ताज़ा समाचार (Fresh News)

Home » , , » हंसराज भारद्वाज आप कांग्रेसी मेढक हो

हंसराज भारद्वाज आप कांग्रेसी मेढक हो

हंसराज भारद्वाज का रिश्ता आगरा, पंजाब, मध्यप्रदेश व हरियाणा की राजनीति से रहा है और ठीक-ठाक वकीलों में भी उनकी गिनती होती है। वे सिद्धार्थ सेन के बाद भारत के कानून मंत्रालय में सबसे लंबे समय तक रहने वाले विधि मंत्री भी रहे हैं।

फिलहाल वे कर्नाटक के राज्यपाल हैं और उन्होंने वहां की सरकार को फिर से बहुमत सिद्ध करने का निर्देश दिया है। सोमवार को तो उन्होंने केंद्र सरकार से कर्नाटक में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश भी कर दी थी। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री येद्दियुरप्पा ने जो विश्वासमत विधानसभा में अर्जित किया है, वह फर्जी है।

इन्हीं हंसराज भारद्वाज ने गोवा और झारखंड में इससे भी बुरे विश्वासमत अर्जित करने के तरीके को न्यायपूर्ण ठहराया था, क्योंकि उनको लगता है कि उनसे ज्यादा न्याय की जानकारी किसी और को नहीं है। कानून की जानकारी के अलावा हंसराज भारद्वाज की सबसे बडी प्रतिभा आलाकमान के चरण-चुंबन करने की रही है। प्रतिदिन हनुमान चालीसा पढने और मंगलवार को दारू नहीं पीने वाले हंसराज भारद्वाज के कर्मकांड दस जनपथ तक पहुंचकर समाप्त हो जाते हैं और हाल ही में आपने वह फोटो भी देखा होगा, जब चालीस साल के राहुल गांधी की कर्नाटक यात्रा के दौरान करीब 74 साल के हंसराज भारद्वाज लगभग 90 अंश के कोण पर झुके हुए नजर आ रहे थे, कांग्रेस के युवराज के ठीक सामने।हंसराज भारद्वाज ने राजनीति में या प्रशासन में या न्यायपालिका के लिए जो करना पडा, सो किया, लेकिन इतना ऐतिहासिक कुछ भी नहीं किया, जिसके लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाए।

उन्हें याद रखा जाएगा, तो बोफोर्स कांड के मुख्य अभियुक्त ओट्टाबियो क्वात्रोच्चि को लगभग निर्दोष करार दे देने के लिए ही। आखिर सीबीआई जांच कर ही रही थी और आमतौर पर लोहे की दीवार से घिरे रहने वाले स्विस बैंकों तक ने क्वात्रोच्चि के दो खातों के नंबर भारत को दे दिए थे,फिर भी हंसराज भारद्वाज को पता नहीं क्या सूझी थी कि उन्होंने सीबीआई के एक अधिकारी को अपने एक कानूनी अधिकारी के साथ लंदन भेजा और लंदन की अदालत में अर्जी देकर भारत सरकार ने अपने ही एक मोस्ट वांटेड अभियुक्त के सारे सील किए हुए खाते खोलने की अपील कर डाली थी।

यानी, आज्ञाकारी होने और वफादारी दिखाने के लिए आलाकमान के सामने बार-बार झुकने में हंसराज भारद्वाज को कभी कोई दिक्कत नहीं आती और कद का फायदा यह मिलता है कि उन्हें झुकने में ज्यादा तकलीफ नहीं उठानी पडती। अब तो वे सीधे खडे होते हैं, तो भी झुके हुए ही नजर आते हैं। बहरहाल, हंसराज भारद्वाज हरियाणा के रोहतक जिले के गडी गांव में पैदा हुए थे और आगरा तथा पंजाब के जालंधर से उन्होंने पढाई की थी। वकालत की पढाई के बाद दिल्ली की तीस हजारी अदालत में किराए के स्टूल और मेज पर बैठकर बहुत मेहनत से वकालत शुरू करने वाले हंसराज भारद्वाज राजनीति में भी आए, क्योंकि उनके पिता जगन्नाथ प्रसाद भारद्वाज देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के टाइपिस्ट थे।

हंसराज भारद्वाज जब कानून की पढाई कर रहे थे, तभी उनके पिताजी स्वर्ग सिधार गए थे और काफी मेहनत करके हंसराज साहब ने वकालत की पढाई पूरी की थी, पर पिताजी के पुण्यों का लाभ तो उन्हें मिलना ही था। दिल्ली की तीस हजारी अदालत की वकालत से समय निकालकर एक दिन वे इंदिराजी के पास पहुंचे और अपने पिताजी द्वारा की गई नेहरूजी की सेवा की याद दिलाई। उन्होंने इंदिराजी के सामने खुद को अनाथ की तरह पेश किया और तीस हजारी अदालत के वकील का प्रवेश इंदिरा गांधी के परिवार में हो गया। आपातकाल के बाद जनता सरकार के दौरान संजय गांधी पर चले मुकदमों की पैरवी हंसराज भारद्वाज ने ही की थी।

ये मुकदमे जनता सरकार द्वारा प्रतिशोध की भावना से हडबडी में तैयार किए गए थे, इसलिए अदालत में टिक नहीं पाए और इसका श्रेय हंसराज भारद्वाज को मिल गया। आजकल हंसराज भारद्वाज के बेटे अरुण भारद्वाज श्रीमती सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट बडेरा और बेटी प्रियंका गांधी के भी वकील हैं। मतलब, मक्खनबाजी खानदानी कारोबार है।कर्नाटक में भी हंसराज भारद्वाज ने जो किया, उसके कानूनी आधार चाहे जो हों, लेकिन दस जनपथ को प्रसन्न करने का कोई अवसर वे छोडना नहीं चाहते। उनके नाम कई बडे विवादों से भी जुडे हुए हैं। आपको याद होगा कि यूपीए की पिछली सरकार में आमतौर पर मुस्कराती रहने वालीं अंबिका सोनी ने भारत सरकार की ओर से बयान दे दिया था कि राम थे भी या नहीं, इसका कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है।

यह बात अंबिका सोनी कोई अपने मन से नहीं बोल रही थीं। उनका बडे से बडा दुश्मन भी उन पर इतिहासकार होने का आरोप नहीं लगा सकता।अंबिका सोनी ने वही कहा था, जो हंसराज भारद्वाज के विधि मंत्रालय ने सर्वोच्च न्यायालय को भारत सरकार की ओर से तैयार एक शपथ पत्र में लिखकर दिया था। इसके बाद लाभ के पद वाला जो विधेयक कानून बनाने के लिए हंसराज भारद्वाज लेकर आए थे, उसमें राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की अध्यक्ष के तौर पर सांसद सोनिया गांधी सीधे फंस गई थीं और उन्हें लोकसभा से त्याग-पत्र देकर फिर से चुनाव लडना पडा था। तब तक आज्ञाकारी और चरणों के दास हंसराज भारद्वाज ने कानून में एक ऐसा प्रावधान जोड ही दिया था कि आइंदा सोनिया गांधी को दोबारा फिर इस तरह की दिक्कत में न फंसना पडे।इन्होंने कर्नाटक जाकर भी कम गुल नहीं खिलाए हैं।

विधानसभा के अध्यक्ष को आज्ञा देना तो छोटा-सा कारनामा है। इसके पहले कर्नाटक के तीन मंत्रियों को भी वे सफाई देने के लिए राजभवन में हाजिर होने का आदेश दे चुके हैं और जब तीनों मंत्रियों ने अपने-अपने वकील भेज दिए, तो भारद्वाज ने चुनाव आयोग से कहा कि इन तीनों को हटाया जाए। चुनाव आयोग के तत्कालीन प्रमुख नवीन चावला ने 25 दिन की देरी की और फिर जवाब दिया कि मंत्रियों को हटाने का कोई प्रावधान नहीं है, तो उन्होंने सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय को पत्र लिखकर नवीन चावला को हटाने की ही सिफारिश कर डाली थी।हंसराज भारद्वाज यूपीए द्वितीय सरकार में भी मंत्री ही रहना चाहते थे, लेकिन सोनिया गांधी की सिफारिश पर उनकी योग्यता और पुरानी वफादारियां देखते हुए उन्हें भाजपा शासित कर्नाटक में राज्यपाल बनाकर भेजा गया।

वे अति-उत्साह से भरे हुए थे और उन्होंने एक तरह से केंद्र सरकार को कुछ समय के लिए ही सही, लेकिन धर्म संकट में तो डाल ही दिया है, कर्नाटक सरकार को बर्खास्त करने की सिफारिश करके। लगता है कि येद्दियुरप्पा को फिर से बहुमत सिद्ध करने का उन्होंने जो निर्देश दिया है, उसके पीछे केंद्र सरकार ही होगी। आखिर, उसे तो हंसराज द्वारा खडे किए हुए धर्मसंकट से निपटना ही था, पर देश समझ गया कि कर्नाटक के राज्यपाल कितने महान हैं।

--आलोक तोमर

0 comments :

Post a Comment

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात जम्मू दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी स्पेक्ट्रम घोटाला मस्जिद अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी पटना भोपाल सुप्रीम कोर्ट चुनाव कर्नाटक सपा आतंकवाद सीबीआई आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला पंजाब महाराष्ट्र हिन्दुराष्ट्र इस्लामाबाद डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना सैयद अली शाह गिलानी अरुण जेटली इंदौर गंगा धर्म परिवर्तन हिंदू गोधरा कांड बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए सुब्रमण्यम स्वामी चीन बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार साध्वी प्रज्ञा हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई दवा उद्योग नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक तमिलनाडु नई दिल्ली नागपुर मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी मायावती लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल विकीलीक्स आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली मालेगांव विस्फोट अटल बिहारी वाजपेयी अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो हरिद्वार गोवा बसपा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी सोहराबुद्दीन केस असम इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक

Google+ Followers