Home » , , » तुलसीदासजी की रचना और कुछ नहीं बल्कि वाल्मीकि रामायण की नकल - प्रो. तुलसीराम

तुलसीदासजी की रचना और कुछ नहीं बल्कि वाल्मीकि रामायण की नकल - प्रो. तुलसीराम

अगर तुलसीदास ने रामचरित मानस आज लिखी होती तो वह साहित्यिक चोरी के मामले में जेल चले गए होते। उनकी रचना और कुछ नहीं बल्कि वाल्मीकि रामायण की नकल है।

यह बात जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के प्रोफ़ेसर तुलसीराम ने दलित साहित्य पर आयोजित दो दिवसीय सेमिनार में कही। सेमिनार का आयोजन साहित्य अकादमी और पटना यूनिवर्सिटी हिन्दी विभाग ने संयुक्त रूप से किया है।

तुलसीराम ने कहा कि नकल होने के बावजूद तुलसीदास की रामचरित मानस काफी लोकप्रिय हुई। कट्टर हिंदू समाज ने इसे इसलिए लोकप्रिय बनाया क्योंकि इसे लिखने वाले तुलसीदास ब्राह्मण थे जबकि वाल्मीकि के दलित होने की वजह से उनकी रचना को अनदेखा कर दिया गया।

उन्होंने यह भी कहा कि प्राचीन काल की गुरुकुल व्यवस्था में सिर्फ ब्राह्मणों और राजपूतों के बच्चों को शिक्षा दी जाती थी। किसी भी गुरुकुल में दलित बच्चों को प्रवेश नहीं दिया जाता था। उन्होंने कहा कि उस समय के समाज ने दलितों वंचितों को शिक्षा से दूर रखने की साजिश के तहत ऐसी व्यवस्था को मंजूरी दी थी

5 comments :

  1. रामचरितमानस यदि नक़ल है तो प्रोफ़ेसर साहब रामावतार चरित (कश्मीरी ) ,भावार्थ रामायण (मराठी) ,कथा रामायण (आसामी), रामावतार (पंजाबी), क्रित्तीवासी रामायण (बंगाली) , बलरामदास रामायण (ओरिया) .................................. को क्या कहेंगे ?

    ReplyDelete
  2. तुलसीराम ने कहा कि नकल होने के बावजूद तुलसीदास की रामचरित मानस काफी लोकप्रिय हुई। कट्टर हिंदू समाज ने इसे इसलिए लोकप्रिय बनाया क्योंकि इसे लिखने वाले तुलसीदास ब्राह्मण थे जबकि वाल्मीकि के दलित होने की वजह से उनकी रचना को अनदेखा कर दिया गया।
    (कश्मीरी ) ,भावार्थ रामायण (मराठी) ,कथा रामायण (आसामी), रामावतार (पंजाबी), क्रित्तीवासी रामायण (बंगाली) , बलरामदास रामायण (ओरिया) ..................................
    ye sab bhi nakal matra hai sahab

    ReplyDelete
  3. चूंकि वाल्मीकि रामायण को समझ पाना सबके बस की बात नहीं है इसलिए क्षेत्रीय भाषाओँ में उसे रूपांतरित किया गया परन्तु हूबहू अनुवाद नहीं. कमसे कम दक्षिण में वाल्मीकि रामायण को ही श्रेष्ठ समझा जाता है. वाल्मीकि जैसे महापुरुष किसी जाति के बंधन से बहुत ऊपर हैं. श्री तुलसी राम जी की सोच संकीर्णता का आभास कराती है.

    ReplyDelete
  4. प्रश्न: प्रो. तुलसीराम ने क्या वाल्मीकि रामायण और रामचरितमानस को कभी स्वप्न में भी देखा है ???
    उत्तर: नहीं | अन्यथा ये ऐसी बात स्वप्न में भी नहीं कहतें |

    रही बात महर्षि वाल्मीकि के सम्मान की, तो आज भी महर्षि वाल्मीकि को भारतीय समाज में जो स्थान प्राप्त हैं वो इस कहावत से स्पष्ट हो जाती है |

    उल्टा नाम जपत जग जाना , वाल्मीकि भये ब्रम्ह सामना|

    शायद इसे तुलसीराम, क्षमा करें इस अज्ञानी को प्रो: कहने में शर्म आती है, ने सुना नहीं होगा |

    ReplyDelete
  5. professr bn jane se koi aadmi gyani nhi bn jata hai yeh sidh kar diya ish bevkuf pro. ne .............

    ReplyDelete

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ जम्मू उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा सीबीआई आतंकवाद आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया धर्म परिवर्तन पंजाब महाराष्ट्र सैयद अली शाह गिलानी हिन्दुराष्ट्र अरुण जेटली इस्लामाबाद मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड दवा उद्योग बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मायावती मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बसपा बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो सोहराबुद्दीन केस हरिद्वार असम गोवा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक