Home » , , » जितने ब्राह्मण पवित्र उतने ही पवित्र हैं दलित भी, हिंदू हैं तो ही भारत हैः संघ

जितने ब्राह्मण पवित्र उतने ही पवित्र हैं दलित भी, हिंदू हैं तो ही भारत हैः संघ


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा है कि अनुसूचित वर्ग का व्यक्ति उतना ही पवित्र है, जितना कि ब्राह्मण कुल में जन्म लेने वाला. उन्होंने अनुसूचित समाज के साथ अन्याय को ईश्वर और भारत के आध्यात्मिक दर्शन के साथ अन्याय बताया है.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा है कि अनुसूचित वर्ग में पैदा हुआ व्यक्ति उतना ही पवित्र है जितना ब्राह्मण कुल में जन्म लेने वाला. उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति के लोगों पर अत्याचार ईश्वर के साथ अत्याचार है, इस देश की मौलिक आध्यात्मिक दर्शन के साथ अन्याय है. नई दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में सोमवार की सायं आयोजित एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में संघ के वरिष्ठ नेता ने कहा कि जिस वक्त इस समाज को अन्याय सहना पड़ा, वह देश का दक्षिणायन रहा. संघ नेता के दक्षिणायन कहने का यहां आशय देश के बुरे दौर से रहा.

डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा कि पाकिस्तान में आज भी वे पांच नदियां(पंचनदियां) बहतीं हैं, जहां पर वेदों की रचना हुई थी. मगर वहां से भारत नष्ट हो गया, क्योंकि वहां हिंदू नहीं हैं. हिंदू हैं तो ही राष्ट्र हैं और हिंदुओं के रहने से ही भारत है. जहां हिंदू हैं, वही भारत है.  डॉ. सूर्यकांत बाली लिखित 'भारत का दलित विमर्श' और 'भारत की राजनीति का उत्तरायण' नामक पुस्तकों का इस दौरान डॉ. कृष्ण गोपाल और केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार) मंत्री प्रह्लाद पटेल ने विमोचन किया.

दलितों के साथ अन्याय देश के दर्शन के खिलाफ

डॉ. कृष्ण गोपाल ने 'दलित विमर्श' पुस्तक पर चर्चा के दौरान दलित शब्द के इस्तेमाल पर असहमति जताई. उन्होंने कहा कि संवधान सभा ने भी दलित शब्द की जगह अनुसूचित जाति शब्द स्वीकार किया था. यह तो अंग्रेजों की चाल थी जो दलित कहकर हिंदू समाज को बांटने की साजिश की गई.

डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं कि देश में काफी समय तक उस समाज(अनुसूचित) के साथ अत्याचार हुए. दरअसल, अतीत में जब भारत पर बाहरियों ने हमले किए तब देश का दक्षिणायन शुरू हुआ.  इस्लाम के आक्रमण के समय आत्मरक्षार्थ हिंदू समाज के सिकुड़ने का दौर शुरू हुआ. दरअसल यह एक ऐसा आक्रमण था जिसके पीछे सिर्फ जीत की इच्छा नहीं बल्कि धर्मांतरण भी था. समाज के सिकुड़ने के दौरान सबसे बड़ी समस्या सामाजिकता की आती है. एकत्रीकरण खत्म होता है, संवाद खत्म होता है. भारत तब कुरीतियों का दास बनता गया. इस दौरान समाज की व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गई. जिसका असर अनुसूचित समाज के लोगों पर भी पड़ा. कहने का मतलब अनुसूचित समाज को उस वक्त परिस्थितिजन्य अन्याय झेलना पड़ा. जबकि अतीत में अनुसूचित समाज के लोगों, शूद्रों को समाज में विशिष्ट स्थान हासिल था. अनेक धर्मग्रंथों की रचना करने वाले शूद्र रहे.



संघ नेता ने कहा कि पुरानी बातें छोड़िए, वर्ष 1980-81 में भी अनुसूचित वर्ग के साथ बुरे बर्ताव की घटना सामने आई. जब  मीनाक्षीपुरम गांव(तमिलनाडु) में भदभाव के चलते कई दलित परिवारों के धर्मांतरण कर लेने का मामला सामने आया था. पता चला था कि  एक अनुसूचित वर्ग के चिकित्सक की पत्नी के सार्वजनिक नल पर रखा मटका छू लेने से पर कुछ लोगों ने अपमानित कर दिया था. अपने खिलाफ इस भेदभाव से दलित समुदाय की भावनाएं आहत हुईं. उन्हें लगा कि यह कैसा समाज है जो हमें सम्मान नहीं देता. बाद में संघ नेताओं ने दौरा कर वहां अनूसूचित वर्ग से हो रहे भेदभाव को खत्म कराया गया. तब जाकर फिर से उन्होंने हिंदू धर्म अपनाया था.

अनुसूचित वर्ग के साथ उत्पीड़न की घटनाओं के बारे में डॉ. कृष्णगोपाल ने कहा कि एक वक्त ऐसा भी था, जब देश में कुछ जगहों पर  तालाब का पानी जानवर तो पी सकते थे मगर अनुसूचित समाज को इसकी आजादी नहीं थी. तब डॉ. अंबेडकर पांच हजार लोगों के साथ महाड स्थान(महाराष्ट्र) पर तालाब का पानी पीने के लिए सत्याग्रह करने निकल पड़े. तब दलित समाज के लोगों को सार्वजनिक स्थलों पर पानी पीने का अधिकार दिलाने के लिए डॉ. अंबेडकर यह सत्याग्रह करने पहुंचे थे.

लंबी दूरी तय कर अंबेडकर के साथ पहुचे लोगों ने जब भोजन बनाया तो स्थानीय लोगों ने उनके भोजन में मिट्टी डाल दिया. इस पर अंबेडकर के साथियों को बहुत क्रोध आया. तब अंबेडकर ने समझाते हुए कहा था कि बैर से बैर खत्म नहीं होता. बाद में सत्याग्रह कर भूखे-प्यासे अंबेडकर लौट आए थे. कृष्ण गोपाल ने कहा कि बहुत समय तक अनुसूचित जाति के लोगों ने कष्ट पाया है. उनमें इसका गुस्सा भी है, जो जायज है. मगर इस भेदभाव को दूर करने के प्रयास भी होते रहे हैं. अतीत में ज्योतिबा फुले, दयानंद से लेकर तमाम महापुरुष इसके लिए आगे आते रहे हैं.

संघ के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल ने कहा कि यहां तक कि अंबेडकर को नासिक के जिस कला राम मंदिर में घुसने नहीं दिया वहां के पुजारी ने हाल में दलितों को बुलाकर पूजा कराई. पुजारी ने कहा था कि हमारे पूर्वजों ने जो भूल की थी,  उसे हम सुधारना चाहते हैं. डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा कि आगे हिंदुओं को तोड़ने के प्रयत्न होंगे. क्योंकि हिंदू ताकतवर लोग हैं. हमें षडयंत्रों से सावधान रहना होगा. विमोचन कार्यक्रम में संघ विचारक अवनिजेश अवस्थी और प्रभात  प्रकशन के प्रभात मौजूद रहे.

लंबी दूरी तय कर अंबेडकर के साथ पहुचे लोगों ने जब भोजन बनाया तो स्थानीय लोगों ने उनके भोजन में मिट्टी डाल दिया. इस पर अंबेडकर के साथियों को बहुत क्रोध आया. तब अंबेडकर ने समझाते हुए कहा था कि बैर से बैर खत्म नहीं होता. बाद में सत्याग्रह कर भूखे-प्यासे अंबेडकर लौट आए थे. कृष्ण गोपाल ने कहा कि बहुत समय तक अनुसूचित जाति के लोगों ने कष्ट पाया है. उनमें इसका गुस्सा भी है, जो जायज है. मगर इस भेदभाव को दूर करने के प्रयास भी होते रहे हैं. अतीत में ज्योतिबा फुले, दयानंद से लेकर तमाम महापुरुष इसके लिए आगे आते रहे हैं.

संघ के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल ने कहा कि यहां तक कि अंबेडकर को नासिक के जिस कला राम मंदिर में घुसने नहीं दिया वहां के पुजारी ने हाल में दलितों को बुलाकर पूजा कराई. पुजारी ने कहा था कि हमारे पूर्वजों ने जो भूल की थी,  उसे हम सुधारना चाहते हैं. डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा कि आगे हिंदुओं को तोड़ने के प्रयत्न होंगे. क्योंकि हिंदू ताकतवर लोग हैं. हमें षडयंत्रों से सावधान रहना होगा.


0 comments :

Post a Comment

Join our WhatsApp Group

Join our WhatsApp Group
Join our WhatsApp Group

फेसबुक समूह:

फेसबुक पेज:

शीर्षक

भाजपा कांग्रेस मुस्लिम नरेन्द्र मोदी हिन्दू कश्मीर अन्तराष्ट्रीय खबरें पाकिस्तान मंदिर सोनिया गाँधी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राहुल गाँधी मोदी सरकार अयोध्या विश्व हिन्दू परिषद् लखनऊ जम्मू उत्तर प्रदेश मुंबई गुजरात दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश श्रीनगर स्वामी रामदेव मनमोहन सिंह अन्ना हजारे लेख बिहार विधानसभा चुनाव बिहार लालकृष्ण आडवाणी मस्जिद स्पेक्ट्रम घोटाला अहमदाबाद अमेरिका नितिन गडकरी सुप्रीम कोर्ट चुनाव पटना भोपाल कर्नाटक सपा सीबीआई आतंकवाद आतंकवादी पी चिदंबरम ईसाई बांग्लादेश हिमाचल प्रदेश उमा भारती बेंगलुरु अरुंधती राय केरल जयपुर उमर अब्दुल्ला डा़ प्रवीण भाई तोगड़िया धर्म परिवर्तन पंजाब महाराष्ट्र सैयद अली शाह गिलानी हिन्दुराष्ट्र अरुण जेटली इस्लामाबाद मोहन भागवत राष्ट्रमंडल खेल वाशिंगटन शिवसेना इंदौर गंगा हिंदू गोधरा कांड दवा उद्योग बलात्कार भाजपायूमो मंहगाई यूपीए साध्वी प्रज्ञा सुब्रमण्यम स्वामी चीन बी. एस. येदियुरप्पा भ्रष्टाचार हैदराबाद कश्मीरी पंडित काला धन गौ-हत्या चेन्नई तमिलनाडु नीतीश कुमार शिवराज सिंह चौहान शीला दीक्षित सुषमा स्वराज हरियाणा हिंदुत्व अशोक सिंघल इलाहाबाद कोलकाता चंडीगढ़ जन लोकपाल विधेयक नई दिल्ली नागपुर मायावती मुजफ्फरनगर मुलायम सिंह रविशंकर प्रसाद स्वामी अग्निवेश अखिल भारतीय हिन्दू महासभा आजम खां उत्तराखंड फिल्म जगत ममता बनर्जी लालू यादव अजमेर प्रणव मुखर्जी बंगाल मालेगांव विस्फोट विकीलीक्स अटल बिहारी वाजपेयी आशाराम बापू ओसामा बिन लादेन नक्सली अरविंद केजरीवाल एबीवीपी कपिल सिब्बल क्रिकेट तरुण विजय तृणमूल कांग्रेस बजरंग दल बसपा बाल ठाकरे राजिस्थान वरुण गांधी वीडियो सोहराबुद्दीन केस हरिद्वार असम गोवा मनीष तिवारी शिमला सिख विरोधी दंगे सिमी इसराइल एनडीए कल्याण सिंह पेट्रोल प्रेम कुमार धूमल सैयद अहमद बुखारी अनुच्छेद 370 जदयू भारत स्वाभिमान मंच हिंदू जनजागृति समिति आम आदमी पार्टी विडियो-Video हिंदू युवा वाहिनी कोयला घोटाला मुस्लिम लीग छत्तीसगढ़ हिंदू जागरण मंच सीवान

लोकप्रिय ख़बरें

ख़बरें और भी ...

राष्ट्रवादी समाचार. Powered by Blogger.

नियमित पाठक