजारों में, इस साल नहीं दिखा।

इस निराशा का कारण जानने के बदले राजनीतिक पंडित बेकार मुद्दों के विश्लेषण में लगे रहते हैं। मोदी के विरोधी हर दूसरे दिन एक नया नुक्स उनमें ढूंढ निकालते हैं। सो पिछले सप्ताह पहले तो हम पंडितों ने बिहार के मुख्यमंत्री के उस भाषण का खूब विश्लेषण किया, जिसमें उन्होंने मोदी का मजाक उड़ाया था। मोदी को इतिहास के बारे में इतना कम पता है, नीतीश कुमार ने कहा कि चंद्रगुप्त का वंश उन्होंने गुप्त बताया, जबकि चंद्रगुप्त मौर्य वंश के थे। सिकंदर कभी गंगा नदी तक पहुंचे ही नहीं थे, पर मोदी को यह भी नहीं मालूम और न ही उनको मालूम है कि तक्षशिला का प्राचीन विश्वविद्यालय बिहार का कभी हिस्सा नहीं था।

नीतीश कुमार के इस भाषण का खूब विश्लेषण हुआ और इसके फौरने बाद मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल के बारे में कह दिया डॉ. मनमोहन सिंह के सामने कि अगर वह बने होते, भारत के पहले प्रधानमंत्री, तो इस देश की 'तस्वीर अलग होती, तकदीर भी अलग होती।' अपने प्रिय डॉ. साहिब वैसे तो ज्यादा बोलना पसंद नहीं करते हैं, पर यह बात सुनकर कैसे चुप रहते, सो सुना दिया मोदी को कि सरदार सेक्यूलर थे यानी आप जैसे सांप्रदायिक राजनेता को उनके बारे में बोलने का कोई अधिकार नहीं। स्पष्ट शब्दों में तो नहीं कही प्रधानमंत्री जी ने यह बात, पर उनके मंत्रियों और कांग्रेस प्रवक्ताओं ने बिल्कुल स्पष्ट शब्दों में यह बात कही और हम राजनीतिक पंडित लग गए इस नए मुद्दे का विश्लेषण करने में।

बेमतलब थी सारी बहस, क्योंकि पटेल की विरासत पर हम सबका उतना ही हक है, जितना गांधी जी के विरासत पर है। कांग्रेस के प्रवक्ता, जो आजकल सरदार पटेल को अपनाने की कोशिश कर रहे हैं, भूल रहे हैं शायद कि इसी राजनीतिक दल ने सरदार को बौना करने का काम किया है दशकों से, ताकि नेहरू परिवार का कद ऊंचा दिखे।

इतना वक्त अगर हम बेकार, बेमतलब मुद्दों पर बर्बाद न किए होते पिछले दिनों, तो शायद समझ पाते मोदी की बढ़ती लोकप्रियता के कारण। मेरी नजरों में, इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि मोदी ने अपनी सभाओं में वे मुद्दे उठाए हैं, जिनसे निराशा के इस माहौल में आशा की किरणें जग जाएं। जहां कांग्रेस के बड़े नेता आज भी सिर्फ बातें करते हैं गरीबी हटाने की, मोदी बातें करते हैं संपन्नता और समृद्धि की। ऐसी बातें करके उन्होंने जनता के सामने एक नया आर्थिक सपना रखने का काम किया है, जो बहुत सुनहरा लगता है लोगों को।

मोदी के विरोधियों ने कोशिश की है उनको सांप्रदायिकता के काले रंग में रंग डालने की, लेकिन अभी तक यह रंग उन पर टिका नहीं है। हम जैसे राजनीतिक पंडितों को सोचना चाहिए कि इतने बदनाम राजनेता पर हिटलर होने के इल्जाम,फासीवादी होने के इल्जाम टिक क्यों नहीं रहे हैं। लेकिन हम उलझे रहे हैं बेकार बातों में, जिनसे जनता को कोई मतलब ही नहीं।

0 comments :

Post a Comment

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी स्पेक्ट्रम घोटाला मस्जिद अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी पटना भोपाल सुप्रीम कोर्ट चुनाव कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा धर्म परिवर्तन हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए सुब्रमण्यम स्वामी चीन बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार साध्वी प्रज्ञा हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई दवा उद्योग नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक तमिलनाडु नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल विकीलीक्स आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली मालेगांव विस्फोट अटल बिहारी वाजपेयी अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस असम इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers